पहली चुदाई के मज़े छोटे अंकल के साथ लिए

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम रितु है | मैं रहने वाली भोपाल की हूँ | मैं आज सेक्सी कहानी पढने वालो की सेवा में एक अपनी सच्ची कहानी को लेकर आई हूँ | ये मेरी पहली चुदाई की कहानी है | इस कहानी में मैंने अपनी सील अपने अंकल से तुडवाई थी | ये कहानी तब की है जब में 20 साल की थी | अब मेरी उम्र 21 साल है | मैं दिखने में ज्यादा गोरी नही हूँ पर मेरा फिगर सेक्सी है | मेरे बड़े बड़े बूब्स और मेरी काफी बड़ी गांड है जोकि ऊपर की ओर उठी रहती है | मैं अपनी कहानी शुरू करने से पहले अपने अंकल के बारे में बता देती हूँ | मेरे अंकल मझसे 1 साल छोटे हैं | पर वो मुझसे दिखने में बड़े लगते हैं | वो दिखने में काफी गोरे और स्मार्ट हैं | उनका शरीर गठीला है | दोस्तों में आज जो कहानी शुरू प्रस्तुत करने जा रही हूँ मुझे उम्मीद है की आप लोगो को पसंद आयेगी | अब मैं बिना टाइम बर्बाद किये सीधे अपनी कहानी पर आती हूँ |

मेरे घर में मैं और मेरी मम्मी रहती हैं | घर में दादा दादी भी रहते हैं पर वो अब ज्यादा बूढ़े हो गए है | इसलिए मेरे दादा दादी अपने कमरे मे ही बैठे रहते हैं | मेरा पापा पुलिस में हैं और उनकी पोस्टिंग दुसरे शहर में हुई है | वो इसलिए हमारे साथ नही रहते हैं | मेरे पापा हर महीने में एक बार घर आते हैं | हम लोगो के साथ मेरे एक अंकल रहते हैं जिनका नाम रोहन है | मेरे अंकल अभी 11वीं में पढ़ते हैं | मैं अब 12 में आ गयी हूँ | जैसा की मैं आप लोगो को बता चुकी हूँ कि मैं अपने अंकल से बड़ी हूँ | इसलिए मैं उनको अंकल नही बल्कि उनके नाम से बुलाती हूँ | रोहन की मस्त बॉडी है | मैं रोहन के साथ में कॉलेज जाती हूँ | मेरे क्लास में बहुत लड़के हैं और लड़कियां भी हैं | मेरी दो सेहली हैं एक नाम सीमा है और दूसरी का नाम रिंकी हैं | मेरी दोनों सहली के बॉयफ्रेंड है इसलिए मैं भी अपना बॉयफ्रेंड बनाना चाहती थी | मेरी क्लास का एक लड़का है जो मुझे बहुत अच्छा लगता था | दोस्तों उसका नाम परदीप था | मैं जब क्लास में होती थी तो उससे बात किया करती थी | पर वो मुझसे ज्यादा बात नही करता था | एक दिन की बात है जब मैंने उसे बताया की मैं तुमसे प्यार करती हूँ तो उसने मुझे माना कर दिया | फिर बोला की तुमसे कोई प्यार नही करेगा अगर कोई तुमसे प्यार करता भी है तो तुम्हारे पापा उसे पकड कर जैल में बंद कर देंगे | मेरे पापा एक बड़े पुलिस वाले हैं | इसके डर की वजह से मेरा कोई बॉयफ्रेंड नही है न ही मुझे कोई लाइन मारता था | सब मुझसे डरते थे इसलिए मुझसे कोई लकड़ा दोस्ती नही करना चाहता था |

एक दिन की बात है जब मैं अपने घर में थी | उस दिन रोहन बाथरूम में नहा रहा था | मैं वहाँ से निकली तो बाथरूम का दरवाजा खुला था | मैं रोहन को नहाते देख मेरे मन के अरमान जग गए और मैंने सोचा की रोहन अंकल को पटा लेती हूँ | उस दिन मैंने सोचा की किसी और को पटाने से अच्छा है की मैं अपने छोटे अंकल पर ही लाइन मारूं |अगर पट गए तो मुझे बॉयफ्रेंड का सुख घर में ही मिल जायेगा | उस दिन से मैं रोहन से ज्यादा ही करीब और प्यार से बात करती थी | मैं उससे अब मजाक भी कर दिया करती थी | वो मुझसे छोटे थे इसलिए मैं उनको अंकल नही बोलती हूँ | उस टाइम वो भी मझसे मजाक किया करते थे | उसके कुछ दिन के बाद की बात है जब उनके और मेरे बोड के एग्जाम आने वाले थे | उस टाइम मैं और रोहन साथ में ही पढ़ते थे | जब मैं रोहन के साथ बैठ कर अपने रूम में पढ़ते थे | मैं उस टाइम रोहन से ज्यादा ही मस्ती किया करती थी | दोस्तों उस दिन की बात है जब मैं और रोहन एक दुसरे से मजाक कर रहे थे | उस दिन मैंने मजाक में रोहन के लंड को पकड लिया और दबा दिया | वो मुझे पर बहुत गुस्सा हुवा तो मैं बोली देख रोहन किसी से कुछ कहना मत अगर तेरा मन नही मान रहा है | तू मेरे बूब्स दबा ले | वो ये बात मान गया और मुझे बेड पर गिरा कर मेरे बूब्स को अपने दोनों हाथो में पकड कर दबा दिया | मुझे उस दिन बहुत अच्छा लगा की मेरी चाल कामियाब हो गयी है | अब हम रोज ही साथ में पढ़ते थे और वहीँ बेड पर वो मेरे बूब्स को दबाता और कपड़े के ऊपर से मुंह में रख कर चूसता था | जब वो मेरे दूधो को मुंह में रख कर चूसता तो मुझे बहुत अच्छा लगता था | अब मैं और रोहन इस तरह रोज ही मस्ती करते थे | जब वो मेरे बूब्स को दबता था तो मैं उसके लंड को पैंट के ऊपर से दबाती थी | उसके कुछ दिन बाद की बात है | जब रोहन ने मुझसे कहा की आज कुछ और करते हैं वो रोज करके मज़ा बहुत आता है | मैं समझ गयी की रोहन क्या कह रहा है | उसके मुंह से ये बात सुनकर मुझे अच्छा  बहुत लगा | पर मैंने उसे उस दिन माना कर दिया और कहा की आज नही फिर कभी करना | वो ये बात मान गया |

और कहानिया   एक रात की गलती

दोस्तों उसके 3 दिन बात की बात है | जब मेरी चूत में कुछ ज्यादा ही आग लगी थी | उस दिन जब रोहन और मैं साथ में पढाई कर रहे थे तो उस रात हम दोनों को पढाई करते हुए 12 बज गए | मैं उस रात रोहन के पास में गयी और उसके लंड को सहलाने लगी | वो मेरी टांगो को सहलाने लगा | हम दोनों एक दुसरे को सहला रहे थे | फिर रोहन ने मुझे अपनी और खीच लिया और रोहन ने मेरी होठो पर अपनी होठो को रख कर मेरी होठो को चूसने लगा | वो मेरी होठो को मुंह में रख कर चूस रहा था | मैं उसकी होठो को चूस रही थी | वो मेरी मस्त रसीली होठो को मुंह में रख कर चूस रहा था साथ में मेरे मस्त चिकने बूब्स को हाथ में पकड कर कपडे के ऊपर से दबा रहा था | वो मेरी होठो को ऐसे ही कुछ देर तक चूसने के बाद उसने मेरे कपडे निकाल दिए | मैं ब्रा और पैंटी पहनती हूँ जिससे मैं उसके सामने ब्रा और पैंटी में आ गयी | वो मेरे बूब्स को कपडे के ऊपर से ही दबाता था | जब उसने मेरे बड़े और गोल दूधो को ब्रा में कैद देखा तो मेरे गले में लिपट कर किस करते हुए मेरी ब्रा के हुक को खोल दिया | जिससे मेरे बड़े और चिकने बूब्स उसके सामने आ गए | वो पहले को मेरे दोनों बूब्स को अपने दोनों हाथो में पकड कर दबाने लगा | फिर उसने मेरे एक दूध को अपने मुंह में रख लिया और जोर जोर से चूसने लगा | मैं उसके सर को पकड कर अपने दूध को उसके मुंह में देकर चुसाने लगी | वो मेरे एक दूध को मुंह मे रख कर दबाते हुए चूसने लगा साथ में दुसरे दूध को दबाने लगा | मैं सेक्सी आवाजे करती हुई बेड पर इधर उधर हो रही थी | वो मेरे दूध को जिस तरह से चूस रहा था | मेरी चूत में तो आग लग गयी थी | अब मुझे कुछ नही दिख रहा था और मैंने रोहन से कह ही दिया | यार रोहन अब जल्दी कर वो समझ गया की मैं क्या कह रह हूँ और उसने अपने कपडे निकाल दिए | फिर अपने लम्बे और मोटे लंड को हाथ में पकड कर हिलाने लगा | रोहन ने मेरी टांगो को पकड कर मुझे अपनी और खीच लिया | मैंने अपनी टांगो को फैला दिया और रोहन मेरी टांगो के बिच में खड़ा होकर अपने लंड को मेरी चूत के ऊपर रख कर रगड़ने लगा | वो मेरी चूत पर अपने लंड को ऐसे ही कुछ देर तक रगड़ने के बाद उसने मेरी चूत में एक ही धक्के में घुसाने की कोशिश की पर मेरी चूत टाईट होने की वजह से उसक लंड बाहर निकल गया | उसने मेरी चूत में थूक लगा कर दुबारा मेरी चूत में लंड को घुसा दिया | मैं चीख पड़ी उई माँ मर गयी.. यार निकाल लो मैं मर जाउंगी. पर वो मेरी कोई बात न सुनते हुए मेरी चूत में धीरे धीरे अपने लंड को अन्दर बाहर करते हुए मुझे चोदने लगा | रोहन मुझे ऐसे ही धीरे धीरे धक्को के साथ चोद रहा था | उसके कुछ देर बाद मैं भी मज़ा लेती हुई चुदने लगी | वो मेरी कमर को पकड कर अपनी और खीच कर मेरी चूत में जोरदार धक्के मारने लगा | मैं ऊ ऊ ऊ ऊ.. ह ह ह ह ह…. अ आ अ अ…  सी सी सी..  ह ह ह ह ह.. की सिसकियाँ लेने लगी | वो मेरे दोनों दूध को अपने हाथ में पकड कर जोर जोर से मुझे चुदने लगा | मैं  सेक्सी आवाजे करती हुई अपनी चूत को सहला रही थी | वो मुझे ऐसे ही 10 मिनट तक चोदने के बाद मेरी चूत से लंड को निकाल कर बेड पर लेट गया | मैं उसके लंड पर अपनी चूत को रख कर बैठ गयी और ऊपर नीचे होती हुई चुदने लगी | जब मैं उसके लंड पर ऊपर नीचे होती हुई चुद रही थी तो मेरे बूब्स जोर जोर से उछल रहे थे | वो मुझे ऐसे ही कुछ देर तक चोदता रहा | फिर 15 मिनट की मस्त चुदाई के बाद वो झड़ गया |  मैं उस रात अपने छोटे अंकल से अपनी चूत की पहली चुदाई कराई थी | हम दोनों ने अपने अपने कपडे पहन लिए और लेट गए जब मैं रोहन के पास लेट गयी तो वो मेरी होठो पर किस करने लगे | हम दोनों ऐसे ही बाते करते हुए सो गए | अब रोहन मुझे मौका मिलने पर मेरी चुदाई करता हैं और मुझे रोहन के मोटे लंड को अपनी चूत में लेने में मज़ा आता है |

और कहानिया   गन्दी पड़ोसन सविता भाबी

धन्यवाद्……

Leave a Reply

Your email address will not be published.