बुज़ुर्ग गांड चुदाई

आपको यह नयी कहानी पसंद आई या नहीं, मुझे मेल करके जरूर बताएं कि आपको कहानी कैसी लगी. कहानी के अंत में आपको मेरी मेल आईडी मिल जाएगी.

दोस्तो, पहले मैं अपने बारे में आपको बता देता हूँ, मेरी हाइट 5 फिट 6 इंच है. मेरा रंग एकदम गोरा है, शरीर पर हल्के बाल हैं और मेरा वजन 60 किलो है. मेरे लंड की लंबाई लगभग 8 इंच और मोटाई 2.5 इंच होगी.

मुझ पर लड़कियां मरती हैं. लेकिन वो नहीं जानती कि मैं अंकलों को पसंद करता हूँ और उनकी गांड मारता हूँ.

यह बात आज से दो महीने पहले यानि 28-01-2019 की है. जनवरी के महीने में भारी ठंड का मौसम था, मैं अपने ऑफिस से शाम के समय अपनी बाइक से वापस घर लौट रहा था. मेरे घर और ऑफिस की दूरी 10 किलोमीटर है और रास्ते में एक बहुत बड़ा पार्क पड़ता है, जहां शाम को बहुत से लोग घूमने आते हैं.

मैंने सोचा कि थोड़े देर पार्क में आराम करता हूँ, फिर घर निकलूंगा. मैंने अपनी गाड़ी पार्किंग में पार्क की और पार्क के अन्दर घूमने चला गया. चूंकि शाम का समय था, तो पाक में थोड़ा अंधेरा सा हो गया था. वहां काफी लोग घूम रहे थे.

मैं आपको यहां एक बात बताना चाहता हूँ कि इस पार्क में ज्यादातर ‘गे’ लोग शाम के समय घूमने आते हैं. जिनके चक्कर में मुझे इस पार्क में जाना अच्छा लगता है. मेरी तलाश भी ऐसे ही किसी आदमी को लेकर रहती थी कि कोई मिल जाए जो मुझसे गांड मरवा ले.

इस जुगत में मैं घूमते घूमते पार्क के बहुत अन्दर जाकर एक कुर्सी पर बैठ गया और अपना मोबाइल निकाल कर फेसबुक के पोस्ट पढ़ने लगा.

कुछ देर बाद मैंने देखा कि वहां पर 4 अंकल साथ में घूम रहे थे, सभी बहुत खूबसूरत थे और सभी अमीर घर के लग रहे थे. सभी की उम्र 50 से ऊपर लग रही थी.

उनमें से एक अंकल तो इतने खूबसूरत लग रहे थे कि उन्हें देखकर मैं अपने आपको रोक नहीं पा रहा था. उनकी हाइट लगभग 6 फिट होगी, रंग एकदम गोरा, मांसल बॉडी और बेहद हस्ट-पुष्ट थे. उनका चेहरा बहुत चमक रहा था. उनके चेहरे पर बड़ी काली मूछें बहुत प्यारी लग रही थीं.

मैं मन ही मन सोच रहा था कि काश ये अंकल मुझे मिल जाएं, तो मुझे जन्नत का सुख मिल जाएगा. मैं बार बार उनकी तरफ देखकर मुस्करा रहा था, उन्होंने भी 1-2 बार मेरी तरफ देखकर मुस्कराया.

और कहानिया   बस में गांड चुडगयी भाग 2

पहले तो मुझे लगा कि अंकल से लाइन नहीं मिलेगी, लेकिन वह मेरे दिल में बस गए थे और मैंने सोच लिया था कि चाहे कुछ भी हो जाए … आज मैं इनको पटाकर ही रहूँगा.

थोड़ी देर यही सिलसिला चलता रहा, फिर वो चारों अंकल घूमते घूमते पार्क के और अन्दर जाने लगे.
मैं भी वहां से उठा और उनके पीछे-पीछे जाने लगा.

चारों अंकल आगे गए और वहां पेशाब करने लगे. मैं भी पीछे से गया और उन खूबसूरत अंकल के साइड में जाकर खड़ा हो गया. मैं पेशाब करने का बहाना बनाकर खड़ा हो गया और उनको देखने लगा.

अंकल मुझे देखकर मुस्कराये और उन्होंने आंख मारकर बाहर मिलने का इशारा कर दिया. मेरे मन में लड्डू फूटने लगे, मुझे लगने लगा कि अब मेरा काम बन गया. आज मुझे जन्नत का सुख मिल ही जाएगा.

फिर मैं जल्दी से वहां से निकलकर पार्क के मेन गेट पर आकर खड़ा हो गया. थोड़ी देर बाद वो चारों अंकल बाहर आए और अपनी-अपनी बाइक उठाकर चले गए.

मैं परेशान हो गया कि ये क्या हो गया … ये तो चले गए. मैंने अपना मोबाइल निकाला और वहीं अपनी बाइक पर बैठकर मोबाइल चलाने लगा.

एक मिनट बाद मैंने देखा कि वही खूबसूरत अंकल वहां वापस आकर अपनी बाइक पार्क कर रहे हैं. मैं बहुत खुश हुआ और दौड़कर उनके पास गया.

मैं बोला- अंकल आप कहां चले गए थे? मैं बहुत परेशान हो गया था कि अब आपसे कैसे मिलूंगा.
अंकल बोले- अरे अरे … परेशान मत हो … मैं आ गया न. चलो चलकर अन्दर बैठते हैं.

हम दोनों पार्क के अन्दर चले गए और वहां लगी हुई कुर्सी पर बैठ गए. वहां बहुत कम रोशनी आ रही थी, तो हम दूर से किसी को नजर नहीं आ रहे थे.

अंकल ने मेरी जांघों पर हाथ फेरकर कहा- मैंने तुम्हें बहुत इंतजार कराया न!
मैं बोला- नहीं अंकल … कोई बात नहीं, आप आ गए, मुझे बहुत खुशी है.

फिर वो मुझसे पूछने लगे- आप कहां रहते हो? क्या करते हो?
उनके इन सब सवालों का मैंने जबाब दिया.

फिर मैंने उनसे कहा- अंकल आप बहुत सुंदर हो और मैंने आज तक आपसे सुंदर कोई नहीं देखा. मैं आपको किस करना चाहता हूँ.

अंकल बोले- आप भी बहुत सुंदर हो बेटा, आपको मेरे साथ जो करना है, सब कर सकते हो.

और कहानिया   दीपाली की ख़ूबसूरत चुत मिलगया 2

मैंने अंकल के गोरे-गोरे गालों पर जोरदार किस किया. जबाव में अंकल ने भी मुझे जबरदस्त किस किया और मेरे होंठ चूसने लगे. मैं मानो सातवें आसमान पर था, इतना मजा मुझे पहले कभी नहीं आया था.

हम दोनों किस करने में इतने डूब गए कि पता ही नहीं चला, कब 10 बज गए और पार्क बन्द होने की सीटी बज गई.

अंकल ने मुझसे कहा- बेटा चलो, अब हमें चलना चाहिए … क्योंकि पार्क बन्द होने वाला है, बाहर चलकर बात करते हैं.

अंकल और मैं पार्क से बाहर आ गए. अंकल बोले- मैं यहीं पास में ही रहता हूँ और मेरे घर के सभी लोग अभी बाहर गए हुए हैं, तुम्हें एतराज न हो तो मेरे घर चलो.

मैंने तुरंत हां कर दी. हम दोनों उनके घर आ गए. उनका घर बहुत ही आलीशान बना हुआ था और वह बहुत ही अमीर थे. वो मुझे अपने घर के दूसरे फ्लोर पर ले गए.

बहुत ठंड थी तो अंकल ने कहा- पहले चाय पी लेते हैं, फिर मजे करेंगे.
मैंने कहा- ठीक है अंकल.

अंकल चाय बना लाए और हमने आराम से बैठकर चाय पी.

फिर अंकल बोले- अब रात ज्यादा हो गई है, आज तुम यहीं रुक जाओ.
मैंने कहा- ठीक है.

उन्होंने ऑनलाइन खाना ऑर्डर किया, कोई 15 मिनट में गरमा-गरम खाना आ गया और फिर हम दोनों ने पेट भर खाना खाया.

खाना के बाद हम एक ही रजाई ओढ़कर बैठ गए.

मैंने अंकल से पूछा- अंकल आपकी उम्र क्या है?
वह बोले- अभी 57 वां साल चल रहा है.

फिर उन्होंने यही सवाल मुझसे पूछा, तो मैंने बताया- मैं 26 साल का हूँ.
अंकल ने मुझे किस करते हुए कहा- अभी तक कितने लोगों की मार चुके हो?
मैंने कहा कि अंकल अभी तक मैं 8 लोगों की गांड मार चुका हूँ.
वो बोले- अच्छा, मेरा 9वां नंबर होगा?
मैंने मुस्कराते हुए कहा- हां.

फिर बातें करते करते अंकल ने रजाई के अन्दर मेरा लंड पकड़ लिया और बोले- तुम्हारा तो बहुत बड़ा है यार, इससे तो मेरी फट जाएगी.
मैंने कहा- घबराइये मत अंकल जी, मैं प्यार से करूंगा.
अंकल बोले- चलो अब तुम मेरे कपड़े उतार दो और मैं तुम्हारे कपड़े उतारता हूँ.

मैंने झट से अंकल के सारे कपड़े उतार दिए और अंकल ने भी मेरे सारे कपड़े उतार दिए. हम दोनों एकदम नंगे थे, ठंड और भी तेज लगने लगी.

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares