तुशन मे कुँवारी स्टूडेंट सोमया को चोद लिया

मेरा नाम अनिल है आगे 24य. है जैसा की आप लोग को पता है की मई एक टीचर हू घर मे जा क टुटीओन पढ़ता हू सो घर मे जा क पढ़ने से ठीक तक कमाई हो जाती है दूसरा कभी कभी स्टूडेंट की मम्मी बुआ आंटी से भी रिस्ते बन जाते है खैर अब मई आपको एक मजेरदार स्टोरी बटौगा जो मेरे ओर मेरी एक स्टूडेंट क साथ हुई थी करीब 15 महीने पहले लास्ट एअर जुलाइ मे मुझे एक टुटीओन पढ़ने का ऑफर मिला लड़की को पढ़ना था 9त मे इंग्लीश मीडियम की स्टूडेंट थी 1200र्स./मंत मे बात हुई मई पढ़ने जाने लगा वो लड़की सोमया 14 साल की थी बहुत गोरी स्माइल गजब की, छोटे छोटे दूध,
छोटी सी ही गांद लेकिन लंबे बाल कमर तका आते थे वो बस जवान हो रही थी मैने उसको सिर्फ़ 4 माह पढ़ाया उसके बाद पर्सनल प्राब्लम क कारण मैने पढ़ना चोर दिया फिर भी उसके अच्छे मार्क्स आए तो इस साल भी मई उसको पढ़ने क लिए बुलाया गया गर्मियो की चुट्टियो क बाद जुलाइ मे करीब 5 महीने पहले जब मैने उसको देखा तो डांग रह गया जिस लड़की को मैने पढ़ना छोरा था उसमे ओर इस वक़्त जो लड़की थी उसमे काफ़ी बदलाव कुछ ही महीनो मे आ गए उसके दूध निकल आए थे गांद भारी हो गई चेहरा जवानी से खिल गया था वो बिल्कुल जवान हो गई थी भरा पूरा बदन था किसी क भी सपने मे आ जाए तो लंड का पानी निकल जाए टमाटर से गाल.
कोई भी उसके इस रूप को देख क मचल उठता वेल मैने उसको पढ़ना सुरू कर दिया इस स्साल मई उसको पढ़ने की जगह खुद उसको पढ़ने लगा हर वक़्त उसके मांसल बॉडी को घूर्ने मे लगा रहता मई कोसिस करता की कैसे भी उसको टच करू इसी कोसिस मे मे मई कई बार उसके गाल को सहलाता या पीठ मे हाथ फेर देता एक दिन सोमया लोवर पहन कर पढ़ने आई कुछ देर बाद मेरी नज़र साइड से उसके लोवर पे गई लोवर तोड़ा नीची को था उसने पनटी नई पहनी थी मैने मौका देख क उसके लोवर मे 4 उग्लिया डाल क पकड़ा ताकि उसकी कमर या जाँघ टच कर पाऔ ओर उपर को कर दिया वो बोली.

सॉरी मैने कहा अंदर कुछ नई पहना ओर ये नीची सरक गया वो सारम से सर झुका क मूह फेर क सयद मुस्कुरा गई मैने तभी कहा की इसमे किसी की ग़लती नई है तुम्हारी स्किन ही इतनी सिल्की है की कपड़े सरक जाते है जैसा नाम वैसा ही सरीर वो मुझे देखने लगी मैने उसके चेहरे मे हाथ फेर क कहा सवाल लगाओ उस दिन उसने बड़े आनमने ढंग से पढ़ा नेक्स्ट दे से मुझे उसके बिहेव मे बदलाव दिखने लगा वो मुझसे सात क बेत्ने लगी जब कोई आता तो वो सरक क दूर बेत जाती 3,4 दिन मे मुझे अहसास.
हो गया की अगर इसको ढंग से हॅंडल कर लिया जाए तो फस जाएगी मैने बहुत सोचा क्या करू फिर मेरे दिमाग़ मे आइडिया आ गया मई नेक्स्ट दे जब पढ़ने गया तो उसकी संस्कृत की बुक मे चुपके से लड़के लड़की की सेक्स सीन वाली पतली सी बुक रख दी क्योकोई मई जनता था इसको संस्कृत समझ नई आती तो वो बुक कम पढ़ती है नेक्स्ट दे मैने उसको पढ़ना सुरू किया करीब 20 मीं. पढ़ने क बाद मैने उससे कहा सोमया आज संस्कृत पढ़ेगे बुक निकालो उसने बुक निकली मैने कहा 7त चॅप्टर खोलो.
उसने ज्यो ही बुक खोली तो वो छोटी सी बुक निकल आई वो चॉक गई ओर हड़बड़ा क छुपाने लगी मैने कहा क्या छुपा रही हो प्रोग्रेस रिपोर्ट छुपा रही हो दिखाओ लाओ इधर वो नई बोली लेकिन इसके पहले वो कुछ कर पाती मैने दोनो बुक उसके हाथ से चीन ली ओर अंजान बन क खोल क देखने लगा मैने जैसे ही वो बुक देखी तो कहा ओह मी गोद सोमया तुम ये बुक देखने लगी हो अभी से वो सहम सी गई नो नो सिर वो सिर मुझे पता नई कहा से ये आई मैने कहा सच बताओ कहा से पाई ये वरना अभी तो मैने देखी है अब पापा मम्मी को दिखौगा वो क्या बोलती.
वो रुआसी हो क बोली सच मे सिर मई नई जानती कहा से ये मेरे बेग मे आई मैने कहा लो रख लो इसे ओर जिससे लाई उसी को लौटा देना ओर खुद अधूरा पढ़ा क निकल आया नेक्स्ट दे वो डारी डारी मेरे पास पढ़ने आई मैने तोड़ी देर पढ़ने का नाटक किया फिर पूछा वो बुक वापस की या नई वो बोली सिर मई नई जानती कहा से आई वो बुक मेरे पास मई बोला कहा गई वो बुक लाओ मुझे दो मई फेक आओगा वो बोली. सी वो तो मैने अंदर छुपा दी मैने दाता कहा नालयक जहा ना फासना हो वाहा फासेगी जाओ ले क आओ वो जल्दी से गई ओर खाली हाथ वापस आई मैने कहा दो कहाँ गई बुक तो उसने सूट मे हाथ डाला ओर सलवार मे फासी बुक निकल क दी मैने कहा गुड छुपाने. क तरीके भी सीख गई वो उदास सीट ही मैने बुक को जेब मे रख लिया कहा क्या किया इस बुक का कल से अब तक वो चुप थी मैने कहा तुमने देखी है ना ये कल सच बताओ वो दर आई बोली हा देखी थी मैने पूछा वॉट देखी थी क्या देखा वो बोली उसमे गंदी फोटो थी मैने कहा सारी देखी वो हा बोली तो मैने कहा कैसे पता ये गंदी है उसका जवाब सुन क मई खुस हो गया वो बोली पापा मम्मी चुप क रात मे करते है मेरा दाव साहिब बेत गया मैने कहा ओह तो रात्मे जागने भी लगी हो वो मुझे देखने लगी वो बोली नई सिर वो ग़लती से देखा था मैने कहा बढ़िया क्या कुछ अच्छा लगा या यू ही तो वो सर्मा गई
मैने आइडिया लगा लिया की ये मस्त हो चुकी है वो सब देख क मैने दोबारा कहा तो वो बोली सब कुछ जो बुक मे था मैने हूँ कहा ओर बोला कभी किया तो नई ये सब वो नई सिर नई किया मैने उसके कंधो मे हाथ रख क कहा देखो सोमया मुझे बताओ मई सब कुछ सही कर डुगा घर मे किसी को पता ना चलेगा वो बोली मैने कुछ नई किया सिर मैने ठीक है कहा ओर उस दिन निकल आया नेक्स्ट 2 दिन तक मई उसको पढ़ने ना जा पाया 3र्ड दे मई गया वो जब आई तो चुप थी मुझसे पूछा आप 2 दिन क्यू नई आए मैने कहा तुम झुत बोलती हो इसलिए मई नई आया वो बोली सच मे सिर मैने कोई झुत नई
बोला बस एक बात छुपाई मैने कहा क्या वो बोली सिर इस साल गर्मियो मे मौसी क यहा गई थी वाहा पर दीदी ने मुझे गंदी गंदी बाते की ये सब बताया था ओर कहा था की अगर तुम रात मे जाग क मम्मी पापा को देखोगी तो ज़्यादा मज़ा आएगा इसीलिए मैने वो देखा था मैने कहा ओर क्या हुआ वाहा सच बताना वो बोली दीदी ने एक लकड़ी का डंडा मुझसे अपनी उसमे डलवाया था मैने कहा ओह गोद मैने कहा ओर तो वो बोली दीदी ने मेरी इसमे भी डाला था मैने कहा.

और कहानिया   किटी पार्टी के माज़े

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares