स्कूल टीचर की प्यासी चुत के अंदर पानी डाला

फिर मेडम ने मुझसे कहा की अब तुम्हे ज़्यादा मेहनत करने की ज़रूरत है, क्योंकि अब तुम्हारे पापर बहुत नज़दीक आ रहे है तो मैंने कहा की मेडम ठीक है और फिर में एकदम चुपचाप एकदम सीधे बच्चे की तरह बैठकर पढ़ने लगा और जब एग्जाम को 4 दिन बाकी रह गये तो मेडम मुझे दूसरे बच्चो से ज़्यादा पढ़ाने लगी वो मुझे उनसे एक घंटा ज़्यादा पढ़ाती थी और हर रविवार को मेडम च्छुतटी किया करती थी, लेकिन फिर भी उन्होंने मुझे रविवार को अपने घर पर बुला लिया और कहा की तुम्हे आज से एक घंटा ज़्यादा पढ़ना है तुम अपना मान लगाकर पढ़ाई करो वरना फेल हो जाओगे.

में उनके पास करीब टीन घंटे तक लगातार पढ़ता रहा और फिर मेडम ने कहा की तुम्हारे पेपर में अब दो दिन रह गये है इसलिए घर पर भी बैठकर इसकी तैयारी करना और खेलने कूदने की कोशिश मत करना और फिर भी अगर तुम्हे कोई समस्या हो तो मेरे पास आ जाना. में अपने घर पर ही दो दिन तक मान लगाकर पढ़ाई करता रहा, क्योंकि सुबह मेरा गणित का सबसे मुश्किल पेपर था, लेकिन वो पेपर मेरा बहुत अच्च्छा रहा क्योंकि मैंने गणित की बहुत अच्च्ची पढ़ाई की और फिर पेपर दिया था और उसके बाद मेरे सभी पेपर बहुत अच्च्चे गये क्योंकि मैंने उनकी भी पढ़ाई बहुत मान लगाकर की थी और इसलिए उसका रिज़ल्ट जल्दी आ गया और फिर में बहुत अच्च्चे नंबर लेकर पास हो गया और में इसी खुशी में मेडम को मिठाई देने उनके घर पर चला गया.

मेडम उस दिन की तरह आज भी अपने पति से लड़ रही थी क्योंकि उस दिन दरवाजा खुला हुआ था तो मुझे सब बातें साफ साफ सुनाई दे रही थी और में दरवाजे के पीच्चे खड़ा होकर वो सब कुच्छ सुन रहा था. तो मेडम उनसे कह रही थी की तुम में ही कोई कमी है तभी तो तुम मुझे अब तक कोई बच्चा नहीं दे सके? तो उसने कहा की इसमें में क्या कर सकता हूँ? तो मेडम ने कहा की में तुम्हारा यह जवाब पिच्छाले चार साल से सुन रही हूँ प्लीज़ अब तो कुच्छ करो, बाहर सब लोग मेरा मज़ाक उड़ाते है और मुझे अजीब नज़रों से देखते है और वो इतना कहकर ज़ोर ज़ोर से रोने लगी.

और कहानिया   गांव में चाचा के बेटे के सात सुहागरात

दोस्तों अब मुझे अपना सपना साकार होता हुआ नज़र आया और फिर उनके पति बहुत गुस्से से बाहर चले गये और में भी जब बाहर जाने लगा तो मेडम ने मुझे देख लिया और कहने लगी की तुम यहाँ पर किस काम के लए आए हो? तो मैंने कहा की मेडम में बहुत अच्च्चे नंबर से पास हो गया हूँ इसलिए में आपके लए मिठाई लेकर आया हूँ. मेडम तोड़ा सा मुस्कुराकर मुझसे शाबाश कहने लगी और मुझे उनके चेहरे पर वो हँसी देखकर बहुत अच्च्छा लगा और फिर मैंने थोड़ी सी हिम्मत करके मेडम से कहा की मेडम क्या कोई समस्या है जो आप इतनी उँची आवाज़ से बोल रही थी? तो मेडम कहने लगी की कुच्छ नहीं बस ऐसे ही और फिर मैंने कहा की मैंने सब कुच्छ सुन लिया है.

मेडम मेरी वो बात सुनकर एकदम से घबरा गई और उनके चेहरे का रंग उड़ गया. फिर वो मुझसे कहने लगी की प्लीज़ तुम यह बात किसी को मत बताना. मैंने उनसे कहा की ठीक है मेडम आप कहती हो तो में किसी से कुच्छ भी नहीं कहूँगा और फिर मैंने उनसे कहा की में आपकी समस्या का हाल कर सकता हूँ, लेकिन अगर आप मेरी थोड़ी मदद करे तो ऐसा हो सकता है? तो वो मुझसे कहने लगी की वो कैसे और तुम मेरी उसमे क्या मदद कर सकते हो?

मैंने कहा की अगर आपके पति में कोई भी कमी है तो क्या हुआ? हम दोनों भी तो मिलकर एक बच्चा पैदा कर सकते है और में इस काम में आपकी पूरी पूरी मदद करने को तैयार हूँ, लेकिन तभी मेडम कहने लगी की नहीं में ऐसा नहीं कर सकती, यह सब बहुत ग़लत है इससे पूरी दुनिया में हमारी बदनामी हो सकती है मेरे पति को इसके बारे में पता चला तो वो मुझे इस दुनिया से उठा भी सकते है क्योंकि उनका गुस्सा बहुत खराब है जो तुमने अब तक कभी नहीं देखा. फिर मैंने कहा की मेडम में आपसे पक्का वादा करता हूँ की में कभी किसी को कुच्छ भी नहीं कहूँगा, यह बात हम दोनों के बीच में रहेगी तीसरा कोई भी नहीं तो फिर यह बात बाहर कैसे जाएगी? और फिर मेरे बहुत समझाने के बाद मेडम इसके लए तैयार हो गई और मेडम कहने लगी की लेकिन हम यह सब मेरे घर पर नहीं कर सकते, क्योंकि मेरे पति कभी भी आ सकते है.

और कहानिया   पति के नौकर ने बीवी की चुत में लगी आग भुजाइ

फिर मैंने कहा की कोई बात नहीं, आप हमारे गेस्ट हौस चलो वो हमेशा ही खाली रहता है और फिर वहाँ पर कोई आता जाता भी नहीं. तो मेडम ने कहा की ठीक है तुम कल तैयार रहना और वहाँ पर जाते समय मुझे भी अपने साथ ले चलना. मैंने कहा की ठीक है और फिर में अगले दिन सुबह ही उन्हे लेने उनके घर पर चला गया, लेकिन उनके पति के घर पर होने के कारण वो मेरे साथ नहीं आ सकी क्योंकि उनके पति की उस दिन च्छुतटी थी और फिर मेडम ने मुझे कुच्छ घंटो के बाद फ़ोन करके बता दिया की में आज नहीं आ सकती वो आज पूरा दिन घर पर है और हम कल चलेगें. में उनकी यह बात सुनकर तोड़ा सा उदास हो गया, लेकिन अब में बहुत बेसब्री से अगले दिन का इंतज़ार करने लगा. में दिन में भी बेड पर लेते हुए उनकी चुदाई के सपने देखने लगा और उसी रात को करीब दस बजे मेडम का फ़ोन आया की में खुद ही तुम्हारे गेस्ट हौस आ जौंगी. तुम मुझे लेने मेरे घर पर मत आना.

मैंने कहा की ठीक है और फिर उसके अगले दिन ठीक 9 बजे मेडम मेरे दिए हुए पाते पर हमारे गेस्ट हौस आ गई. उस दिन भी मेडम ने सलवार सूट पहना हुआ था, वो उसमे क्या मस्त सेक्सी लग रही थी और उनके बूब्स, गांद तो बहुत सेक्सी दिख रहे थे. फिर मैंने मेडम को अंदर बुलाया और पानी पिलाया और उसके बाद हम कमरे के अंदर चले गये. मैंने उसी समय सेक्स की गोली खा ली थी और में जाते समय ही उनको किस करने लगा और मेडम भी मेरा साथ देने लगी.

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *