Tag «maa beta»

बेटे को दिया बीवी का प्यार चुदाई हुई लॉक्कडोवन् में

मेरा नाम ज्योति है मैं ४० साल की हूँ। मैं हॉट हु खूबसूरत हूँ पर पति के मौत के बाद मेरी चूत बंजर जमीं सी हो गई है। चुदाई को दस साल हो गए थे पर धन्यवाद करती हु कोरोना बीमारी का क्यों की आजकल खूब चुद रही हूँ वो भर घर में ही अपने …

पति के देहांत के बाद बेटे ने दी ख़ुशी

मेरा नाम ज्योति है मैं अड़तीस साल की हूँ। मैं एक स्कूल में टीचर हूँ। मैं हॉट खूबसूरत हूँ। पर भगवान् ने एक चीज जो छीन ली वो है पति। पिछले साल ही उनका देहांत हो गया है तब से ही मैं अकेली हो गई हूँ। मेरे साथ मेरा एक बेटा है पर वो मानसिक …

ये में कैसी माँ हु

ये जो सेक्स कहानी मैं लिख रही हूँ, वो मेरी सहेली सोनी की है. उसने मुझसे अपनी इस सेक्स कहानी का जिक्र किया और अन्तर्वासना के माध्यम आप सभी तक पहुंचाने के लिए कहा. आइए, उसी के शब्दों में उसकी सेक्स कहानी को पढ़िए और गर्म हो जाइए. मेरा नाम सोनी राज है, मैं भोपाल …

घरवाली और पड़ोस वाली डबल मज़ा भाग 4

विवेक ने अपाने कपडे पहने और बोला, “मैं तुम्हें ऐसे ही रोज चोदना चाहना हूँ सायरा.” “कभी भी और कैसे भी मिस्टर वी. मुझे चुदाई बहुत पसंद है. अब तो आप समझ ही गए होंगे की ये हमारा खानदानी खेल है” “तो क्या तुम्हें बुर चाटना भी पसंद है सायरा?” सायरा मुस्कराई. वो समझ गयी …

माँ बेटे का प्यार और संस्कार भाग 4

गतांक से आगे………………… रात को सब सो जाने के बाद अम्मा वही साड़ी पहने मेरे कमरे में आयी. आज वह दुल्हन जैसी शरमा रही थी. मुझे लिपट कर बोली. “सुन्दर, आज यह मेरे लिये बड़ी सुहानी रात है, ऐसा प्रेम कर बेटे कि मुझे हमेशा याद रहे. आखिर आज से मैं तेरी पत्नी भी हूं.” …

माँ बेटे का प्यार और संस्कार भाग 3

गतांक से आगे………………… अम्मा ने अपनी टांगें पसार दीं. यह उसकी मूक सहमति थी. साथ ही उसने मेरा लंड हाथ में लेकर सुपाड़ा खुद ही अपनी चूत के मुंह पर जमा दिया. उसका मुंह चूसते हुए और उसकी काली मदभरी आंखों में झांकते हुए मैंने लंड पेलना शुरू किया. मेरा लंड काफ़ी मोटा और तगड़ा …

माँ बेटे का प्यार और संस्कार भाग 2

गतांक से आगे………………… मैंने चुपचाप कार स्टार्ट की और हम घर आ गये. घर में अंधेरा था और शायद सब सो गये थे. मुझे मालूम था कि मेरे पिता अपने कमरे में नशे में धुत पड़े होंगे. घर में अंदर आ कर वहीं ड्राइंग रूम में मैं फ़िर मां को चूमने लगा. उसने इस बार …

माँ बेटे का प्यार और संस्कार भाग 1

मैं दक्षिण भारत में सत्तर के दशक में पैदा हुआ. मेरे पिता मिल में काम करने वाले एक सीधे साधे आदमी थे. उनमें बस एक खराबी थी, वे बहुत शराब पीते थे. अक्सर रात को बेहोशी की हालत में उन्हें उठा कर बिस्तर पर लिटाना पड़ता था. पर मां के प्रति उनका व्यवहार बहुत अच्छा …

माँ बेटे का प्यार भाग 3

“बेटे एक बात कहूं?” “हां बोलो मां, हुकुम करो. आज तो मजा आ गया मां तेरी मारने में … और वो केले भी क्या जायकेदार थे …. तेरी चूत का रस तो अमरित है मां अमरित. बोल क्या कह रही थी? और पिक्चर ले आऊं ऐसा ही? क्या बात है मां? चूतें भी भा गयीं …

माँ बेटे का प्यार भाग 2

बस बेटे छोड़ दे अब … बहुत हो गया रे … जान ही नहीं है अब मेरे बदन में …. तुझे मेरी कसम मेरे राजा …. लगता है तीन चार घंटे हो गये तुझे मेरी बुर से मुंह लगाकर …. सब रस खतम हो गया … अब तो छोड़ ना मेरे लाल! दस बार तो …