Tag «incest kahani»

माँ बेटे का प्यार भाग 1

“आ गया बेटे? आज जल्दी आ गया.” “हां मां, महने भर से रोज देर हो जाती है, आज बॉस से बहाना बनाकर भाग आया” “तो ऐसा क्या हो गया आज, आता रोज की तरह रात के दस बजे” “तू नाराज है अम्मा, जानता हूं, इसीलिये तो आ गया आज” “चल, आ गया तो आ गया, …

माँ की प्यासी चुत भाग 3

मेरा नाम रवि है और मेरी उम्र 22 साल की है। मई मुंबई में रहता हूँ .मेरे फ्लैट में मै एवं मेरे मम्मी बाप के अलावा कोई नही रहता। एक साल पहले बाइक चलाते वक्त मै गिर गया और मेरे दोनों हथेली में काफ़ी जख्म हो गए। डॉ० ने मेरे दोनों हथेलियों में एक महीने …

मेरा भाई और मेरे अब्बू भाग 3

मुन्नी = बेबी जो हुआ उसको छोडो ना, मुन्नी मेरे पास आई और मुझ चूमकर बोली= बेबी तेरी अम्मी और अब्बू यह सब रोजाना करते है, लेकिन आज तेरी अम्मी नहीं है इसलिए तेरे अब्बू ने मुझको अपनी घरवाली बंना लिया है. में = लेकिन मुन्नी ये तो गलत है ना. अब्बू = बेबी यह …

मेरा भाई और मेरे अब्बू भाग 2

में मुन्नी की बातो से और भी गरम हो गई थी, मेरे अब्बू और अम्मी के बारें में यह सब सुन कर में समझ गई की में कुछ गलत नहीं कर रही थी, बल्कि सेक्स में सब लोग ऐसा ही करते है. और में भी अब सेक्स का असली मज़ा लेना चाहती थी, तभी मुन्नी …

माँ की वासना भाग 4

गतान्क से आगे …………………… हमारा संभोग इसी तरह चलता रहा एक बार दो दिन तक हमें मैथुन का मौका नहीं मिला तो उस रात वासना से व्याकुल होकर आख़िर मैं माँ और बापू के कमरे में धीरे से गया बापू नशे में धुत सो रहे थे और माँ भी वहीं बाजू में सो रही थी …

माँ की वासना भाग 3

गतान्क से आगे …………………… अगले दिन नाश्ते पर जब सब इकट्ठा हुए तो माँ चुप थी, मुझसे बिलकुल नहीं बोली मुझे लगा कि लो, हो गई नाराज़, कल शायद मुझसे ज़्यादती हो गई जब मैं काम पर जा रहा था तो अम्मा मेरे कमरे में आई “बात करना है तुझसे” गंभीर स्वर में वह बोली …

माँ की वासना भाग 2

गतान्क से आगे …………………… मैंने चुपचाप कार स्टार्ट की और हम घर आ गये घर में अंधेरा था और शायद सब सो गये थे मुझे मालूम था कि मेरे पिता अपने कमरे में नशे में धुत पड़े होंगे घर में अंदर आ कर वहीं ड्राइंग रूम में मैं फिर माँ को चूमने लगा उसने इस …

माँ की वासना 1

दोस्तो छुट्टियाँ ख़तम हो गई और मैं वापस अपने घर आ गया. अरे यार मैं अपने घर के बारे मे तो बताना ही भूल गया. मेरे पिता मिल में काम करने वाले एक सीधे साधे आदमी थे उनमें बस एक खराबी थी, वे बहुत शराब पीते थे अक्सर रात को बेहोशी की हालत में उन्हें …

कैसे दोस्त ने मेरी बेहेन की सील थोड़ी भाग 1

हाई! आज मैं आपको अपनी एक स्टोरी बता रहा हूँ. यह उस वक़्त की बात है जब मैं 20 साल का था. मेरे कॉलेज मैं छुट्टिया थी जिनकी वजह से पूरा दिन घर पर होता था. घर पर सिर्फ़ मैं मुझसे छ्होटी बहन कंचन और मोम-डॅड थे. मेरा एक ख़ास दोस्त था रमेश. मैं उसके …

कहानी एक छुडास परिवार की

पारुल- “श्रुति, कहां है तू? सुबह से ढूँढ़ रही हूं तुझे, कहां चली गयी थी तू?” श्रुति- “मामा, मैं वोह अंदर, कमल चाचू से गाण्ड मरवा रही थी, बताइये क्या काम था मुझसे?” पारुल- “क्या कहा? तू चाचू से गाण्ड मरवा रही थी, शरम नहीं आयी तुझे। वहां तेरे पापा हाथ में लण्ड लिये तेरी …