सुष्मिता भाभी का जवाब नहीं भाग 5

अपनी चूत में घुसते निकलते उंगली की तेज गति के साथ ले मिलकर वो अपना कमर हिलाए जा रही थी. वो मेरे लंड को भी ज़ोर ज़ोर से मसालने लगी थी. हम दोनो स्वर्ग का आनंद उठा रहे थे. सुष्मिता ने एका एक मेरे लंड को कस के पकड़ कर अपनी जाँघो की तरफ खींचना शुरू किया. मैने अपना दाहिना पैर सीट के उपर किया और थोड़ा तिरच्छा होकर अपनी कमर को उस की नंगी जाँघो से सटा दिया. अब मेरा लंड उस के जांघों से टकरा रहा था. उस ने भी अपने दाहिने पैर को सीट पे मोड़ कर रख लिया और मेरे ऑपोसिट डाइरेक्षन में झुकते हुवे अपने चुटटर को मेरे लॅंड पे सटा दिया. अब मेरा लंड उस के चुटटर के बीच के दरार पर बस की रफ़्तार के साथ ही हिचकोले खा रहा था. मैं अपनी कमर को हिलाते हुवे उस के चुट्त्रों के बीच के दरार में अपने लंड का धक्का लगाने लगा. मेरा लंड उस के चुटटरों के बीच आगे पिछे घूमते हुवे पूरी मस्ती में उसकी गांद के बीच सफ़र कर रहा था. सफ़र में कभी मेरा लंड उस के गांद के छेद से टकरा जाता तो कभी उस की चूत तक पहुँच जाता. वह अपने चूतदों को थोड़ा और तिरच्छा करते हुवे थोडा और झुक गयी. मैने भी अब अपने चुटटर को थोडा और तिरच्छा कर लिया जिस से मेरा लंड अब उसके फुददी के छेद से सॅट गया.

उस की जांघों को अपने हाथ से पकड़ कर मैने अपना लंड उस की चूत में ठेलने की कोशीष की लेकिन अंदर जाने के बजाय मेरा लंड फिसल कर उस की चूत पे आगे बढ़ गया. मैं आंगल बदल बदल कर उस की चूत में अपना लंड घुसाने की कोशीष करता रहा और आख़िर मुझे कामयाबी मिल ही गयी. मेरा लंड उस की चूत के अंदर समा गया. अब मैं उस की चूत में अपना कमर हिलाते हुवे लंड को धकेलने लगा. मेरा लंड उसकी चूत में अंदर बाहर होने लगा. लेकिन प्रायापत स्थान के अभाव में धक्के लगाते वक्त बार बार मेरा लंड उस की चूत के बाहर आ जाता था. लंड के चूत से बाहर निकलते ही वो अपने हाथ से पकड़ कर मेरे लंड को अपनी चूत में घुसा लेती थी और मैं फिर से धक्के लगा कर उस की चूत को चोदने लगता था. उस की चूत को इस तरह चलती बस में चोदने में मुझे बड़ा अनोखा मज़ा मिल रहा था. ऐसा मज़ा उसे या किसी और को चोदने में मुझे कभी नहीं मिला था. वो भी पूरी मस्ती में अपना चूत चुड़वाए जा रही थी. उस की चूत को चोद्ते हुवे एका एक मेरे मन में सरारत सूझी. मैने सोचा की चूत से बार बार लंड बाहर निकल जा रहा है. उस की चूत के बनिस्पात गांद का आंगल लंड पेलने के लिए ज़्यादा सूबिधा जनक है, इस लिए क्यों ना गांद में ही लंड घुसा कर गांद मारने की कोसिस की जाए. ये सोच कर मैं एक दम रोमांचित हो गया और अपने हाथ से लंड पकड़ कर मैने उसे सुष्मिता के गांद पर टीका कर एक ज़ोर दार धक्का लगा दिया. मेरे लंड का सुपारा सुष्मिता के गांद में फँस गया. मैने तुरंत बिना समय गँवाए दो तीन धक्के उस के गांद में जड़ दिए. मेरा समुचा लंड उस की गांद में समा गया. जैसा मैने सोचा था वैसे ही चूत की बनिस्पात गांद में लंड पेलने में ज़्यादा आसानी हो रही थी. लेकिन इस का उल्टा असर सुष्मिता पे पड़ा. .अचानक गांद में लंड के घुसने से वो एकाएक चीख पड़ी. उस की चीख से हमारे ऑपोसिट रो में बैठी लड़की की आँख खुल गयी और हमे इस पोज़ में देख कर उस की आँखें हैरत से फटी रह गयी. लेकिन मैं इतना ज़्यादा उत्तेजित हो चुक्का था की उस के देखने का परवाह किए बगैर मैं दनादन सुष्मिता के गांद में अपना लंड पेलता रहा. सुष्मिता के गांद में घुसता निकलता लंड तो वो नहीं देख सकती थी क्यों कि हमारा जिस्म चदडार से ढाका हुवा था लेकिन हमारे हिलते चूतदों की गति से वो समझ चुकी थी की चलती बस में हम चुदाई में भिड़े हुवे हैं. उस के लगातार हमारे तरफ देखते रहने से हम और अधिक उत्तेजित हो गये और मैं तेज़ी से सुष्मिता के गांद में अपना लंड आगे पिछे ठेलने लगा. मुझ से भी ज़्यादा सुष्मिता उत्तेजित हो चुकी थी और वो काफ़ी बोल्ड भी हो गयी. उस ने धीरे से चदडार हमारे बदन से सरका दी. अब वो लड़की और हैरत से हमारी तरफ देखने लगी थी. .. सुष्मिता के ब्लाउस और ब्रा खुले हुवे थे और उसकी सारी कमर तक उठी हुवी थी जिस से उसकी नंगी गोरी और सुडौल चिकनी जंघें बस के भीतर की हल्के लाइट में चमक रही थी. मैं उस लड़की के आँखों के सामने सुष्मिता के गांद में सटा सॅट अपना लंड पेले जा रहा था. गांद मराने में सुष्मिता भी अपनी कमर हिला हिला कर मेरी मदद कर रही थी. और हमारे चुदाई का खेल वो लड़की आँखें फारे देख रही थी. करीब पंडरह मिनिट के धक्कों के बाद मैं सुष्मिता के गांद में ही झार गया. फिर हम सीधे होकर बैठ गये.

और कहानिया   पडोसी की सुन्दर नाज़ुक बेटी भाग 2

अभी भी हम में से किसी ने अपना कपड़ा दुरुस्त नहीं किया था. अभी तक शायद वह लड़की सुष्मिता की चूत या मेरा लंड नहीं देखा पायी थी. ठीक उसी समय आगे से कोई गाड़ी आई जिस के हेडलाइट में हमारा नंगा जिस्म, मेरा लंड और सुष्मिता की चूत और चूची चमक पड़ी. मेरा लंड और सुष्मिता की चूत और चूची को देख कर पता नहीं उस लड़की पे क्या असर पड़ा लेकिन मेरे मन में उसे चोदने की इच्छा जाग उठी. मैं इसी ख्याल में सुष्मिता के होंठों को उस लड़की के सामने चूमते हुवे उस की चूचियों को ज़ोर ज़ोर से मसालने लगा. साथ ही मैने अपने एक हाथ की उग्लियों से सुष्मिता की चूत फैला कर उस में उंगली घुसेड दी. सुष्मिता मेरे मुरझाए लंड को अपने हाथों में लेकर उस के सामने ऐसे हिलाने लगी मानो वो उस लड़की को चुद्वाने का निमंत्रण दे रही हो. ऐसा करते वक्त सुष्मिता ने उस लड़की की तरफ देखते हुवे आँख मार दी. इस पे वो लड़की अपना आँख बंद कर के अपना मुँह दूसरी तरफ फेर ली. लेकिन हम देख सकते थे कि उस की साँसें बड़ी तेज़ी से चल रही थी. कुच्छ देर तक ऐसे ही हम दोनों चलती बस में नंगा बैठे रहे फिर हमने अपना काप्रा ठीक कर लिया. इस घटना के करीब एक घंटा बाद बस एक सुनसान जगह पे लोगों के पेशाब करने के लिए रुकी.मैं बस से उतार कर पेशाब करने चला गया. मेरे बाद सुष्मिता भी उतर कर एक तरफ चल पड़ी. उसके बाद वो लड़की भी उसी तरफ चल पड़ी जिधर सुष्मिता गयी थी. मैं उन्हें ही देख रहा था. पेशाब कर के आते वक्त वी दोनो आपस में कुच्छ बातें कर रही थी. बस चलने के बाद मैने धीरे से सुष्मिता से पुचछा की तुम्हारी क्या बातें हुई. उसने बाद में बताने को कह के बात ताल दी.

और कहानिया   बस में कंडक्टर से जमकर चुदाई

Pages: 1 2 3 4 5

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares