ससुराल मेंइन में रंडी बनगयी

फिर मैंने अपने लटकते हुए बूब्स अपने ससुर के पैरों पर रगडे और गालियाँ देनी शुरू की.. मालिक में रंडी, हरामजादी कुतिया हूँ.. मालिक में आपके लंड की प्यासी हूँ.. मालिक मुझे आपका लंड चूसने दीजिए। मेरी चूत को आप जैसे चाहे मारो.. मालिक में आपकी रंडी हूँ। में ऐसे कह रही थी तभी उन्होंने अपना लंड धोती से निकाला और मेरे मुहं में डाल दिया और मेरे बाल पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगे.. उनका लंड मेरे गले तक आ रहा था और उन्होंने जल्दी ही मेरे मुहं में सारा वीर्य का पानी छोड़ दिया और यह सब देख रही मेरी सास भी गरम हो गयी थी और अपनी चूत में उंगली कर रही थी।

तो मेरे ससुर ने कहा कि अब जा साली रंडी अपनी सास की चूत चाट.. मुझे लगा कि ससुर जी ने अब मुझे फ्री कर दिया और में वैसे की कुतिया बनकर बिस्तर पर सास के पास गयी। उन्होंने अपनी गीली चूत फैला दी और में उनकी चूत चाटने लगी। तभी मेरे ससुर पीछे से अपनी छड़ी लेकर आए और मेरी गांड में डाल दी में बहुत ज़ोर से चिल्लाई तो मेरी सास ने मुझे चार जोरदार थप्पड़ मारे और गालियाँ दी.. रंडी कमिनी लगता है पहली बार तेरी गांड मारी जा रही है। में चुप हो गयी और मेरी सास की चूत वापस चाटने लगी। तो मेरी सास अपनी चूत चटवाते हुए सिसकियाँ ले रही थी और मेरे बूब्स ज़ोर ज़ोर से दबा रही थी।

तभी मेरे ससुर ने मेरी चूत में पीछे से ही अपना लंड डाल दिया और कुतिया की तरह चोदने लगे.. में बहुत गरम हो गयी थी और मेरी सास भी अब एक बार झड़ चुकी थी.. लेकिन में अभी भी आहह आह्ह्ह कर रही थी और कह रही थी और चोदो मुझे और चोदो मुझे.. 10 मिनट चोदने के बाद मेरे ससुर ने अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाला और वीर्य ज़मीन पर झाड़ दिया.. लेकिन में अभी तक एक बार भी झड़ी नहीं थी और चुदाई के लिए तड़प रही थी। तो यह देखकर मेरा ससुर बोला कि साली रंडी और चुदना चाहती है ना.. फिर मैंने कहा कि जी मालिक तो उन्होंने एक मोटी सी मोमबत्ती ली और मेरी चूत में डाल दी और कहा कि अब उछल साली हरामजादी कुतिया.. अब तू इस मोमबत्ती को और चूत को हाथ मत लगाना और सुबह तक तड़प।

और कहानिया   चुडासी माँ की गरम चुदाई

फिर मेरी सास बोली कि चल यह ज़मीन पर पड़ा वीर्य सब अपनी जीभ से चाटकर साफ कर। तू नहीं तो क्या तेरी माँ साफ करेगी कुतिया की औलाद और फिर अपने पति के कमरे में जा वो अभी सो रहा होगा.. तू उससे जगाना मत.. बस नंगी होकर और उसका लंड अपने मुहं में डालकर रखना और सुबह लंड चूसते हुए उसे उठा देना। उसे ऐसे ही सोने की आदत है बाकी का काम में तुझे कल सुबह चाय पर बताउंगी।

फिर मैंने सारा वीर्य ज़मीन से चाटकर साफ किया और अपने पति के कमरे में आई और मैंने देखा कि वो नंगा होकर अपने पैर फैलाए सो रहा था और जैसा मेरी सास ने कहा था। में अपनी घाघरा चोली उतारकर नंगी होकर अपनी चूत में मोमबत्ती डाले बिस्तर पर गयी और अपने पति का लंड मुहं में डालकर सो गयी। फिर रात को गहरी नींद में मेरा पति मेरे बूब्स अपने दोनों हाथों से मसल रहा था।

दोस्तों इसके बाद मेरे पति ने मुझे तड़पा तड़पा कर चोदा और अब मेरा देवर मुझे अपनी रांड बनाकर चोदता है और मेरी सास मुझे बीच आँगन में नंगा करके नौकरो से चुदवाती है और सबके खाना खाते वक़्त में सबका लंड चूसती हूँ और घर के मर्द मेरे बूब्स को चूसते है और मेरे ससुर मुझे अपने कुत्ते के साथ कुतिया बनाकर बेल्ट से बाँधकर रखते है।

घर में कोई भी कभी भी मेरी चूत में लंड डाल देता है और ख़ास मेहमनो के सामने मुझे नंगी होकर पहले खाना सर्व करना पड़ता है और फिर मुझे रंडी बनाते है। हर दिन मेरे जिस्म से नया खेल खेलते है। दोस्तों मेरी गीली चूत से आप सभी लोगों को सलाम ।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *