रंडी मा बहेनॉ वाली चुड़क्कड़ फॅमिली भाग ३

पार्ट 2 – रंडी मा बहेनॉ वाली चुड़क्कड़ फॅमिली-2

पापा बिस्तर पर लेट गये और मम्मी को अपने उपर ले लिया और उनकी छूट मे लंड पेल दिया और चुदाई करने लगे. मैं मम्मी के पिच्चे गया और उनके चूतादो की चुम्मि ली आंड उनके चूटरो को दबाते हुए चाटने लगा.

2-3 मिनिट तक मम्मी की गांद से खेलता रहा. इतनी बड़ी गांद और उसपे 2 बड़े बड़े गोरे गोरे चूटर और दोनो चूटरो क बीच की लाइन मा की गांद को देखने लायक बना रही थी.

मेरी मा की गांद को तो एक टूरिस्ट पॉइंट होना चाहिए और टिकेट लेके मा की गांद के दीदार करने चाहिए. मे मा की गांद के दोनो चूटरो को ढोल की तरह थप्पड़ मार मार के बजाने लगा.

अब मे मम्मी की गांद के च्छेद को चाटने लगा और अपनी नाक से उनकी गांद को सूंघने लगा. उनकी गांद की महक ने मुझे उत्तेजित कर दिया. लंबी लंबी साँसे लेकर मे मा की गांद की महेक को मे अंदर ले रहा था. फिर जमके मा की गांद के च्छेद को चटा और पूरा नमकीन टेस्ट लेने लगा.

उधर पापा मम्मी की छूट पेले जा रहे थे. मम्मी बोली बेटा कितना खेलेगा गांद से. तूने मुझे बहुत हॉर्नी कर दिया है, अब अपना लंड पेल मेरी गांद मे.

थोड़ी देर चाटने और सूंघने के बाद मैने अपना लंड मम्मी की गांद में डाल दिया. मेरा लंड मम्मी की गांद में आराम से जाने लगा.

इसका मतलब मम्मी ने पहले से ही अपनी गांद मरवा रखी थी और लाग्ग रहा था की रोज़ ही मा की गांद मारी जाती है, जिससे इतनी ढीली पद्ड़ गयी ह.

मैने मम्मी की गांद मारना चालू कर दिया. अब मम्मी की दोनो च्छेदो में धमा धाम चुदाई हो रही थी. मम्मी के मूह से सिसकारी निकल रही थी, मम्मी आ आ उई उई उई कर रही थी. मम्मी की गांद उनकी छूट से थोड़ी टाइट थी और मम्मी ने अपनी गांद से मेरे लंड को जाकड़ लिया.

पापा मम्मी के होंठ चूसने लगे और मैं भी मम्मी के उपर झुक कर उनके गले और पीठ को चाटने लगा. इसी पोज़िशन में हम मम्मी की चुदाई करते रहे.

और कहानिया   भाभी ने मुझे लोड चुत का खेल सिखाया

ये मेरा और पापा का दूसरा रौंद था ओर हुमारा माल निकालने में तोड़ा टाइम लग रहा था.

15-20 मिनिट तक ऐसे ही मम्मी को पेलने से मेरा और पापा का माल निकालने वाला था. हमने मम्मी को बिस्तर के नीचे घुटनो के बाल बिताया और उसके मूह मे अपना वीरये छ्चोड़ने लगे.

वो हम दोनो का पूरा मूठ पीने लगी. मम्मी को ऐसे बेत कर हम दोनो का मूठ पीते देख मुझे मम्मी किसी कोठे की सस्ती रंडी से कम नही लग रही थी. मम्मी पूरी छिनाल ही थी जो पूरा माल पिई गयी.

मुझे हल्का सा पेशाब भी आ रहा था और मैने मम्मी के मूह पर ही मूट दिया. मा के होंठ, आँख, नाक, गाल हर जगह मूठ पड़ा था. इससे वो खुश हुई और मेरा और पापा का मूठ पूरा पी गयी और इधर उधर लगा कर मूठ छत कर सॉफ कर दी. फिर हम दोनो का लंड चाट कर सॉफ करने लगी.

मैने मम्मी को बिस्तर पर लेटया और अपनी बाहों मे भर लिया और हम बात करने लगे-

मैं– मम्मी मज़ा आ गया आपकी गांद बजके, सच मच आप सेक्स की अप्सरा हो. आपके गांद और छूट की महेक आंड स्वाद गजब का था. आपको छोड़ के मज़ा आ गया. आपके जैसी सेक्स डॉल तो मार्केट मे भी आनी चाहिए ताकि सबको असी गांद और छूट का मज़ा मिले. आज से मूठ मारना बंद, अब डेली आपकी छूट और गांद मारा करूँगा, मम्मी केसा लगा मुझसे छुड़वा कर?

मम्मी – बड़ा मज़ा आया बेटा. तेरा पहली बार था और तू कैसे कोई नादान बाकछे की तरह छत रहा थे मेरे च्छेद. लेकिन चुदाई तूने पूरे एक्षपिरेणसेद मर्द की तरह किया. आयेज पीछे दोनो तरफ से बजवके मज़ा आ गया. इतने दीनो बाद मज़ेदार चुदाई मिली. अब जब चाहे तब छोड़ लिया करना और डेली एक रौंद तू आंड तेरे पापा मिलके मेरी गांद छूट मारना. दो दो लंड लेने का मज़ा ही अलग है. वैसे बेटा तेरी कोई गफ़ नही है क्या?

मैं – है एक लड़की जो मुझे लाइन देती है और मैं भी उसे पसंद करता हूँ. लेकिन हम दोनो बोलने से डरते है.

और कहानिया   चौकीदार से चूड़ी मेरी बीवी

मम्मी – तू गन्दू मत बन और हिम्मत करके बोल दे वो भी तैयार तो है ही तुरंत मान जाएगी. इश्स उमर मे छूट को लंड की ज़रूरत पड़ती ही ह और बिना चुड़े नही रहा जाता. उसकी भी छूट गीली होगी. तू जल्दी ई लोवे योउ बोल्डे आंड बजा डाल उसकी छूट. नही तो छूट की गर्मी ऐसी है जो उसे ई लोवे योउ बोलेगा वो उसी के सामने टाँगे खोल देगी.

पापा – हन और वो तेरी मा जैसी लंड खोर हो तो मेरे पास भी लाना. दोनो मिलके छोड़ा करेंगे आंड तेरी मा और उसके साथ फोरसम किया करेंगे. वैसे तू विंद्रा को छोड़ने के बारे में काब्से सोच रहा था?

मैं – 4 साल पहले जब एक दिन गर्मियों मे मैने सुबह मम्मी को नंगी नहाते और कपड़े बदलते देखा था. मा बातरूम का गाते खोल कर न्हा रही थी. और उसी दुपहर में चवक मे रखी चारपाई पर मा को आपसे चुड़ते देखा था. उस दिन मुझे ये सब बहुत अछा लगा.

पहले तो तोड़ा सहमा की मेरी मा ह आंड ये सब ग़लत है लेकिन मॅन नही माना और फिर मेरा लंड भी टाइट हो ही गया था मा को नहाता आंड फिर आपसे चूड़ते देख. उस दिन मैने पहली बार मूठ मारी थी और उसी दिन से मैं मम्मी को सोचके मूठ मारता हू.

काई बार मैने मा को नंगी आंड आपसे चूड़ते देखा ह. रात को छोड़ते टाइम जब आप दोनो की गंदी बाते आंड गलिया सुनके मुझे लगा की मा बहुत चुड़क्कड़ रंडी टाइप है. आंड तबसे ही मे मा को छोड़ने की सोच रहा हू.

मम्मी – अच्छा बेटा तुझे मुझे चूड़ते देखना इतना पसंद है?? और मे तुझे रंडी लगती हू?

मैं – हन मम्मी आपकी बड़ी बड़ी गोरी गांद देख कर मेरा लंड हमेशा खड़ा हो जाता है. मम्मी आप मेरे से चूड़ने के लिए एक ही बार में केसे तैयार हो गयी? क्या आप पापा के अलावा भी और किसी से चुड़वाती हो?

Pages: 1 2