पागल ने की मेरी झाम के चुदाई

मैं नेहा हूँ. मेरी उमर 21 साल, रंग गोरा, बॉडी एक दम स्लिम है. मेरी शादी 1 साल पहले मोहन के साथ हुई है. मोहन की उमर 23 साल की थी. मोहन के अलावा घर पर कोई नहीं रहता. मैं सेक्स में बहुत रूचि रखती हूँ. मैने अपनी लाइफ के बारे में जो ख्वाब देखे थे वो सभी ख्वाब मोहन से शादी करने के बाद टूट गये. मोहन का लंड बहुत ही छ्होटा था और उस से मेरी भूख शांत नहीं होती थी.
शादी के बाद जब मैं ससुराल पहुचि तो मैने दहका की एक आदमी एक दम नंगा ही पागलों की तरह हमारे घर के आस पास चक्कर लगता रहता था. दिखने में वो गातीले बदन का सनडर नौजवान था और किसी अच्च्चे परिवार का लगता था. उसकी उमर लगभग 26-27 साल की रही होगी. मैने मोहन से उस पागल के बारे में पूचछा तो वो बोले ये तो बहुत दीनो से यहीं आस पास ही घूमता रहता है. मेरे घर के आस पास बहुत सारे जंगली पेड़ और पौधे थे जिस से कोई भी आदमी गाते के बाहर से हमारे घर को आसानी से नहीं देख सकता था. वो जब हमारे घर के आस पास होता तो मैं हमेशा च्छूप च्छूप कर उसके लंड को देखती रहती थी क्यों की उसका लंड ढीला रहने पर भी लगभग 8″ लंबा और बहुत ही मोटा था. मैने सोचा की काश एक बार मैं उसके लंड को अपने हाथो से पकड़ कर देख सकती. मैं हमेशा सोचा करती थी की काश मोहन का लंड भी लंबा और मोटा होता क्यों की मोहन का लंड लगभग 4″ लंबा और बहुत ही पतला था. मुझे उनसे छुड़वाने में बिल्कुल भी मज़ा नहीं आता था. वो पागल रात को हमारे कॉंपाउंड में आ जाता था और पूरी रात घर के मैं दरवाज़े के पास बैठा रहता था.
ये उन दीनो की बात है जब मोहन 15 दीनो के लिए बंगलोरे चले गये. उनके जाने के दूसरे दिन रात के 8 बजे के आस पास वो पागल हमारे घर के दरवाजे के पास आ कर बैठ गया. जब वो रात को आ कर बैठ जाता तो वो फिर सुबह ही वहाँ से वापस जाता था. मैने सोचा आज उस से कुच्छ बात करके देखती हूँ. मैने डरते हुए दरवाज़ा खोला और उस से पूचछा खाना खाओगे. उस ने अपना सिर हन में हिला दिया. मैं खाना ले आई और जब वो खाना खा चुका तो उसने इशारे से पानी माँगा. मैने उसे पानी लाकर दिया. पानी पीने के बाद वो चुप छाप बैठा रहा.
मौका अच्च्छा था मैं उसके बगल में बैठ गयी. मैं तो उसके लंड को अपने हाथ में लेकर देखना चाहती थी. मैं ये भी देखना चाहती थी की उसका लंड खड़ा होने के बाद कितना लंबा और मोटा हो जाता है. मैने अपना हाथ उसके जांघों पर रख दिया. वो कुच्छ नहीं बोला तो मैं अपना हाथ उसके जाँघ पर फिरने लगी. वो फिर भी कुच्छ नहीं बोला तो मैने अपना हाथ धीरे धीरे उसके लंड की तरफ बढ़ा दिया. वो फिर भी कुच्छ नहीं बोला. अब मेरी उंगलियाँ उसके लंड को टच कर रही थी. मेरे बदन में सुरसुरी सी होने लगी तो मैने अपनी उंगली उसके लंड पर फिरनी शुरू कर दी. जब वो फिर भी कुच्छ नहीं बोला तो मैने अपने हाथों से उसके लंड को पकड़ लिया. मैं धीरे धीरे उसका लंड सहलाने लगी तो वो मुझे घूर घूर कर देखने लगा. उसकी आँखों में भी सेक्स की प्यास एक दम सॉफ दिख रही थी.
थोड़ी ही देर में उसका लंड खड़ा होने लगा. उसका लंड टाइट होने के बाद लगभग 10″ लंबा और बहुत ही ज़्यादा मोटा हो गया. मैं उसके लंड के साइज़ को देखकर जोश के मारे पागल सी होने लगी और थोड़ी ही देर में मेरी छूट एक . गीली हो गयी. मुझे अब ग़लत या सही का कोई होश नहीं रह गया था. मैने सोचा अगर मैं इस पागल से छुड़वा लून तो मुझे कोई कुच्छ भी नहीं कह सकेगा. अगर मुझसे कोई कुच्छ कहेगा तो कह दूँगी की . पागल ने मेरे साथ ज़बरदस्ती किया है. मैने सोच लिया की आज मैं इस पागल से छुड़वा कर रहूंगी भले ही मेरी छूट का हाल कुच्छ भी हो.मैं उस पागल का हाथ पकड़ कर घर के अंदर ले गयी. उसे देख कर लग रहा था जैसे उसने कभी नाहया ही ना हो. मैं उसे बातरूम में ले गयी और उसे एक साबुन देते हुए नहाने को कहा. मैं खड़ी रही और वो नहाने लगा. जोश के मारे मेरी छूट फिर से गीली होने लगी. नहाने के बाद उसका गोरा बदन एक दम निकार आया. उसका लंड भी बहुत गोरा था. जब वो नहा चुका तो मैं उसे बेडरूम में ले गयी. मैने उसे बेड पर बिता दिया. वो कुच्छ भी नहीं बोल रहा था. मैने पूचछा तुम गूंगे हो क्या तो उसने अपना सिर हन में हिला दिया. मैने सोचा की ये तो और अच्च्ची बात है की ये गूंगा है और किसी से कुच्छ भी नहीं कहेगा. मैं बेड पर उसके बगल में बैठ गयी. मैने उसके लंड को फिर से सहलाना शुरू कर दिया तो थोड़ी ही देर में उसका लंड खड़ा हो कर एक दम टाइट हो गया.
मैने सोचा ये तो पागल है. अगर मैं इस से छोड़ने के लिए कहा तो कहीं ये ज़बरदस्ती अपना पूरा का पूरा लंड एक झटके से ही मेरी छूट में ना घुसा दे नहीं तो मेरी छूट फॅट जाएगी. मैने उसे बेड पर लिटा दिया और अपने सारे कपड़े उतार दिए. वो मेरे गोरे बदन को घूर घूर कर देखने लगा. मैने उसके बगल में बैठ गयी और उसके लंड के सूपदे पर अपनी जीभ फिरने लगी. वो जोश में आ कर आहें भरने लगा. थोड़ी देर बाद मैने उस से पूचछा, मेरी छूट को चतोगे तो उसने अपना सिर हन में हिला दिया. मैं उसके उपर 69 की पोज़िशन में लेट गयी और मैने उसका लंड अपने मूह में ले कर चूसना शुरू कर दिया. वो अपनी उंगलियों से मेरी क्लाइटॉरिस को मसालते हुए बड़े प्यार से मेरी छूट को चाटने लगा. मैं समझ गयी की वो किसी औरत को छोड़ने का पुराना खिलाड़ी है. थोड़ी देर तक मेरी छूट को चाटने के बाद उसने अपनी बीच की उंगली मेरी छूट में घुसा दी और मेरी छूट के ग-स्पॉट को रगड़ने लगा. मेरे सारे बदन में आग सी लगने लगी और मैने उसके लंड को तेज़ी के साथ चूसना शुरू कर दिया. वो मेरे ग-स्पॉट को रगड़ता रहा और मैं जोश से पागल सी होने लगी. फिर 2 मीं में ही मैं झाड़ गयी.
उसके बाद मैं उसके उपर से हट गयी और ढेर सारी क्रीम लाकर उसके लंड पर लगा दी और थोड़ी क्रीम अपनी छूट में भी लगा ली. क्रीम लगाने के बाद मैं फिर से उसके उपर आ गयी. जैसे ही मैने उसके लंड के सूपदे को अपनी छूट की च्छेद पर रखा तो उसने मेरा सिर पकड़ कर अपनी तरफ खीच लिया और बड़े प्यार से मुझे चूमने लगा. उसके होत एक दम गरम थे. मेरे सारे बदन में सिहरन सी दौड़ गयी.

और कहानिया   सुनैना की मदमस्त चुत

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares