नर्स के सात हसीन रात

दोस्तों , i am amit.मैं आज अपनी कहानी सुनाता हूँ . मैं एक प्रायवेट हॉस्पिटल में डॉक्टर हूँ . मेरी उमर होगी 26 साल . जिस हॉस्पिटल में मैं काम करता हूँ वहाँ मेरे साथ बहोत सारी मलयाली नुर्सेस भी काम करती हैं . उनमे से सीनियर nurses मर्रिएद हैं और ज़्यादातर उनके हुस्बंड्स gulf countries में job करते हैं . वैसे तो मैं शरीफ स्वाभाव का हूँ पर क्या करूं जवानी का गरम खून और उसके ऊपर ICU में घंटों तक मलयाली सुंदरियों के बीच घिरे रहना . लंड कितने बार खरा हो ही जता है . वैसे मेरे शकल से किसी को अंदाजा भी नहीं लगता होगा की मेरा लंड खरा हो गया है . वैसे मेरे लंड का स्वाभाव भी बरा विचित्र है . दोस्तों आज तक कभी भी मेरा लंड नुर्सेस की चुचिओं को देख कर खरा नहीं हुआ . मेरा Lund हमेशा से 3 चीजों से खरा होता है : पहला तो आंखों मे मासूमियत और शरारत , दूसरा sexy परफ्यूम की गंध और तीसरा चूत्र्दों के उभार . यह तीन चीज़ दोस्तों यदि किसी एक सुंदरी में हो तो फिर क्या कहना . फिर तो मेरा दिमाग बंद और लंड खरा हो जाता है .
तो दोस्तों , मेरे हॉस्पिटल में अभी भी nurses सफ़ेद स्किर्ट ही पहनती हैं . जब भी मरीज का blood टेस्ट लेना हो या मेडीसिन देनी हो तो 4-5 नुर्सेस आगे मरीज की तरफ़ झुक कर काम करती हैं और मैं उनके पीछे खरा होकर उन्हें directions देता हूँ . उस वक्त सभी नुर्सेस की पीठ मेरी तरफ़ होती हैं और झुकने से उनके buttocks के shape tight skirts से दिखते हैं . अक्सर मेरा लंड इस नज़ारे से 3-4 इंच की दुरी पर रहता है . दोस्तों , अक्सर ऐसे मौके पे मैं मन ही मन उनके मोटी गांड को सहलाता हूँ और फंतासी में skirt को ऊपर उठाकर पैंटी खोलकर दोनों चुत्तारों को सहला कर लंड उनकी चूत में दाल देता हूँ . पुरा जिस्म यारों गरम हो जता है . जीं में आता है की कास ज़माने का डर नहीं होता तो कमर को पकर्द कर पीछे से खरे खरे जम कर चुदाई कर देता सबकी बारी बारी से . लेकिन यारों , सारा मामला ख्वाबों तक ही था . लेकिन सब कुछ बदल गया जब लाली नाम की nurse ICU में आई . उसकी आंखें बिल्कुल नत्खाती और शराबी थी .

उसका perfume बिल्कुल मदहोश कर देता था . लंबे बाल थे . चूचियां बिल्कुल छोटी थी पर दोनों चुत्तर ( butts) फूली हुई थी और tight स्किर्ट से शेप एकदम sexy दिखता था . उसकी आदत थी की कभी सीधी नहीं खरी होती थी . हमेशा table पे झुक कर और गांड को table से दूर और पैर को सीधा कर के खरी होती थी . यह लगभग आधी Doggy position होता था . हाल ये हो गया था की मेरा लंड सिर्फ़ उसके perfume और पसीने के गंध से खरा हो जता था . और जब भी मेरा लंड खरा होता तो मैं डोक्टोर्स चयेर पे बैठ कर गहरी गहरी साँस लेता था . एक दिन दोस्तों , मैंने एक single room के मरीज को दवा देने के लिए nurse को बुलाया तो लाली आ गई . मैं दीवाल से कर खरा था और दवा देने के लिए जब वोह आई तो मेरे सामने खरी हो कर झुकी . फिर वही समां . लंड से 3 inch आगे उसकी skirt में कसमसाती हुई गांड . लंड खरा हो गया और मैं गहरी साँस लेने लगा . फिर वोह जान बुझ कर थोरा पीछे खिसकी और उसकी गांड बिल्कुल मेरे खरे लंड को दबाने लगी . पुरे जिस्म में बिजली कौंध गई . पर मैंने अपने पर काबू रखा . मेरा पुरा लुंड ध्राद्क रहा था और उसे भी मेरे लंड की धर्कन अपनी गांड पे feel हुई होगी . करीब 3 minute तक ऐसे रहने के बाद वोह वहाँ से हट गई और बिल्कुल एक शरारती मुस्कान फेक के चली गई . मैं फिर डोक्टोर्स chair पे आकर बैठ गया . गहरी साँस ले रहा था . जैसे तैसे अपने को कंट्रोल किया था .रात के 11.00 बजे थे . सारी नुर्सेस अपने अपने मरीज के रूम में थी . मैं अकेला बीच के हॉल में doctor chair पे बैठा था . तभी लाली आकर सामने के टेबल पर झुक कर खरी हो गई और मेरी आंखों में घूरने लगी . मैं भी अब बेसरम होता जा रहा था .

और कहानिया   गैर मर्द से पहाड़ो में चुदाई

उसकी गंध से ऐसा लगता था जैसे हम दोनों जानवर हैं वोह भी गरमाये हुए . मैं bh i उसकी आंखों में घूरने लगा और उसकी गंध का मजा लेने लगा . फिर उसने आंखें नीचे कर ली . मैंने हिम्मत करी और अपने अंगुली से उसके होंठों को सहलाने लगा . उसने झटके से मुहँ खोल कर मेरी अंगुली को अन्दर ले लिया और चूसने लगी . फिर मैं दोनों हाथों से उसके कन्धों , और गले को और उसके चहरे को सहलाया . लाली फिर सामने से हट कर मेरे बगल में आकर खरी हो गई वैसे ही झुक कर . अब हम दोनों टेबल के पीछे थे . वोह मेरे सामने खुली किताब को पढने का दिखावा करने लगी . और मैं अपने दांये हाथ को उसके पीठ को सहलाने के बद उसके गांड पे सहलाने लगा . उसके बाद उसकी जंघा सह्लायी और skirt के अन्दर से हाथ ऊपर ले गया . और उसकी पैंटी के ऊपर से उसके फूली फूली चुत्तारों को दबाने लगा . दोनों गहरी गहरी साँस फेक रहे थे तभी अचानक एक मरीज को पेशाब की tube डालने की जरूरत आ गई . मैंने झट अपना हाथ पैंटी के अन्दर से निकला और वोह तुरंत दूर हट गई . दोस्तों , उस रात ऐसा लग रहा था k i मेरा लंड दर्द से फट जाएगा . फिर मैं मरीज के लंड को पाकर कर साफ किया और मरीज के लंड को लाली की तरफ़ घुमाया और फिर उसकी चूत की तरफ़ कर के हिलाया . वोह शरमा रही थी . दोस्तों , हमारे काम के जगह में एक nurses का private कमरा होता है जिस में फ़ोन होता है और अन्दर से lock करने की facility होती है और हाथ धोने के लिए हम लोग कभी कभी उसमें जाते हैं .
मैं यह बता दूँ की अक्सर रात में nurses के husbands के फ़ोन आते हैं कुवैत से और nurses उस private रूम को बंद करके काफी गरमा गरम बातें करती हैं तो मैं मरीज की पेशाब नाली डालने के बाद nurses के private रूम में आराम से हाथ धोने लगा . तभी लाली के husband का फ़ोन आ गया और वोह बिना मुझे देखे अन्दर आकर दरवाजा बंद कर के फ़ोन उठा कर बात करने लगी . आदत के मुताबिक वोह half doggy स्टाइल में थी . टेबल पे झुकी हुई , कमर 90 डिग्री पे मुरी हुई , पैर एकदम सीधे table से दूर और कुर्सी खली . दोस्तों मैं बता दूँ की nurses कम से कम एक घंटे जरूर बात करती हैं अपने husbands से और तब तक बाकी nurses उनको disturb नहीं करती . अब मैं लाली के साथ बंद था उस कमरे में और लाली फ़ोन पे kiss कर रही थी और मलयाली में कुछ बात कर रही थी . मैंने खली चिर उठायी और उसकी गांड के पीछे रख कर उसपर comfortably बैठ गया . अब मैं उसकी कमर को पाकर कर उसके गांड पे skirt के ऊपर से किस किया . उसने मेरी तरफ़ देखा और उसकी आह निकली. उसके husband ने कुछ नहीं समझा होगा क्यौंकी वोह लोग फ़ोन सेक्स कर रहे थे . उसने अपनी टांगें सीढ़ी कर ली और उसकी गांड मेरे चहरे के सामने आ गई .मैंने अपनी नाक उसके गांड पे सता कर गंध ली और साथ साथ उसकी दोनों मोटी जांघों को सहलाने लगा.

और कहानिया   दुकान में हुई मेरी चुदाई

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares