नयी शहर में नयी चुत

पापा का ट्रांसफर अब पुणे हो चुका था और हम लोग पुणे आ चुके थे पुणे आए हुए हमें करीब दो महीने ही हुए थे लेकिन हमारे पड़ोस में रहने वाले मोहन अंकल के परिवार के साथ हम लोगों के काफी अच्छे संबंध हो चुके थे। वह लोग अक्सर हमारे घर पर आया करते थे और हम लोग उनके घर पर जाते थे मैं पुणे के ही कॉलेज में पढ़ने लगा था और अपनी एमबीए की पढ़ाई पूरी करने के कुछ समय बाद मैंने पुणे के ही एक प्रतिष्ठित कंपनी में जॉब करना ठीक समझा और वहीं पर मैं जॉब करने लगा। हालांकि मुझे मुंबई से भी कई ऑफर आए थे लेकिन मैंने पुणे में ही जॉब करना ठीक समझा क्योंकि मेरा परिवार भी पुणे में ही रहता था। पापा भी अब कुछ समय बाद रिटायर होने वाले थे हम लोग चाहते थे कि अब हम लोग पुणे में ही कोई घर खरीद ले। पापा ने मुझसे इस बारे में कहा तो मैंने पापा से कहा कि हां पापा यह बिल्कुल ठीक है हम लोगों को यहीं रहना चाहिए।

अब हम लोगों ने पुणे में ही अपने लिए घर तलाशना शुरू कर दिया हम लोग कई बिल्डरों से मिले लेकिन अभी तक हमें कोई अच्छा घर नहीं मिल पाया था। काफी तलाश करने के बाद हम लोगों को मोहन अंकल ने एक बिल्डर से मिलवाया और जब हम लोग उनसे मिले तो उन्होंने हमें जो फ्लैट दिखाया वह हमे काफी पसंद आया और हम लोगों ने उन्हें उसका बुकिंग अमाउंट दे दिया। बुकिंग अमाउंट देने के बाद कुछ समय बाद हम लोगों ने वह फ्लैट खरीद लिया। हम लोगों ने अपना फ्लैट खरीद लिया था इसलिए हम लोग अब दूसरी सोसायटी में रहने के लिए आ चुके थे लेकिन मोहन अंकल से हम लोगों का मिलना जुलना अभी भी लगा रहता था। वह हो कुछ दिनों में हम से मिलने आ ही जाते थे मोहन अंकल के काफी रिश्तेदारों से हमारी जान पहचान भी हो चुकी थी क्योंकि हम लोग उनके घर के सामने ही रहते थे इसलिए उनके रिश्तेदार जब भी आते तो अंकल हम लोगों से भी उनका परिचय करवाया करते थे।

और कहानिया   अंकल के मोठे लुंड से चुद गयी

मैं अब अच्छा कमाने लगा था और मेरा प्रमोशन भी हो चुका था। पापा भी रिटायर होने वाले थे पापा जिस दिन रिटायर हुए उस दिन पापा काफी उदास थे वह कहने लगे कि कितने सालों से मैं हर रोज ऑफिस जाता था और ऑफिस से घर लौटता था लेकिन अब मैं ऑफिस नहीं जा पाऊंगा इस बात से पापा बहुत दुखी थे। मैंने पापा से कहा कि पापा एक ना एक दिन तो आपको रिटायर होना ही था अब आप मां के साथ समय बिताइए तो पापा कहने लगे आकाश बेटा तुम यह तो ठीक कह रहे हो इतने साल नौकरी करने के बाद तुम्हारी मां ने घर की सारी जिम्मेदारियों को बड़े अच्छे से निभाया है। अब पापा ज्यादातर घर पर ही रहते थे कभी कबार मोहन अंकल उनसे मिलने के लिए आ जाते थे। एक दिन मैं अपने ऑफिस से घर लौट रहा था तो मैंने देखा कि रास्ते में काफी ज्यादा भीड़ थी हमारी सोसाइटी के बिलकुल बाहर ही बहुत ज्यादा भीड़ थी मैंने वहां देखा तो कुछ लोग एक लड़के को बहुत ज्यादा पीट रहे थे मैं बीच में गया और मैंने उसे बचाने की कोशिश की तो मुझे सारा माजरा समझ आया। उन्होंने कहा कि यह एक चोर है और यह यहां से चोरी कर के भाग रहा था मैंने उन्हें कहा कि आप लोगो को इसकी पुलिस में कंप्लेंट करवानी चाहिए। जब पुलिस को मैंने इस बारे में जानकारी दी तो कुछ ही देर बाद पुलिस भी वहां पर पहुंची और उस चोर को पकड़ कर अपने साथ ले गए। मैं भी अपने घर आ चुका था जब मैं घर पहुंचा तो मां ने मुझे बताया कि बेटा यही पास में चोरी हुई थी तो मैंने मां को सारी बात बताई और मां को कहा कि कुछ लोग उस चोर को गेट के बाहर बहुत मार रहे थे तो मैंने पुलिस को इस बारे में जानकारी दी और पुलिस उसे अपने साथ उसे ले गई। मैं और मां साथ में बैठे हुए थे तो मैंने मां से कहा मां आज पापा नहीं दिखाई दे रहे तो मां कहने लगी कि बेटा वह मोहन अंकल से मिलने के लिए गए हैं मैंने मां से कहा लेकिन पापा उनसे मिलने कब गए थे। मां कहने लगी कि वह उनसे मिलने के लिए दोपहर में ही चले गए थे और अभी तक वह लौटे नहीं है मैंने पापा को फोन किया लेकिन पापा का फोन लग नहीं रहा था मैंने दोबारा से उन्हें कॉल किया तो उन्होंने फोन उठाया और कहा कि बेटा बस मैं घर पहुंचने वाला हूं।

और कहानिया   दुकान में हुई मेरी चुदाई

वह थोड़ी देर बाद घर पहुंच गए थे हम लोग उस दिन रात में साथ में ही डिनर कर के कुछ देर बैठे हुए थे और अगले दिन मैं अपने ऑफिस चला गया। सुबह मैं अपने ऑफिस के लिए घर से निकला ही था कि मेरी कार में कुछ खराबी हो गई जिस वजह से मैं अपने घर के पास ही एक मोटर मैकेनिक के पास में चला गया। उसने जब गाड़ी देखी तो उसने कहा कि साहब आज आपको गाड़ी यहीं छोड़नी पड़ेगी मैं इसे शाम तक ही ठीक कर पाऊंगा। मैंने उसे कहा ठीक है मैं गाड़ी तुम्हारे पास ही छोड़ देता हूं और शाम को मैं कार लेने के लिए आऊंगा। मैं उस दिन ऑटो से ही अपने ऑफिस गया और जब मैं अपने ऑफिस पहुंचा तो उस दिन ऑफिस में काफी ज्यादा काम था इसलिए मुझे उस दिन घर लौटने में बहुत देर हो गई थी। जिस कॉलोनी में मैं रहता था उसी कॉलोनी में मुझे एक लड़की दिखी वह मुझे काफी पसंद आने लगी थी मैं उसे अक्सर आते जाते देखता वह कुछ समय पहले ही वहां रहने के लिए आई थी शायद वह कॉलेज की पढ़ाई करती थी। एक दिन मैंने उसे देखा कि वह किसी लड़की के साथ है तो मुझे लगा कि वह शायद उसका बॉयफ्रेंड होगा इसलिए मैंने उसके बारे मे सोचना ही छोड़ दिया था।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares