प्लीज मेरी चुदाई करो

मेरा नाम मोनालिसा है और में अहमदाबाद की रहने वाली हूँ। मैं अक्सर यहाँ हिंदी सेक्स कहानी और भैया से चुदाई कहानी पढ़ने आती हु.. दोस्तों में आज आप सभी के सामने अपनी एक सच्ची कहानी सुनाने जा रही हूँ, लेकिन सबसे पहले में को बहुत बहुत धन्यवाद देना चाहती हूँ जिससे हम जैसे लोगों को अपनी कहानी शेयर करने का मौका मिलता है। दोस्तों में खुद भी इस साईट को पिछले कुछ सालों से रोजाना पढ़ती आ रही हूँ, अब तक मैंने इसकी बहुत सारी सेक्सी कहानियाँ पढ़ी है और बहुत मज़े किए है। (Hindi chudai kahani, Hindi sex story, Mastram Sex Story)

तो चलोअब ज्यादा टाईम खराब ना करते हुए में अपना पूरा परिचय आप सभी से करवा देती हूँ। दोस्तों मेरा नाम मोनालिसा है और में अभी तक कुंवारी हूँ और अहमदाबाद की रहने वाली हूँ। में एक सामान्य सी, लेकिन सेक्स की बहुत भूखी लड़की हूँ और मेरी उम्र 21 साल है। मेरी एक ही सबसे बड़ी कमजोरी है और वो है सेक्स। दोस्तों यह उन दिनों की बात है जब में 12th क्लास में थी और अपने कुछ जूनियर्स को फ्री में गणित की ट्यूशन दिया करती थी क्योंकि में इन कामों के आलावा पढ़ाई में भी बहुत अच्छी हूँ।दोस्तों कुछ समय पहले मेरे पड़ोस में एक लड़का रहता था, उसका नामराज था।

वो दिखने में बहुत ही ज्यादा अच्छा था और में हमेशा से उसे चाहती थी कि उसके जैसा लड़का कभी मुझे चोदे और हम दोनों उस समय एक ही स्कूल में जाते थे इसलिए हमारे बीच में कभी कभी थोड़ी बहुत बातचीत हंसी मजाक भी हुआ करता था। दोस्तों में पिछले कई दिनों से कोई अच्छा मौका ढूंड रही थी कि कभी मुझे उसे अकेले में मिलने का कोई मौका मिल जाए ताकि में उसे अपनी तरफ आकर्षित करके अपनी साईड ले सकूं,क्योंकि दोस्तों में आप सभी को बता दूँ कि में इस काम में बहुत ही ज्यादा माहिर हूँ और फिर एक दिन मुझे वो अच्छा मौका मिल ही गया।

दोस्तों मेरे मम्मी, पापा दोनों ही नौकरी करते है तो उसकी वजह से अक्सर सुबह 9-10 बजे तक हमारा पूरा घर खाली हो जाता था और में घर पर पूरा दिन भर अकेली रहती थी।एक दिन ऐसे ही बालकनी में बैठी हुई थी कि तभी राज ने मुझे आवाज़ दी औरफिर राज ने मुझसे कहा किआप तो गणित में बहुत अच्छी हो ना और मेरी गणित बहुत कमजोर है क्या आप मुझे सिखाओगे? बस फिर क्या था। मैंने मन ही मन बहुत खुश होकर बिना सोचे समझे मौके पर चौका लगा दिया और अब मैंने उससे कहा कि ठीक है तू आधे घंटे में मेरेपास आ जाना। मेरी तो खुशी का अब कोई ठिकाना ही नहीं था।

और कहानिया   जवानी में सेक्स का नशा चाड गया

मैंने फटाफट अपने रूम का सभी इधर उधर बिखरा हुआ सामान ठीक किया और एक मस्त सी नीले कलर की वन पीस पहनी जो में हमेशा रात को सोते टाईम पहनती हूँ और अब में उसका बहुत बेसब्री से इंतजार करने लगी। तभी मुझे दरवाजे पर लगी हुई बेल की आवाज़ आई तो मैंने दरवाज़ा खोला और देखा कि बाहर वो खड़ा हुआ था। वो मुझे उस ड्रेस में देखकर थोड़ा सा हैरान हुआ, लेकिन वो कुछ नहीं बोला, वो बस चकित होकर मुझे देखता रहा। फिर मैंने उससे कहा कि बस ऐसे देखते ही रहोगे या फिर अंदर भी आओगे? मैंने उसे अंदर बुलाया और अब वो सोफे पर बैठ गया, लेकिन उसकी नज़र बार बार मेरे बूब्स और पैरों की तरफ जा रही थी।

दोस्तों में आप सभी को बता दूँ कि मेरे बूब्स का साईज़ 34 है अब तो आप समझ ही गये होंगे कि मेंएक्सपर्ट क्यों हूँ? में भी उसकी नज़रों से अब समझ गई कि उसको भी कुछ कुछ हो रहा है। मैंने उसे पानी दिया और दरवाज़ा बंद कर दिया में उसके पास जाकर बैठ गई और मैंने उससे कहा कितुम मुझे बताओ कि तुम्हे क्या दिक्कत है?अब वो धीरे धीरे व्याकुल होने लगा था, क्योंकि में उसके पास बैठी हुई थी और में अपनेपैर उसके पैर से टच कर रही थी और साथ ही अपने बूब्स को उसके सामने प्रदर्शित करने लगी। मैंने अंदर ब्रा नहीं पहनी हुई थी तो इसलिए मेरे थोड़ा सा हिलने पर भी बूब्स ज़ोर ज़ोर से हिलरहे थे।

फिर हमने अपनी पढ़ाई शुरू की और में किसी ना किसी बहाने से उसकी तरफ पूरा झुक रही थी।फिर आधे घंटे के बाद उसने मुझसे कहा कि मोना बहुत भूख लग रही है, क्या कुछ खाने को मिलेगा? तो में उठकर किचन से चिप्स और बिस्किट्स लेने चली गई। इतनी देर में अचानक मुझे राज ने पीछे से आकरएकदम से टाईट पकड़ लिया ऊफफफ्फ़ वाह यार क्या अहसास था वो? में मुड़ी और वो मुझे पागलों की तरह किस करने लगा। मैंने उसे रोका और कहा कि राज तुम जानते हो कि क्या कर रहे हो? तो वो बोला कि अच्छा क्यों कमीनी अब तू ज्यादा भोली बन रही है?

और कहानिया   पति के नौकर ने बीवी की चुत में लगी आग भुजाइ

मुझे पिछले आधे घंटे से तड़पाकर खुद मुझे देखकर बहुत मज़े ले रही थी। उसके मुहं से यह बात सुनकर तो बस में और भी मूड में आ गई और में भी उसे पागलों की तरह किस करने लगी। वाह क्या अहसास था मुझे ऐसा लग रहा था कि हम दोनों प्यासे बस इसी एक चीज़ के लिए बेकरार थे और अब हम बिल्कुल पागल हुए जा रहे थे। उसने मुझे किचन प्लेटफॉर्म पर बैठा दिया और पागलों की तरह मेरे बूब्स दबाने लगा और में उससे कहने लगी अहआहहह उह्ह्हह्ह्ह्हचूतिये इतनी ज़ोर से क्यों दबा रहा है?

अहहह्ह्ह ऊउईईईइ माँ थोड़ा धीरे दबा। फिर राज बोला कि अभी तो शुरुवात है जानेमन और वो मेरे बूब्स को कपड़े के ऊपर से ही दबा रहा था। अब में भी धीरे धीरेपूरी तरफ से मदहोश हुई जा रही थी। उसने मेरे सभी कपड़े एक एक करके उतार दिया और पागलों की तरह मुझे चूमने लगा और में अह्ह्ह्हह् अईईईई राज कमीने और ज़ोर से अहहह्ह्ह काटो मेरे बूब्स को, राज काटो प्लीज। वो पूरे जोश में आकर जानवर की तरह मेरे दोनों बूब्स को काटने लगा और में भी उसके कान काट रही थी जिसकी वजह सेउसे बहुत मज़ा आ रहा था।

फिर उसने मुझे प्लेटफॉर्म से नीचे उतारा और हम फिर किस करने लगे, हम एक दूसरे की जीभ को चूस रहे थे। दोस्तों में आप सभी को शब्दों में क्या बताऊँ कि ऐसा करने पर कितना मस्त लगता है? आप भी एक बार ऐसा जरुर करना। अब में उसके कपड़े निकालने लगी और उसकी पेंट को निकालते ही मैंने उसका लंड मुहं में ले लिया और में अब उसे चूसने लगी ह्म्म्म्ममम वाह क्या स्वाद था? वो तो और भी जोश में होने लगा था और उसने मेरे बाल खींचकर मुझे उठाया और बोला कि कुतिया तुझे सारा मज़ा यहीं पर लेना है क्या? बता बेडरूम कहाँ है?

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares