मेरी दीदी के सात चुदाई का सुख पाया फिर से

दोस्तों मैं रवि फिर से एक गरमा गर्म कहानी लेकर आया हूँ. आपलोगो ने मेरी कहानी के पहले भाग “सीमा दीदी मुझसे चुदी बॉयफ्रेंड समझकर” में पढ़ा की कैसे नशे की हालत में सीमा दीदी मुझे अपना बॉयफ्रेंड समझ कर मुझसे चुदी थी.
उस घटना के बाद हमदोनो एक दूसरे से आँख नहीं मिलाते थे.. दीदी ने कुणाल से ब्रेकअप भी कर लिया था. अब हमारे बीच में एक सेक्सुअल टेंशन थी. हमदोनो चुदाई का मजा लेना चाहते थे पर कैसे स्टार्ट करे. दीदी घर में हमेशा टाइट कपडे पहनती है जिससे उसकी जवानी और निखर अति है. एक बार मैं घर पर सोफे पर बैठ कर टीवी देख रहा था तभी दीदी आ गयी. दीदी ने उस समय टाइट टीशर्ट पहना हुआ था, और छोटा सा निकर… दीदी ने अंदर ब्रा नहीं पहना था.. इससे चूचियां और बड़ी बड़ी लग रही थी और टीशर्ट के ऊपर से निप्पल भी दिख रहा था.. छोटी सी निकर में दीदी की कसी हुई भारी गांड बहुत मस्त लग रही थी… दीदी की चिकनी गोरी लेग्स बहुत ही सेक्सी लग रहे थे.. दीदी मेरे पांव पर सर रखकर लेट गयी और टीवी देखने लगी…थोड़ी देर बाद मैंने देखा की दीदी सो गयी है.. जब मैंने दीदी के बदन पर नजर दौड़ाई तो मेरे अंदर का शेर जाग गया…दीदी सोई हुई बहुत ही सेक्सी लग रही थी.. मेरा लंड खड़ा होने लगा और मेरा कण्ट्रोल छूट गया… मैं दीदी के जिस्म को सहलाने लगा… मैंने दीदी की नंगी टांगो को सहलाया, बहुत ही स्मूथ और गोरी टांगे थी.. फिर मेरा हाथ दीदी की भरी चुत्तड़ो पर गया और मैंने दीदी की चुत्तड़ो को दबाने लगा… दीदी अभी भी सो रही थी..फिर मैं दीदी के कमर को सहलाते हुए अपना हाथ उनकी चूचियों पर ले गया.. और चूचियों को दबाने लगा.. बहुत ही सॉफ्ट और कड़क माम्मे थे….अब मैं बहुत जोर जोर से उनकी चूचियों को दबा रहा था… मेरा लंड बहुत कड़ा हो गया. फिर मैंने दीदी का सर सोफे पर रखा और जाने लगा मूठ मारने के लिए पर दीदी जाग रही थी उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया.

और कहानिया   मेरी ख़ूबसूरत और सेक्सी बेहेन रेखा

दीदी: अह्हह्ह्ह्ह भाई कितना मजा आ रहा था.. क्यू छोड़ दिया तुमने
मैं: मुझे लगा आप सो रही हो
दीदी: अरे बुद्धू.. इतनी जोर से चूचियों को दबाओगे तो मैं क्या सोई रहूंगी .. और कहा जा रहा था अभी
मैं: दीदी मेरा लंड खड़ा हो गया है.. इसलिए मूठ मारने जा रहा था..
दीदी: भाई मेरे होते मूठ क्यू मार रहा है… आ मैं शांत कर देती हूँ

सीमा दीदी ने मेरी पैंट उतार दी और मेरी मूठ मारने लगी… फिर उसने मेरा लंड मुंह में ले लिया और चूसने लगी..दीदी के सॉफ्ट लिप्स की सकिंग मेरा लंड बर्दास्त नहीं कर पाया और मेरा माल निकल गया….

दीदी: अब किसका वेट कर रहा है बहनचोद … चोद अपनी बहन को.. उस दिन तो बहुत मजे से मेरी सील तोड़ी थी तूने… आज बहुत शर्म आ रही है..
मैं: उफ्फ्फ ठीक है दीदी … अभी चुदाई करता हूँ आपकी…

मैंने दीदी की टीशर्ट उतार दी और उनके आमो को दबाने और चूसने लगा… दीदी के पुरे बदन को किश कर रहा था… फिर मैंने दीदी की निकर उतार दी और उनकी बूर चूसने लगा…

दीदी: अह्हह्ह्ह्ह उईईईईई भाई जल्दी डाल ना अपना लंड मेरी बूर में… क्यू तड़पा रहा है अपनी दीदी को
मैं: उफ्फ्फ्फ़ दीदी पहले आपके बदन के हर अंग का मजा लूँगा फिर चुदाई करूंगा

फिर मैंने दीदी की बूर को फांको को फैलाया और लंड अंदर रखा. एक ही झटके में पूरा ८” का लौंडा अंदर पेल दिया… मेरा लंड दीदी की बूर को चीरता हुआ अंदर चला गया…

दीदी: उईईईईई माँ … साले बहनचोद इतनी बेरहमी से कोई लंड पेलता है क्या
मैं: साली रंडी.. अभी तो चोद मुझे बोल रही थी…. देख कैसे चोदता हूँ मैं तेरा बूर

मैं बहुत तेजी से अपना लंड दीदी की चूत में पेल रहा था… हर शॉट के साथ दीदी मॉन कर रही थी… उईईईईई उउउउउउ अह्ह्ह्हह्ह की आवाजों से रूम गूंज उठा ..

और कहानिया   शादीशुदा दीदी को चोदा मेरे मोठे लुंड से

दीदी: आआह्ह्ह्ह भाई… ऐसे ही चोदते रहो अपनी दीदी को…
मैं: ओह्ह्ह्ह दीदी ….आई लव फकिंग यू
दीदी: ओह्ह्ह्हह्ह्ह्हह उईईईईई भाई और तेज… मार अपनी बहन की चुत.. फाड़ दे मेरी बूर
मैं: उफ्फफ्फ्फ़ दीदी… आज से आप मेरे साथ सोना
दीदी: उईईईईई … उउउउउउ भाई ऐसे ही चोदेगा मुझे तो मैं डेली तेरे साथ ही सोऊंगी ….

मेरे लंड की रफ़्तार अब बहुत तेज हो गयी… लंड बुरी तरह से दीदी की बूर चोद रहा था… हमदोनो क्लाइमेक्स की तरफ बढ़ रहे थे… हमारी साँसे तेज हो गयी.. मैं दीदी की चूचियों को दबा दबा कर लम्बे शॉट मार रहा था… फिर हमदोनो खल्लास हो गए…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares