मेरी बड़ी बहन को जम के चोदा

मेरा नाम श्याम निषाद है,उमर 20 साल का एक नौजवान लड़का हूँ, मैं गोरखपुर सिटी में रहता हूँ,मैं छोटा सा बिज़्नेस करता हूँ, साथ ही साथ पड़ता भी हूँ, यह मेरी और मेरी बहन किरण की चुदाई की कहानी है. किरण मेरे बारे अंकल की लड़की यानि मेरी सौतेली बहन है,वो मेरी मूहबोली बहन नहीं है, किरण 22 साल की है. उनकी शादी हो गई है एक 2यियर्ज़ की बच्ची भी है. वह बहुत ही सुन्दर है,उसके छोटे छोटे बूब्स, काले काले बाल , भूरी आंखें, बूब्स एक दम उभरे हुए.जैसे की पहाड़ की छोटी है. वह बहुत पहले से मेरे ओर आकर्षित होती थी पर मैं बहन को चोदना नहीं चाहता था, बहन की शादी के वो बहुत कम यहां आती है, डेट की बात है वह यहां आई है, ,किरण मेरे कमरे में आई और बोली श्याम कैसे हो मैंने कहा ठीक हूँ, और मामी अंकल से मिलने चली गयी मैंने बहन भाई की चुदाई की कहानी बहुत सी पड़ी है मैंने सोचा चलो कोई और नहीं मिल रही है तो बहन को ही चोद देता हूँ,अगले दिन को प्लान फिट था क्या करना है 11 AM को किरण मेरे कमरे पास आई आते हुए मैंने देख लिया था. मैंने लॅपटॉप में BF लगा कर देखने लगा वो दरवाजे पे से देखने लगी और कुच्छ बोली नहीं 10 मिनट बाद मैंने BF बंद कर दी और पीछे मुड़ा तो वह खड़ी थी मैंने कहा किरण आप कब आई वो बोली जब तुम ये गंदी फिल्म देख रहे थे, मैंने कहा कब ुआसने कहा अभी को, मैं उठ कर किरण के पास गया और किरण का हाथ पकड़ कर कमरे में खिच लिया. कहने लगा किरण आप किसी को नहीं कहेगी वो बोली कहूंगी मैंने कहा आप ऐसा नहीं कर सकती उन्होंने कहा क्यों मैंने कहा .

और कहानिया   मेरी दीदी के सात चुदाई का सुख पाया फिर से

अभी बताता हूँ मैंने उनके सीर को पकड़ कर अपने होठों से उनके होठों को किस करने लगा वो उूुुुुआअ या क्या कर रहे हो मुझे चोदा, मैंने नहीं छोडा 5 मिनट तक किस किया और छोड दिया वो बोली तुम बहुत बेकार हो अपनी बहन के साथ ऐसा करते हुए शर्म नहीं आ रही है मैं बोला भाई के सामने BF देखते हुए आप को शर्म नहीं आ रही है, मैंने दरवाजा को बंद कर लिया वो बोली ये क्या कर रहे हो मैंने कहा कुच्छ नहीं प्यार करने जा रहा हूँ मैं किरण के पास गया, उनकी शरीर को खिच कर नीचे कर दिया वह गुलाबी शरीर गुलाबी ब्लाउज, और वाइट ब्रा पहनी थी जो बेलौस में से एक दम साफ दिख रही थी उनको शरीर से उतनी चाही पर मैंने उन्हें पकड़ कर उनके बेलौस के ऊपर से बूब्स को दबाने लगा किरण ने आंख बंद कर ली मैंने बेलौस के स्तनों को खोलना शुरू किया और उसे निकल दिया क्या, शरीर को भी खिच कर खोल दिया अब वह मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा और पेटीकोट में खड़ी थी कारण किरण मुझसे लिपट गई मेरे होठों को अपने होठों से चूसने लगी मैं उनकी पीठ और अगर को सहला रहा था किरण 10 मिनट तक मेरे होंठ को चूसी अब बड़ा मजा आ रहा था वह जोश में आ रही थी उन्होंने अपने ब्रा और पेटीकोट को भी उतार दिया अब वह सिर्फ़ पेंटी में खड़ी हो गयी मैं उन्हें देखने लगा पूरा शरीर दूध की तरह सफेद उप्पर ये चूची जो कह रही थी आओ मुझे चूसो गुलाबी होंठ जान मर रहे थे मैं उन्हें देख कर पागल हो रहा था, तुरंत ही उनके चूची को हाथों में लेकर मसलने लगा और होठों को चूसने लगा उसके बाद मैं उनके बूब्स को चूसना शुरू किया, उनके बूब्स से दूध निकल रहा था मैंने पूछा किरण आप के चूची में से तो दूध निकल रहा है वह कुच्छ नहीं बोली अपने हाथ को उनके पेंटी के ऊपर रख कर चुत को मसलने लगा उन्होंने मेरे पेंट में हाथ डाल कर मेरे लंड को सहलाने लगी अब वह और जोश में आ गई मैंने फिर उनकी पेंटी निकल दी वाह क्या चुत है बिन एक बाल का गुलाबी मैंने और छोटी सी ऐसे लग रहा है अभी यह चुत चुदी भी नहीं है मैंने पूछा किरण जीजा आप को चोदते नहीं हें क्या वह बोली उनका लंड एक दम छोटा है चुत में जाता है पता भी नहीं चलता और जल्दी ही झाड़ जाते है. मॅनेजर साहिब – मैंने कहा घबराइए मत मैं हूँ ना अब आप की चुत की प्यास बुझेगी, मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए उन्होंने मेरे 7 इंच लंबा 3 इंच मोटे लंड को देख कर कहने लगी श्याम तेरा लंड तो बड़ा मोटा है. मैं बोला किरण आप के भाई का लंड है अब आप की प्यास बुलाएगा किरण को को बाद पर बता कर दोनों पैरों को फैला कर गुलाबी चुत को चाटने लगा जो गीली थी किरण बोली ये क्या कर रहे हो मैंने कहा आप बस चुप रहिए मैं चुत को चाटने लगा किरण की आवाज़ भारी हो रही थी और आहह आआअहह आआआआहह आआआअहह उुउऊहह उउउहह उुउऊहह आआआआआआहह श्याम बड़ा मजा आआराहाआ हैयययययी तेरे जीजा ने कभी भी मेरे चुत को नहीं चाहता तुम चाटो और सारा पानी पी जाऊं,मजा आ रहा है किरण गड़ उठा उठा कर मेरे जीभ से पेलवाया जा रही थी,

और कहानिया   बेहेन जब चुदाई के लिए तइयार होती है

मैं चुत से निकले वाले पानी को पिए जा रही मेरा लंड एक दम टन कर खड़ा था किरण की चुत को 15 मिनट तक चाहता अब किरण झरने वाली थी किरण बोली मैं झड़ने वाली हूँ, मैं बोला हुुआाअ उन्होंने पानी छोड दिया मैंने उनका सारा पानी पी गया, अब दीदी शांत हो गई, बाद पर लेट गई, मैंने कह किरण ऐसे कम नहीं चलेगा, मैं बाद पर चढ़ कर उनके ऊपर बाद कर लंड को मुंह पर लगा दिया और बोला किरण मेरे लंड को चूसो किरण मना कर रही थी मैंने ज़बरदस्ती किरण के मुंह मैंने लंड को डाल दिया अब किरण मेरे लंड को चूसने लगी मैं मुंह को चुत समझ कर मुंह को चोदे जा रहा था किरण फिर से गरम हो रही थी मेरे लंड को ज़ोर ज़ोर से चूस रही थी 10 मिनट के बाद मेरे लंड का ज्वाला मुखी फुट और उनके मुंह में मेरे पानी अगर गे वह मेरे लंड को मुंह में से निकल कर लंड के पानी को थूकने जा रही थी मैंने उनके मुंह को अपने होठों से मूंद लिया थूक नहीं पाई और पानी पी गयी मैं उनके गुलाबी होठों को चूस रहा था वह भी,जीभ को किरण के मुंह के अंदर डाल कर उनके जीभ को चूस रहा था वो मेरे जीभ को चूस रही थी मैं अपने एक होंठ से उनके चुत को सहलाने लगा अब फिर से वो गरम हो गई मेरा लंड भी तब तक खड़ा हो गया मैंने किरण से कहा किरण आप पैर फैलाइए किरण ने पैर फेलाया लंड को चुत की होल पर रख कर एक धक्का दिया मेरा लंड अंदर नहीं गया फिर से मैंने चुत पे लंड रख कर ज़ोर का धक्का दिया अब मेरा 3 इंच लंड चुत को चीरता हुआ अंदर गया किरण चिल्ला उठी

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares