मेरा भाई और मेरे अब्बू भाग 3

मुन्नी = बेबी जो हुआ उसको छोडो ना,
मुन्नी मेरे पास आई और मुझ चूमकर बोली= बेबी तेरी अम्मी और अब्बू यह सब रोजाना करते है,
लेकिन आज तेरी अम्मी नहीं है इसलिए तेरे अब्बू ने मुझको अपनी घरवाली बंना लिया है.
में = लेकिन मुन्नी ये तो गलत है ना.
अब्बू = बेबी यह गलत तो है लेकिन इसकी आदत ही एसी है की करे बगेर नींद नहीं आती है.
में = लेकिन बेचारी मुन्नी को दर्द हुआ ना उसका क्या.
अब्बू = में उसके पीछे में बर्फ लगा दूंगा ना बेबी
में = मेरे सामने ही लगाइए ना अब्बू
अब्बू = ठीक है बेबी और अब्बू बर्फ लेने रसोई में गए.
और मैंने मुन्नी को चूम लिया और बोली = मुन्नी मुझे भी लंड लेना है दिलवा दो ना.
मुन्नी = तेरे अब्बू आज जरुर तुझको लंड दे देंगे मेरी जान अब तुम मेरा कमाल देखना बस.
तभी अब्बू आ गए वो एक कटोरी में बर्फ लाये और मुन्नी को लेट जाने को बोला मुन्नी अपनी सलवार उतर कर उलटी लेट गयी
अब्बू ने बर्फ का टुकड़ा उसकी गांड पर फिराने लगे मुन्नी धीरे धीरे करह रही थी मैंने अब्बू के लंड की तरफ देखा वो तहमद में धीरे धीरे
हिल रहा था, मैंने अब्बू से कहा = अब्बू उसके छेद पर लगाओ ना जहाँ आपने अपना ये डाल रखा था और मैंने अब्बू का लंड पकड़ लिया.
अब्बू ने बर्फ मुन्नी की गांड के छेद पर रखी.
मारे मज़े के मुन्नी चिल्लाने लगी= हाई साहब यही लगाओ ना आहा आहा अहा अहा आहा हई हई
और अब्बू जोर जोर से मुन्नी की गांड पर बर्फ रगड़ने लगे,मैंने अब्बू का लंड पकड़ रखा था,और अब्बू का लंड वापिस बड़ा होने लगा था,
में अपने बूब खुद ही रगड़ने लगी और अब्बू से बोली अब्बू मेरे यहाँ भी दर्द हो रहा है
अब्बू मेरी तरफ देखने लगे और बोले = आजा फिर तेरे भी बर्फ रदाग देता हूँ बेबी,
में ने कहा ठीक है अब्बू और में अब्बू के सामने सो गई, अब्बू ने कहा बेबी ये टीशर्ट तो उतर दो ना,
में = अब्बू मुझे शरम लगती है,आपसे .
मुन्नी = अरे बेबी श्र्मोगी तो तेरा दर्द केसे दूर होगा चल आजा और उसने मेरी टीशर्ट उतर दी अब में अब्बू के सामने उपर से नंगी थी,
मुन्नी बिलकुल ही नंगी थी जबकि अब्बू ने तहमद बांध रखा था,
अब्बू मेरी चुन्चियो को गोर से देख रहे थे और अब्बू ने मुन्नी को बोला मुन्नी दो पेग तो बनालो हमारे लिए.
में बोल पड़ी में भी पेग ही पियूंगी अब्बू और अब्बू बोले ठीक है बेबी,और मुन्नी पेग बनाने लगी ,
अब्बू मेरी चुन्चियो पर बर्फ लगाने लगे और दुसरे हाथ से मेरी चुन्ची को हलके हलके सहला रहे थे,
में मस्त होने लगी थी,अब्बू मेरी चुन्चियो को गोर से देख रहे थे उनका लंड पूरी तरह से खड़ा हो चूका था,और हिल भी रहा था,
मैंने एक हाथ अपनी चूत पर रख लिया और पेंट के उपर से ही अपनी चूत को सहलाने लगी,
टीवी पर सीन चल रहा था जिसमे एक लड़की एक लंड चूस रही थी, मैंने अब्बू से पूछा अब्बू ये क्या कर रही है,
अब्बू बोले = बेबी ये अपने अब्बू को खुश कर रही .
में = क्या ऐसा करने से अब्बू खुश होते है क्या.
अब्बू = हाँ बेबी बहुत खुश होते है.
में = तो क्या में आपको खुश करू क्या ..और मैंने अब्बू का लंड पकड़ लिया.
अब्बू = हाँ बेबी लेकिन यह सब किसी को भी मत बताना .
मैंने कहा ठीक है अब्बू .

और कहानिया   एक तरफ देवरानी एक तरफ जेठानी

और फिर मैंने अब्बू का लंड उनके तहमद से बहार निकाल लिया,
और अपने हाथ से पकड़ लिया में बहुत ही मस्त हो गई अब्बू का फुला हुआ लंड देखकर.
तभी मुन्नी पेग बनाकर ले आई और मुझे लंड पकडे देखकर बोली=क्या बात है बेबी लगता है चूसने का इरादा है,
चूस लो बेबी बड़ा ही मज़ा आएगा पर किसी से बोलना मत रानी, और मुन्नी ने हमें पेग पकड़ा दिए.
अब्बू ने एक ही बार में पेग ले लिया और मेरे को अपनी गोद में बेठा लिया उनका लंड मेरी गांड के छेद से लग रहा था,
और अब्बू ने मुन्नी को कोई इशारा किया और मुन्नी बोली= साहब आज बहुत ही गर्मी है बेबी तुम अपने भी कपडे उतर दो ना.
में समझ गयी और में अब्बू की तरफ देखा, तो अब्बू ने कहा = हाँ बेबी उतार ही दो ना, और ये पेग भी लेलो मेरी बेटी .
में समझ चुकी थी की आज अब्बू मस्ती में है और अपनी ही सगी बेटी को चोदना चाहते है.
में भी तेयार ही थी, मैंने अपनी पेंट उतार दी अब में एकदम मादरजात नंगी थी.और पेग पि रही थी तभी मुन्नी पास आई,
पास आकर मुन्नी ने कहा=साहब एक बात बोलू क्या अगर आप बुरा ना मानो तो,
अब्बू = हाँ बोलो ना मुन्नी .
मुन्नी = बेबी को अपना लंड चूस वाओ ना,
क्यूंकि इसकी गांड बहुत ही पतली है,आप के लंड का पानी पीकर इसकी गांड थोड़ी बड़ी हो
जाएगी जेसी मेरी और आपकी बीबी की है.
अब्बू = (मेरी तरफ देख कर) जरुर मुन्नी पर क्या बेबी इसको अपने मुंह में लेगी क्या.
में = क्यों नहीं अब्बू जब अम्मी और मुन्नी इसको अपने मुंह में ले सकती है तो में क्यों नहीं ..?
अब्बू = पहले किसी का लिया है बेबी …?
में = नहीं अब्बू कभी नहीं लिया है किसी का क्या ये हर किसी का मुंह में ले सकते है क्या ..?
अब्बू = नहीं बेबी ये तो सिर्फ उनका मुंह में लेते है जिनसे हम प्यार करते है .

और कहानिया   दो सलियो को चोदने का कमुक्त कहानी
और अब्बू ने मुझे अपनी गोद से उतारा और मुझे फ़र्स पर बैठाया और खुद मेरे मुंह के सामने खड़े हो गए.
उनका लंड बिलकुल मेरे मुंह के पास था और हिल रहा था वो करीब 8” का था और काला काला सा था,
मुन्नी भी पास आ गयी और मुझे बताने लगी की लंड को केसे चूसते है,
और फिर वो वक्त आया जब अब्बू ने अपना लंड मेरे मुंह की तरफ बढाया और में पहली बार किसी लंड को अपने मुंह
में ले रही थी वो भो अपने अब्बू के बड़े से लंड को ,
मैंने अपना मुंह खोला और अब्बू ने अपना लंड झट से मेरे मुंह में डाल दिया.
अहा मेरे गले तक जेक लंड रुक गया और मुझे जोर से खांसी आई,
अब्बू ने लंड वापस निकला, मुन्नी ने कहा = साहब क्या करते हो धीरे धीरे डालो ना बेबी ने पहली बार मुंह में लिया है.
अब्बू=सोरी बेबी अब धीरे धीरे डालूँगा मेरी बेटी.
मैंने कहा = कोई नहीं अब्बू.

Pages: 1 2 3 4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares