मेरा भाई और मेरे अब्बू भाग 2

में मुन्नी की बातो से और भी गरम हो गई थी,
मेरे अब्बू और अम्मी के बारें में यह सब सुन कर में समझ गई की में कुछ गलत नहीं कर रही थी,
बल्कि सेक्स में सब लोग ऐसा ही करते है.
और में भी अब सेक्स का असली मज़ा लेना चाहती थी,
तभी मुन्नी बोली=क्या हुआ बेबी कपडे उतारे क्या..?
में=मुन्नी लेकिन तुम भी तो ओरत ही हो ना मुझे भला क्या मज़ा दोगी..?
मुन्नी=हां में हूँ तो ओरत ही लेकिन तुमको ऐश करवा दूंगी मेरे पास लंड तो नहीं है पर मेरी जीभ*
तेरी चूत को कुछ ठंडा जरुर कर देगी, जेसा तेरी अम्मी को करती है एक बार मौका तो दो,
और मुन्नी मेरे कपडे उतरने लगी, तभी मेरे को ख्याल आया की हम दोनों होल में ही है और अब्बू भी आ सकते है,
मैंने मुन्नी से कहा चलो मेरे कमरे में चलते है.
मुन्नी ने मनाकिया और बोली तेरे नहीं तेरी अम्मी के कमरे में चलते है वहां सब कुछ है तेरी चूत की खुजली मिटने को.
में कुछ समझी नहीं पर उठ कर उसके साथ चल दी.
चलते चलते मैंने कहा=मुन्नी आज खाना मत बनाना क्यूंकि अब्बू बहार से ही खाना ला रहे है.!
मुन्नी=मुझे पता है बेबी तेरे अब्बू ने मुझे भी फोन कर दिया है और बोले है की में अपनी झांटे साफ़ करलू,
क्यूंकि आज रात को मेरी चुदाई करने वाले है, और तुम चिंता मत करो तेरे अब्बू रात के दस बजे से पहले नहीं आने वाले है*
और अभी तो आठ ही बजे है, खूब वक्त है हमारे पास मज़ा करने को.
और हम दोनों अम्मी के कमरे में पहुँच गए.*
कमरे में घुस कर मुन्नी ने दरवाजा बंद कर लिया,और मुझसे लिपट गई में भी बेताब थी,
में भी उसको चूमने लगी, और मुन्नी ने मेरा पायजामा उतारा और टीसर्ट भी अब में ब्रा पेंटी में थी.
और मुन्नी ने भी सलवार कमीज उतार दिए उसने भी ब्रा पेंटी पहनी हुई थी,
वो थोड़ी काली थी पर मस्त लग रही थी * *
और उसके बूब तो जेसे कहर ही ढा रहे थे, मस्त मस्त बूब ब्रा के अंदर नहीं समां रहे थे,
मुन्नी ने मुझे पकड़ कर चूमा और मेरी गांड दबाने लगी जोर जोर से और मेरे मुंह को चूमने लगी.
में भी कहाँ कम थी मैंने भी उसकी गांड सहलाना शुरू किया और हम एक दूजे में सामने की कोशिश करने लगे,

और कहानिया   चचेरी बहन की सील तोड़ी

तभी मुन्नी ने मुझे छोड़ दिया, में बोली क्या हुआ मुन्नी…?
मुन्नी=बेबी तुमको सच में किसी ने नहीं चोद है क्या या तुम मुझको चुतियाबना रही हो बेबी सच बोलो ना..?
में = मुन्नी अम्मी की कसम आज तक किसी ने भी मेरी चूत को नहीं छुआ है और ना ही किसी चीज को अपनी चूत में डालाहै.
मुन्नी = वाह बेबी क्या बात है मतलब तुम कोरी कंवारी ही हो.चलो तुमको कुछ दिखाती हूँ…!
मुन्नी टीवी के पास गई और एक अलमारी से एक सी डी निकाली और उसको चला दिया…!
उस सीडी में मेरे अब्बू और अम्मी थे, अम्मी एक बेड पर बेठी थी और अब्बू रूम के अंदर आते है,
और अंदर आते ही अब्बू अम्मी पर टूट पड़ते है, अम्मी उनको रोकती है और अपने कपडे उतार देती है,
फिर अब्बू भी अपने कपडे उतार देते है **
और अम्मी के साथ बेड पर आ जाते है,*
फिर अम्मी के बूब चूसते है अब्बू का लंड कालासा था और अभी खड़ा भी नहीं था,
तभी अम्मी अब्बू का लंड मुंह में ले लेती है और चूसने लगती है कुछ ही देर में अब्बू का लंड बड़ा हो जाता है,
और फिर अब्बू अम्मी की चूत चाटने लगते है, और कुछ देर में ही दोनों गरम हो जाते है*
फिर अम्मी अब्बू को अपने उपर ले लेती है( फिल्म में आवाज नहीं थी ) और अब्बू अम्मी की चूत में अपना लंड डाल देते है,
अम्मी को अब्बू करीब 30-35 मिनिट तक चोदते है*
और फिर अब्बू अपना पानी अम्मी के शारीर और मुंह पर गिर देते है,
इस बीच मै में और मुन्नी दोनों मदर जात नंगे हो जाते है,, और तभी उस फिल्म में एक लड़का आ जाता है.
में उसको जानती भी हूँ वो लड़का मेरे भाईजान का दोस्त था,और उसका नाम तालिब था .
मुन्नी बोली = यही केमरा चला रहा था बेबी.

और वो लड़का मेरी अम्मी का मुंह चूमता है और अब्बू का लंड भी चूमता है में बहुत ही हेरान थी.ये सब देख कर …!
तभी मुन्नी बोली= यह लड़का गांडू है इसको गांड मरवाने का बहुत शौक है,
तेरे भाईजान इसकी गांड मारा करते थे एक दिन तेरी अम्मी ने ये सब देख लिया और फिर अब्बू को बता दिया,
फिर तेरे अब्बू ने तेरे भाईजान को दिल्ली भिजवा दिया और अब वो गांड का मज़ा लेते है.
मेरी हालत बहुत ही ख़राब थी और फिर मुन्नी मेरी चूत चाटने लगी.
हम दोनों उलटे हो गए अब में मुन्नी की चूत चाट रही थी और मुन्नी मेरी,
में पहली बार चूत चाट रहीथी चूत का टेस्ट नमकीन था और चूत से पानी भी आ रहा था,
मुझे चूत का स्वाद बुरा नहीं लग रहा था,
मुन्नी मेरी चूत चाट रही थी मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा था,
और में तो जेसे जन्नत में ही पहुँच गयी थी.
फिर मुन्नी ने मेरी चूत में एक अंगुली डाली मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा थाआज पहली बार मेरी चूत
में कोई चीज जा रही थी वो भी एक अंगुली ….!
मुन्नी बोली = बेबी मज़ा आ रहा है न मेरी जान कई दिन से में तेरी चूत चाटना चाहती थी लेकिन तुम मेरी और ध्यान ही नहीं देती थी
आज मोका मिला है मुझे तेरी चूत को वो मज़ा दूंगी की तेरी अम्मी की तरह तुम भी मेरी जान बन जाओगी बेबी,
और फिर हम वासना और हवस की दुनिया की शेर करने लगे मुन्नी मेरी चूत से अंगुली निकल कर जीभ से चोदने लगी थी,
में भी उसकी चूत चाट रही थी
ऊऊ आहा हा हा हां आहा अहा आहा और चाटो मुन्नी आ छोड़ डालो मेरी चूत को आहा आहा चोदो फाड़ दो मेरी कंवारी चूत मारो चोदो
और मेरी चूत से पहली बार पानी निकल गया.
बहुत ही मज़ा आया था मुन्नी ने सही कहा था वो जोरदार मज़ा देती थी फिर मैंने भी मुन्नी की चूत को चाटना चालू किया तो मुन्नी बोली= रहने दे ना बेबी तेरे अब्बू भी तो आने वाले है और भी मेरी चूत चाटेंगे और चोदेगे.

और कहानिया   कलयुग की द्रौपदी

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares