मैंने माँ को और पापा ने बेहेन को चोदा

तब मम्मी बोलीं – चलो, पत्थरों की और चलो… अंदर जाने में तो डूबने का डर रहेगा…
फिर, मैं और मम्मी उथले पानी में ही सीने तक डूब कर पत्थरों पर बैठ गये.. लेकिन, समंदर की तेज़ लहरें हमें बार-बार डुबाने की कोशिश करती थीं और हम दोनों चिपक कर, फिर से चट्टान पर बैठ जाते..
मम्मी से इतना ज़्यादा चिपकने का मौका, मैं खोना नहीं चाहता था.. इसलिए, मैं मौका मिलते ही, मम्मी को पकड़कर सीने से लगा लेता..
तभी, वहां एक बाइक आकर रुकी। जिस पर, एक अधेड़ आदमी जिसकी उम्र करीब 50 के आस पास होगी और एक 25 साल की लड़की को लेकर आया।
दोनों के हाथों में शराब की बॉटल्स थीं और वे बिकनी और बरमूडा में थे। गाड़ी खड़ी करके, वहां पत्थरों के बीच आड़ में चूमा चाट करने लग गये।
यह देख कर, मम्मी बोलीं की हम यहाँ चुपचाप पत्थरों के पीछे से उनको वॉच करते हैं, यह लड़की, उसकी बेटी की उम्र की लग रही है, और एस बुड्ढे को जवानी चड़ी है… मज़ा आने वाला है, आज तो…
वह दोनों कुछ देर तक तो दारू पीते हुए, बात करते रहे… लेकिन, बाद में उस बुड्ढे ने लड़की के होंठो को चूसना शुरू कर दिया और धीरे से उसकी ब्रा निकाल दी और उससे मस्ती करने लगा…
तभी लड़की ज़ोर से हंसते हुए, भाग खड़ी हुई और हमारी तरफ ही आने लगी।
तब मम्मी बोलीं की देख, ऐसा दिखना की हमने उनको अभी तक देखा ही ना हो… और हम भी पानी में मस्ती करने लगे।
वह लोग भी हमारी तरफ ही आ गये।
हमें देख कर लड़की ने अपने दोनों दूध पर हाथ रख कर, ब्रा पहनने की कोशिश की..
वह आदमी हल्के से मुस्कुराया और विश करने के अंदाज़ में झुकते हुए बोला – क्या आप भी ज़िंदगी का मज़ा उठा रहे हो… ??
तो मम्मी बोलीं – जी हाँ, बिल्कुल…
तभी वहां पानी में एक बड़ी सी बॉल ना जाने कहाँ से तैरकर आ गई.. जिसे उस लड़की ने पकड़ लिया, और कहने लगी की आओ ना, हमारे साथ खेलो…
मम्मी के आँखों से इशारा करने पर, हम भी उनके साथ इंजोय करने लगे।
एक तरफ वो दोनों थे तो दूसरी तरफ, हम दोनों माँ बेटे।
जब मम्मी बॉल लेने के लिए झुकतीं, तब वह आदमी मम्मी के बूब्स को गौर से देखने लगता और पीठ करती तो मम्मी की गांद को घूरता।
खैर, लगभग एक घंटा मस्ती करने के बाद, वह जाने लगे तो उसने कहा की आप लोग किस होटल में रुके हुए हैं… तो मम्मी बीच में ही बोल पड़ीं की हम यहाँ ताज रिज़ॉर्ट्स में है और कल ही वापस चले जाएँगे…
जब वह अपनी बाइक के पास गया तो मुझसे धीरे से बोला की मैंने तो पैसे देकर लड़की को किया है… इसलिए, साली ज़्यादा नाटक कर रही है.. लेकिन, तू तो बच्चा होकर मस्त माल बटोर लाया है… तेरी बड़ी बहन लगती है, क्या… ?? ऐसी चीज़ तो पूरे गोआ बीच पर नहीं देखी, यार…
मैंने सोचा क्या वास्तव में मम्मी इतनी सेक्सी हैं या वह फालतू ही बोल रहा था।
कुछ देर बाद, हम भी वापस लौट आए। तब मम्मी बोलीं की चलो, गेस्ट हाउस के पीछे चलते हैं… वहां स्विमिंग पूल में तैरकर, बदन पर लगी मिट्टी और रेत साफ़ कर लें…
मैं बोला की आप पूल में उतरो… मैं अभी, तौलिये और कपड़े लेकर आता हूँ..
जब मैं तौलिये लेकर आया तो देखा की मम्मी ने अपनी बिकनी उतार कर पूल साइड पर रख दी है और वह नंगी होकर, मेरी और पीठ करके पानी में खड़ी थीं।
यह देख कर, मैं चौंक सा गया.. लेकिन, तभी फोन की बेल बाजी और मैं अंदर चला गया..
फोन बहन का था और वह कह रही थी की वह पापा के साथ, कल सुबह गोआ पहुँच जाएगी और आज पापा उसे दिन मे स्विमिंग कॉस्ट्यूम्स वगेरह दिलाएँगें…
तो मैंने कहा की पैसे मत बिगाड़ो… यहाँ सभी ज़रूरत की चीज़ो से वॉर्डरोब्स भरे पड़े हैं… बस, जल्दी से, जल्दी आ जाओ…
तो वो कहने लगी की हाँ… पापा भी कह रहे थे की जल्दी से गोआ चलते हैं…
अगले दिन, लंच के समय तक पापा और बहन भी पहुँच गये।
मम्मी ने घुटनों के ऊपर तक का पतला सा स्कर्ट और टॉप पहन रखा था और बहन भी टाइट वाइट टॉप और जीन्स पहन कर आई थी।जिसमें से उसके बड़े बड़े बूब्स साफ़ दिखाई दे रहे थे.. गांद पर से भी उसकी फिगर, कयामत ढा रही थी..
फिर, उसने बताया की पापा ने उसे ऐसे कपड़े दिलाए हैं की अपने यहाँ तो उनको पहनने की कोई हिम्मत भी नहीं कर सकता।
लंच के बाद, हम चारों पूरा गेस्ट हाउस घूम कर पूल साइड पर बैठकर गपशप कर रहे थे.. तब, पापा ने बताया की यह गेस्ट हाउस उनके बॉस का है और वह इसे केवल अपने खास लोगों को ही एंजाय करने के लिए देते हैं और यदि ऐसा कॉटेज किराए पर लिया जाए तो वह यहाँ की किसी फाइव स्टार होटल के बराबर पड़ेगा। फिर भी हमें, उसमें इतनी प्राइवेसी नहीं मिलेगी।
इधर, तेज़ हवाओं के कारण मम्मी का पतले कपड़े का स्कर्ट बार बार उड़कर उनकी थाइस पर चढ़ रहा था…
लेकिन मेरी मम्मी, उसे बड़े बेफ़िक्र अंदाज़ में आराम से उसे सीधा करतीं.. !!
वैसे, पापा भी कुछ खास प्रतिक्रिया नहीं कर रहे थे।
खैर, शाम को हम सभी ने होटल में जाकर डिन्नर करने का प्लान बनाया।

और कहानिया   अंकल ने दो बहनो की चुत का मज़ा लिया

Pages: 1 2 3 4 5

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *