मैंने माँ को और पापा ने बेहेन को चोदा

आज के पहले मैंने सोना स्टिम बाथ का केवल नाम सुना था.. लेकिन, देखा या अनुभव नहीं किया था..
मम्मी तो एक दो बार पापा के साथ, टूर्स पर गई थीं और बड़ी होटेल्स में इन सबका मज़ा लूट चुकी थीं।
सुबह के हेवी ब्रेक फास्ट के बाद, मैं और मम्मी दोनों नीचे बेसमेंट में गये और वहां जाकर मम्मी ने सोना बाथ का एलेक्ट्रिक स्विच चालू किया। जिस से की सेमी ट्रांसपेरेंट ग्लास के केबिन में हॉट स्टीम बनाने लगी, तब मम्मी बोली की आओ चलो… अपनी बॉडी पर भी मेरे साथ स्टीम बाथ के पहले लगाने वाला, स्किन क्रीम लगा लो…
तब, मम्मी ने अपनी नाईटी खोल दी।
मैंने देखा तो मम्मी ने अंदर केवल ब्रा पैंटी पहन रखी थी। जब मम्मी ने अपनी गोरी गोरी, मोटी मोटी टाँगें चौड़ी करी तो मैंने देखा की उनकी पैंटी में से उनकी चूत की झाँटे, बाहर आने को मचल रही थीं।
जिन्हें देख कर, वो हल्की सी मुस्काई और बोलीं – बेटा, देख तो यहाँ ड्रॉर में कोई हेयर रिमूवर रखा है क्या… ??
मैंने देखा तो वहां पर अनफ्रेंच का हेयर रिमूवर था, जिसे मैंने उन्हें दे दिया।
अब मम्मी बोलीं – चल जल्दी से, अंदर जा कर तापमान देख ले… मैं भी आती हूँ…
मैंने केबिन में जाते समय, अपनी तिरछी निगाहें मम्मी पर डालीं तो वे अपनी पैंटी को थोड़ा नीचे करती दिखीं।
अब मेरा दिमाग़ खराब हो रहा था.. यह समझ नहीं आ रहा था की मम्मी मुझ पर इतनी मेहरबान क्यों है और वह मुझे इस तरह उत्तेजित कर के क्या चाहती हैं… ?? क्या मैं खुद आगे बढ़ कर, हिम्मत कर के कुछ करूँ… ??
उनका मज़ा मारने का शब्द, मुझे अंदर तक कन्फ्यूज़ कर गया..
मैंने बाहर देखने की कोशिश की पर अंदर स्टीम की भाप के कारण, बाहर का कुछ दिखाई नहीं दे रहा था..
अचानक, मम्मी अंदर आईं और कहने लगीं की ऐसी ही मत बैठो… अपने बदन पर, हाथ फिरा फिरा कर पसीना और भाप की मालिश करो… स्टीम बाथ से, अपनी खराब स्किन साफ होकर, नई स्किन बनती है…
तब मम्मी ने मेरी तरफ पीठ की और कहा की चल, मेरी ब्रा का हुक खोल दे और मेरी पीठ पर अपने हाथों से अच्छी तरह से मालिश कर दे…
अब मैं भी बेशरम होकर, मम्मी की मांसल पीठ पर हाथ फेरता जा रहा था.. लेकिन, मैं अभी तक मम्मी की निपल्स और बड़े-बड़े बोबो के खुल कर दर्शन नहीं कर पाया था.. क्यूंकि, मम्मी ने अपने दूध पर हाथ रख रखा था..
लगभग, आधा घंटा स्टीम बाथ लेने के बाद, हम दोनों बाहर आ गये..
मम्मी ने अपने कंधों पर तोलिया रखा था। जिस वजह से, मुझे उनके रसीले आमों को देखने का मौका नहीं मिल रहा था।
खैर, उसी शाम पापा का फोन आया की वह और मेरी बड़ी बहन दोनों, अगले दो दिनों में यहाँ पहुँचने वाले हैं।
यह सुन कर, मैं थोड़ा उदास हो गया। क्यूंकि, तब मुझे शायद पापा के सामने मम्मी का ऐसा सेक्सी रूप, देखने को नहीं मिलेगा।
रात में, मम्मी ने हल्का फूलका डिन्नर बनाया। जिसे हम खाकर, टीवी के सामने जम गये।
बाहर, बारिश में भी कुछ कमी महसूस होने लगी थी।
तभी मम्मी बोलीं की चलो, टीवी देखते हुए मेरी पीठ पर हल्की मालिश भी कर दो… शायद, बेड चेंज होने से कुछ दर्द महसूस हो रहा है…
मम्मी ने सुबह से ही, टी-शर्ट और नेकर पहन रखा था।
मम्मी ने अपनी टी शर्ट ऊपर उठाई तो अंदर उनकी ब्रा थी। जिसका हुक खोल कर, मैंने उनकी पीठ पर आयिल मसाज करना शुरू कर दिया।
तब मम्मी बोलीं – ऐसा कर, मैं अपनी नेकर थोड़ा नीचे करती हूँ… मेरे हिप्स की भी, थोड़ी मालिश कर दे…
मैं सेक्सी सपने देखते हुए, मम्मी की मालिश करता जा रहा था।
कुछ देर में, मम्मी मस्त सो गईं.. उनकी पीठ और हिप्स भी खुले ही थे..
मैं बहुत देर तक गौर से देखता रहा और नींद आने पर उनके पास ही डबल बेड पर सो गया..
रात में, लगभग 2-3 बजे। मम्मी के हल्के से करवट लेने पर, मेरी आँख खुल गई और मैंने देखा की मम्मी अब चित सो रही थीं।उनकी गहरी नींद में होने का पक्का कर, मैंने उनका टी शर्ट थोड़ा ऊपर किया और उनकी ब्रा भी ऊपर कर के, उनके मस्त रस भरे स्तनों के दर्शन करने लग गया..
उनकी निपल्स भूरे रंग की थीं और मैं उनको देख कर पागल सा हो गया और मैंने तत्काल बिना देर किए, आहिस्ता से उनको अपने मुँह में ले लिया और धीरे – धीरे उनको चूसने लगा.. ..
मैंने अपना एक हाथ उनकी नेकर में भी डाल दिया। नेकर के हुक खुला होने से वह भी उनकी योनि के पास तक सरक गई थी।
मैंने अपनी दो उंगलियों को धीरे से, अंदर डाला तो मुझे अंदर सफ़ाचट चिकना स्पर्श सा लगा। तभी ध्यान आया की आज सुबह ही तो मम्मी ने स्टीम बाथ के समय, अपने बाल साफ किए थे।
मम्मी की चूत का हिस्सा गर्म भट्टी सा तप रहा था और मैंने महसूस किया की मम्मी की निपल्स भी अब पहले से ज़्यादा कड़ी होकर, बड़ी बड़ी महसूस हो रही थीं.. लेकिन, मैं रुका नहीं और चूसते चूसते ही थक कर सो गया..
अगले दिन सुबह, जब मैं सो कर उठा तब आसमान बिल्कुल साफ़ था और बाहर धूप खिल उठी थी।
रेतीली मिट्टी होने से, कहीं भी पानी का नामो निशान नहीं था।
मल्लिका बाई ने, पूरा गेस्ट हाउस साफ़ कर दिया था।मैंने देखा की मम्मी साड़ी पहन कर, उससे पास के किसी मंदिर का पता पूछ रही थीं।
मैंने सोचा शायद पापा के आने का सुनकर, नाटक कर रही हैं।
बाई के जाने के बाद, मम्मी ने मुझसे कहा की चलो, नाश्ते के बाद हम बीच पर चलेंगें…
मैं सोचने लगा की मम्मी साड़ी पहन कर, बीच पर क्या करेंगी.. लेकिन, जाने के समय मैं देखता ही रह गया.. मम्मी ने एक काली कलर की बिकनी ढूँढ निकली.. जिसकी साइज़ पहले की तरह छोटी थी और उनका मांसल बदन, बिकनी फाड़ने को बिल्कुल तैयार लग रहा था..
रास्ते में, मम्मी बोलीं की रात में ऐसी ही सो गई… सुबह जाकर, समझ आया की रात में क्या हुआ… ??
मैं चुप ही रहा और अंदर ही अंदर समझ गया की मम्मी सब जान गई हैं।
सी बीच पर जाने के बाद, हमने देखा की वहां कोई भी नहीं है और चारों तरफ सुनसान है।
इतना अकेलापन भी डर लगने का कारण हो सकता है, ऐसा पहली बार महसूस हुआ।
कल की ज़ोर दार बारिश की वजह से, समंदर का पानी काफ़ी ज़ोर मार रहा था और उसमे रेत भी ज़्यादा थी.. जिससे की पानी में, गंदगी सी महसूस हो रही थी..

और कहानिया   गुरूजी के आशीर्वाद से माँ बानी भाग 2

Pages: 1 2 3 4 5

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *