मेरी न को हाँ समाज कर चोद दी मांमाँ ने

कुछ रिश्ते ऐसे होते हैं जहाँ सेक्स सम्बन्ध बनाना जायज नहीं होगा है पर कई बार ऐसा हो जाता है, जहाँ नहीं चाहते हुए भी बात आगे बढ़ जाती है शायद आपके साथ भी ऐसा हुआ होगा। दोस्तों आज जो मैं कहानी सुनाने जा रही हूँ ऐसा ही है। मैं नहीं चाह रही थी मामा जी से मेरा सम्बन्ध बने पर मैं भी उनको रोक नहीं पाई और चुद गई। कैसे क्या हुआ और ऐसा क्यों हुआ की मैं चुदने को मजबूर हो गई। आइये जानते हैं।

मैं पहली बार हिंदी पोर्न कहानी डॉट कॉम पर कहानी लिख रही हूँ। मैं भी इस वेबसाइट की फैन हु और रोजाना कहानियां पढ़ती हूँ। इसलिए मैं भी आज शेयर कर रही हूँ। उम्मीद करती हूँ आपको ये कहानी अच्छी लगेगी।

दोस्तों मेरा नाम रिंकी है मैं बहुत ही हॉट हूँ पचीस साल की हूँ। मस्त हूँ। गदराया हुआ बदन है मेरा भरी पूरी हूँ। किसी को भी पागल बना सकती हूँ अपने हुस्न को दिखाकर अगर किसी ने मेरा गांड पीछे से देखा और आगे से मेरी चूचियां तो गारंटी है रात में बिना मूठ मारे सो ही नहीं सकता है। और या तो मेरी याद में अपनी बीवी को या गर्लफ्रेंड की गांड में या चूत में लौड़ा घुसायेगा और खो जाएगा मेरी याद में। आज कहानी भी ऐसी ही होगी की आप इस कहानी को सोचकर अपने बीवी को पीछे से घुसाते रहिये और कहानी को याद करते रहिये या पढ़ते रहिये।

मेरी उम्र और मेरे मामा के उम्र में ज्यादा फर्क नहीं है वो शायद मेरे से चार या पांच साल के बड़े होंगे। उनकी भी शादी नहीं हुई है। मैं लखनऊ में रहती हूँ और वो कानपूर में रहते हैं। वो मेरे घर आये थे माँ से मिलने पर संयोग ऐसा हुआ की माँ और मेरे पापा दोनों ही हरिद्वार के लिए निकल गए थे। और मामा फ़ोन किये बिना आये थे वो सोचे थे सरप्राइज देंगे पर उलटा हो गया।

रात के करीब आठ बजे आये। मैं तुरंत ही माँ को फ़ोन की की मामा जी आये हैं। वो लोग बोले अब तो उनको बोलो तीन दिन वही रहना है जब तक हम दोनों आ नहीं जाते। यही सजा है तुम्हारे मामा के लिए। माँ भी मामा से बात की और बोली अब तो तुम्हे रुकना ही पडेगा। क्यों की माँ से मामा जी बहुत छोटे हैं शायद जब माँ की शादी हो रही थी वो चार साल के थे तो प्यार ज्यादा करती हैं मामा से। मामा जी भी बोले ठीक है मैं यही पर हूँ आपलोग अच्छे से गंगा स्नान कर आइये। माँ बोली देख रिंकी मामा जी को किसी भी चीज की कमी नहीं होने चाहिए। मैं भी बोली चिंता नहीं करो कोई कमी नहीं होगी।

और कहानिया   मम्मी पापा को चुड़ते हुए देखा

रात में हम दोनों बाहर से ही खाना मंगाए। मामा जी अपने साथ एक व्हिस्की का बोतल ले आये थे। ताकि वो पापा को देते पर पापा तो नहीं हैं इसलिए वो बोले आज हम दोनों ही इस विह्स्की की बोतल को ख़त्म करेंगे। मैं बोली मैं नहीं पीती, वो बोले कोई बात नहीं आज से शुरू कर दो। पहले से ही सब कुछ की जानकारी रखना बहुत जरुरी है। अगर तुम्हारा शादी बड़े लोगों में हो गया तो तुम्हे भी मेंटेन करना पडेगा इसलिए आज जान लो। मैं बोली बात में तो दम है। तभी वो दो गिलास मंगाए। और फिर पेग बनाया। दोनों मिलकर पिने लगे. पहले तो मुझे काफी कड़वा लग रहा था पर बाद में जब नशा चढ़ा तो बस आसमान में उड़ने लगी.

एक तो जवानी का नशा और साथ में विहिस्की का नशा जब दोनों मिल जाये और घर में कोई नहीं हो और हैंडसम लड़का पास हो तो मन डोल ही जाता है। मेरे साथ भी वही होने लगा। आग उधर भी लगी हुई थी क्यों की वो बार बार मेरी चूचियों को निहार रहा था और मेरी जांघ पर दो तीन बार हाथ रखा जिससे वो कामुकता से भर गया। वो धीरे धीरे मेरे करीब आने लगा और फिर मेरे होठ के तरह बढ़ने लगा। मैं थोड़ा सकपकाई। मुझे लगा ये ठीक नहीं है। फिर भी तो जिद करने लगा। और फिर किश दे बैठी। वो लिप लोक कर दिया और फिर मेरी चूचियों के तरफ हाथ बढ़या मैं फिर मना करने लगी। बोली किस तक तो ठीक था इसके आगे नहीं।

दोस्तों पर वो कहाँ मानने वाला जब एक बार लिप लॉक हो जाये तो सब कुछ आगे अपने आप ही बढ़ने लगता है। वो मेरी चूचियों को मसलने लगा। मैं भी कामुकता के हद को पार कर गई और सौंप दी। वो मेरी जांघ को सहलाते हुए। मुझे किश कर रहा था। मैं भी चुम रही थी। फिर वो मेरे कपडे उतारने लगा मना करते करते उसने मेरे सारे कपडे उतार दिए। अब वो मेरी चूचियों को दबोच रहा है। मेरी चुत में ऊँगली डाल रहा था। मैं कराह रही थी। मेरी चुत काफी गरम हो गई थी। मेरी सिसकारियां निकलने लगी.

और कहानिया   सासु माँ क सात सुहागरात

अब मेरे से भी रहा नहीं गया और मैं उसका लौड़ा पकड़ ली और मुँह में ले ली। अब मै मामा के लौड़े को चूसने लगी। वो भी अब आह आह आह करने लगे मैं चूसने चूसते उसके छाती को चाटने लगी। वो मुझे पटक दिया पलंग पर और मेरी चूत को चाटने लगा. मैं गांड उठा उठा कर चटवाने लगी। वो बेहरमी से मेरी चूत चाटे जा रहा था। फिर वो अब मेरे ऊपर चढ़ गया और चूचियों को दबोचते हुए मेरे होठ को चूसने लगा मैं अपना जीभ उसके मुँह में डाल दी,अब वो और भी ज्यादा कामुक हो गया।

मामा ने मेरे पैरों को अलग किया और लंड का सुपाड़ा अपने चूत पर लगाया और जोर से पेल दिया। करीब दस मिनट देते रहा मैं भी निचे से धक्के दे रही थी। वो ऊपर से धक्के दे रहा था। दोस्तों कमरे में सिर्फ हाय हाय उफ़ उफ़ ओह्ह ओह्ह की आवाज आ रही थी। दोस्तों ऐसा मंजर था क्या बताऊँ।

उसके बाद मामा जी ने घोड़ी बना दिया और गांड के पीछे से लौड़ा मेरी चूत में डाला। अब वो जोर जोर से चूतड़ पर थप्पड़ मार रहा था। और जोर जोर से लौड़ा घुसा रहा था। दोस्तों क्या बताऊँ मेरे तन बदन में आग लग गया था अब मैं सिसकारियां लेती हुई लौड़े को अंदर कर रही थी। फिर उसने खड़े कर के भी चोदा फिर वो अपने गोद में बैठा कर चोदा फिर सोफे पर चोदा। करीब दो घंटे तक चुदाई करते रहे फिर दोनों झड़ गए।

फिर हम दोनों ने शराब पि और करीब चार बजे सुबह फिर से चुदाई करने लगे। दोस्तों जब तक मम्मी पापा नहीं आये हम दोनों तीन दिनों तक चुदाई किये और मजे लिए। मैं अपनी दूसरी कहानी जल्द ही हिंदी पोर्न कहानी डॉट कॉम पर लाने वाली हूँ इसलिए रोजाना इस वेबसाइट पर आइये। तब तक के लिए धन्यवाद.,

Comments 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *