मामा की बेटी की चुदाई

हेलो दोस्त मेरा नाम हर्ष है और मेरी आगे 20 साल की है और मई देल्ही न्क्र का रहने वाला हू. ये मेरी मामा की बेटी के साथ एक सेक्स की घटना हुई. चलिए जानते है ये घटना कैसे हुई..

मई गर्मियो मे अपने मामा के यहा पर हॉलिडे मानने गया हुआ था. मामा के घर मे उनके दो लड़के है और 4 लड़किया है. 3 की तो शादी हो गयी है और 1 की शादी नही हुई है.

मई उस टाइम 18 का था, उस टाइम मेरी जवानी अभी नयी नयी ही थी. और मेरी मामा की लड़की मुझसे बड़ी थी, 4 साल बड़ी है तो मई उन्हे दीदी बुलाता हू.

मुझ पर तो नयी जवानी का भूत शावर था. पॉर्न वीडियो देखना और सेक्स स्टोरी पढ़ा मे बहुत मज़ा आता था और मूठ भी मारा करता था.

मेरी और दीदी की बहुत ही बनती थी. मई और दीदी हम दोनो सारी बाते शेर करते थे. कभी कभी मज़ाक मे एक दूसरे को छेड़ना भी हो जाता था. ढेरे ढेरे मई दीदी को पसंद करने लगा और कभी कभी रात मे उनके नाम की मूठ भी मार लिया करता था.

एक दिन मई बातरूम मई नहाने गया हुआ था. वाहा दीदी की पनटी पड़ी हुई थी. उसे देख कर मेरे मॅन मे पता नही क्या हो गया, मई उसे उठाया और उसे लेकर मूठ मारने लगा. फिर कुछ देर बाद मे मैने अपना माल उसी पर छ्चोड़ कर वही पर तंग दिया.

फिर मेरा रोज का काम हो गया था. करीब 15 दिन हो गये थे ऐसा करते हुए मुझे. और शायद दीदी को मुझ पर शक भी था की मई उनकी पनटी गंदी कर देता हू.

एक दिन मई च्चत पर बेत कर सेक्स वीडियो देख रहा था. मई तो सेक्स वीडियो के मज़े लेने मे था. मुझे पता नही था की दीदी कब आई और वो मेरे पीछे से खड़े हो कर वो भी वीडियो देखने लगी.

जब मुझे लगा मेरे पीछे कोई है तो मैने पीछे देखा दीदी आँखे फाड़ फाड़ कर वीडियो को देख रही थी फिर मुझे देख रही थी. फिर मुझे बिना कुछ बोले वाहा से चली गयी.

और कहानिया   कुँवारी दुल्हन चाची की चूत चुदाई

मेरी तो हालत खराब हो गयी थी की दीदी किसी से कुछ बोल ना दे. मई बहुत डरा हुआ था, मई डरते डरते नीचे उतरा. उसके बाद खाना खाया और सू गया.

सुबा जब मई उठा तो मैने देखा की मामा मामी भैया और छ्होटा भाई सब लोग किसी की शादी मे जा रहे थे. मुझे मामा जी ने बोला की हम 7 दिन बाद वापस आएँगे, तब तक घर का और अपनी दीदी का ख़याल रखना. मई तो बहुत खुश हुआ की अब तोड़ा दीदी के और क्लोज़ जाने को मोका मिला. और शायद उन्हे छोड़ने का मोका भी मिल जाए.

फिर मामा मामी के जाने के बाद सिर्फ़ हम दोनो ही रह गये घर मे. मई बैठ कर टीवी मे सॉंग सुनने लगा. दीदी बना के हम दोनो के लिए खाना लेकर आई, हम दोनो खाना खा रहे थे.

तभी अचानक से एक सॉंग आ गया जिसमे लड़किया सिर्फ़ बार और पनटी मे थी. मई उःने देखने मे लगा रहा. फिर दीदी ने बोला ची नंगी लड़कियो को देख रहा है! तो मई दीदी से बोला मज़ा आ रहा है देख कर.

दीदी :- बोली ऐसा क्या है वो मज़ा रहा है इन्हे देख कर??

मैने बोला देखो तो इन्हे कैसे पेंहटि और सेक्सी काम है और कितनी सुंदर हॉट है ये! फिर दीदी ने भी बोला मुझे नही देखना तू ही देख नंगी लड़कियो को. मैने कहा ठीक है देख ही रहा हू.

फिर खाना ख़तम करके मई नहाने चला गया बातरूम मे आज भी उनकी पनटी पड़ी हुई थी. मैने फिर से उनकी पनटी लेकर मूठ मारा और माल उसी पर छ्चोड़ दिया.

मेरे बाहर निकालने के बाद दीदी नहाने चली गयी. जब वो बाहर आई तो उन्होने बड़े अजीब सी नॅज़ारो से देखा. फिर रात को बहुत गर्मी थी. मई च्चत पर सोने के लिए बिस्तरा लगाया था. मुझसे दीदी ने बोला की तू नीचने नही सोएगा? मैने कहा नही आज ज़्यादा गर्मी है और उपर हवा भी अची चल रही है.

तब दीदी बोली की मई भी तेरे पास ही हो सो जाती हू, मैने कहा ठीक. फिर हम लेट कर काफ़ी देर बात करते है. बात करते करते दीदी सू जाती है और मुझे भी नींद आ रही होती है तो मई भी सो गया.

और कहानिया   शादी मामा से चुदाई मुझसे

आधी रात को 1 भजे मुझे ठंड से लगने लगी तो मैने बेडशीट खुद और दीदी पर डाल दी फिर मई सो गया. फिर रात को अचानक से मुझे लगा की कोई मुझे से चिपक कर मेरे लंड को मेरी बॉक्सर के उपर से खेल रहा था, मई बस आँख बंद करके लेता रहा.

धीरे धीरे मेरा लंड अपने साइज़ मे आने लगा. उन्हे तोड़ा शक हुआ की मई जगा हुआ हू. तो वो मेरे उपर चाड गयी और उन्होने अपने लिप्स को मेरे लिप्स पर रख दिया और खुद ही किस करने लगी. मई कुछ रेस्पॉन्स नही दे रहा था.

तब दीदी बोली की सोने का नाटक मत कर अब जो हो रहा है उसमे मेरी हेल्प कर. आज मुझे भी तेरा माल टेस्ट करना है. वो तूने इतने दीनो से मेरी पनटी पर गिरा गिरा के वेस्ट किया है.

मई ये सुन कर दीदी को कासके पड़ता हुआ और उनके किस का जवाब देने लगता हू. बहुत जबरदस्त किस चल रही थी. वो भी भूखी लग रही थी और मई तो भूखा था ही.

हम दोनो को किस करते हुए 15 मिंट हो गये थे. मैने दीदी की टॉप उतार दी और उनके बूब्स को हाथ से दबाता हू फिर उसे लीप किस करने लगा. दीदी भी गरम थी और आअहह एम्म्म की आवाज़ से मज़े ले रही थी. और उनकी आवाज़ सुनके मुझे भी मज़ा आ रहा था.

मैने फिर दीदी के बूब्स को ब्रा के उपर से चूज़ और दूसरा बूब को बबाने लगा. दीदी पागलो की तरह बस एम्म्म आआआः उउउफ़ आआआ म्‍म्म्मम एयाया म्‍म्म्ममन ऊऊऊ की आवाज़ निकल रही थी.

फिर मैने ढेरे ढेरे करके उनके पेट पर किस करने लगा और किस करते हुए उनकी नाभि पर एक ज़ोर का किस किया. जिससे दीदी की हल्की आआआआः की आवाज़ निकल गयी.

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published.