मल्लू आंटी की चुदाई

मेरा नाम निकिल है आगे २४ छोड़ना मेरी हॉबी है मेरी आज की स्टोरी मल्लू आंटी की चुदाई बस २ दिन पुराणी है जब मैं कलगे से अपने घर जार है था!

मेरी कार मेरे अंकल क पास थी और मेरी बाइक भी नहीं थी तो में ऑटो से जा रहा था तभी एक आंटी आई उन्हें थोड़ी जल्दी थी सायद!

तो वह ऑटो में बैठ गई और उनके पास एक बैग था जो काफी भरी था उसे रक् कर वह बैठ गई !

बैग बड़ा था तो वह मेरे पीछे कंधो पर हाथ रक् कर बैठ गई.और जब ऑटो चलने लगी तो मुझे कुछ फील हुआ की आंटी क बूब्स मुझसे टकरा रहे है!

वाओ यार मजा आ गया दिकने में ज्यादा हॉट नहीं थी बूत बूब्स क साइज और ताकत डेक कर मजे आ गए और में भी उनके बूब्स को दबाने लगा!

मेरा तो कड़ा हो गया बस में तो एहि छोड़ना शुरू कर देता पर वह क्या करता वह कुछ नहीं कर प् रहा था !

बस में और जोर से आंटी क बूब्स को दबाता जार है था.फिर क्या हम लोगो का स्टॉप आ गया!

सब उतर जाने क बाद भी में बूब्स दबा रहा था और आंटी भी मजे ले रही थी !

फिर हम लोग उतरे और जाने लगे में आगे जाकर उनका वेट करने लगा और फिर मैंने उनका बैग उठाने में हेल्प की और उनकी टैरिफ क पल बाँड्ने लगा और उनसे उनकी फॅमिली और हस्बैंड क बारे में पूछा और उनका नंबर लिए साथ में उनके बूब्स क टैरिफ की तो वह शर्मा गई और मुझसे वापस आकर मिलने को कहा!

फिर १ वीक बाद मेरे पास एक कॉल आया तो मैंने पूछा कौन तो उन्होंने बताया की फिर हमारी ऐसे ही मैसेज चाट और बात चलने लगी !

मैंने भी उनसे उनके बूब्स की बाटे करता तो वह तड़प जाती थी उनके हस्बैंड प्राइवेट इंजीनियर थे और वह काफी बिजी रहते थे तो उन्होंने मुझे एक दिन मिलने बुलाया!

और कहानिया   जाने पड़ोस की लड़की के साथ खेलते खेलते किस तरह सेक्स तक बात पहुंच गई भाग -2

तो हम मिले और मूवी देकने गए वह पे मैंने उनके साथ खूब किश और हॉट बाटे की तो उन्होंने मुझसे सेक्स करने क लिए कहा तो मैंने कहा की चलो मेरे साथ तो वह बोली कल मिलते है !

तो मैंने है कहा ठीक है फिर फिर उसने बाई किआ और हम चले गए.वो ३५ थी पर चुदाई की भूक इतनी थी की मत पूछो.लगता है!

जैसे कई सालो से प्यासी हो सेक्स की. फिर मुझे दूसरे दिन कॉल आया की में शाम को ४ बजे उसके घर आ जाऊ!

यह सुनते ही मेरे कृषि का टिकना नहीं रहा में उसे छोड़ने क लिए वैसे ही रेडी बैठा था!

सोच क रखा था की इसे रुला रुला क छोडूंगा की इसकी साडी चुदाई की भूक मर जाएगी मैं दूसरे दिन उसके घर जाने क लिए रेडी हो गया एंड में कललगे से भी जल्दी आ गया था!

शाम को उसका फ़ोन आया की मैं आ जाऊ मेने उससे मुझे पिक करने को कहा तो वह तोड़ी देर बाद रोड से मुझे लेने आ गई!

उसके घर पंहुचा तो पता चला की वह तो तैयार बैठी थी छोड़ने को मैंने उसके पति क बारे में पूछा तो कहने लगी किवो २ दिन क लिए बहार गए हैं और बचे स्टडी कर रहे हैं!

और वह मुझे रूम में ले आई और मुझे अपनी बहो में भर लिए और कहने लगी प्लस चलो स्टार्ट करो न!

में बहुत टाइम से प्यासी हु सेक्स की.उसके पति का भी मुश्किल से ५ इस का है और तुमने जब से मेरे बूब्स में हाथ लगाया है!

मेरे अंदर एक करेंट सा लग गया है मैंने कहा ठीक है बस में फ्रेश हो कर आता हु!

और जब में आया तो सबसे पहले मैंने उसे किश किआ सायद काफी टाइम से किसी ने सटिस्फीएड नहीं हुई थी!

है में अब उसका फिगर बता दू ३६-३०-३६ होगा दिकने में मस्त नार्मल हाउस वाइफ ही थी!

अब मैंने उसके बूब्स प्रेस करने स्टार्ट कर दिए वाओ क्या मजा आ रहा था और उसके मुँह से बड़ी प्यारी आवाज निकल रही थी और फिर उसने मेरे कपडे उतरने सुरु कर दिए!

तो मैंने भी उसकी सदी उतर दी और अब वह सिर्फ पेटीकोट और ब्लाउज़ पे थी और मेरे इतने करने में उसका पानी निकल गया था!

मैंने उसकी बॉडी में किश करना स्टार्ट कर दिए और दूसरे हाथ से उसकी चूत में ऊँगली डाली वह काफी गीली थी!

अब मैंने उसका ब्लाउज़ भी उतर दी क्या गजब क बूब्स थे यार लगता ही नहीं था की साली २ बचो की माँ हे!

मैं उसकी ब्रा भी फेक दी और उसे बिस्टेर में ले जाकर उसके बूब्स क साथ खेलने लगा अब मैंने उसे पुररी नंगी कर दिए और उसमे भी मेरे सरे कपडे उतर दिए!

मेने उसे अपना लंड पिने को क्या कहा वह चाट से लंड चूसने लगी अब हम लोग ६९ की पोजीशन में आ गए और एक दूसरे चाटने लगे !

उसने इस बिच अपना नहीं छोड़ दिए और में सारा पानी पिया मस्त हॉट मॉल था!

तोड़ी देर बाद मेरे भी पानी निकल गया और उसने सारा पानी पिया अब मेरा फिर कड़ा था!

साली की चूत मरने को तो मैंने उसकी टैंगो को चौड़ा किआ और लंड उसकी चूत पे रखा और रगंडे लगा तो वह कहने लगी !

अब मत तड़पाओ प्लसस डालो दो कब से प्यासी हु चुदाई क लिए में फिर चूत पे तोडा थूक लगाया और लंड डालना शुरू किया!

उसके मुँह से प्यारी सी आवाज निकली आआआअह्ह्ह्हह… जैसे ही पूरा डाला लंड अटक गया उसकी चूत में और वह चीला पड़ी!

कहने लगी निकालो प्लसससस इतने टाइम बाद भी मस्त चूत थी साली की पर अब में फॉर्म में था मैं उसके ऊपर चढ़ गया और किश करते करते अपना लंड उसकी चूत में अंदर बहार करने लगा !

तोड़ी देरर बाद वह नार्मल हो गयी और मैंने अपनी स्पीड बड़ा दी अब वह भी मेरा साथ देने लगी और कहती है!

सेल तुजसे चुदाई को में कब से पागल थी और पुरे रूम में लंड चूत क प्यार की लड़ाई की आवाज आ रही थी!

आआआअह्ह्ह्हह. उसका पानी २ बार निकल चुक्का था पर मेरा पता नहीं क्यों आज निकल ही नहीं रहा था!

वो कह रही थी फाड़ दो जान मेरी चूत को यह सुनते ही मैंने अपनी और स्पीड बड़ा दी और ४० मं बाद मेरे निकला और मैंने सारा पानी उसकी चूत में ही छोड़ दिए तोड़ी देर बाद हम एक दूससरे क ऊपर लेते रहे!

Leave a Reply

Your email address will not be published.