मां ने अपने बेटे के सामने गड़बड़ बेटों दोस्त के साथ

हैल्लो दोस्तों.. मेरा बचपन से ही मन सेक्स की तरफ बहुत आकर्षित होता था और मुझे कामुकता डॉट कॉम बहुत अच्छी लगती है और में जब भी समय मिलता है कहानियाँ पढ़ता हूँ। में आज आप सभी के सामने अपनी एक सच्ची घटना सुनाने जा रहा हूँ और यह कहानी मेरे एक दोस्त की माँ के साथ हुए मेरे सेक्स पर आधारित है। दोस्तों राजीव मेरा एक बहुत अच्छा दोस्त है और जब हमारे कॉलेज में बारिश के दिनों 20 दिन की छुट्टियाँ हो गयी.. तो वो मुझे अपने घर जो पटना से 30 किलोमीटर दूरी पर था वहाँ पर ले गया। राजीव की मम्मी विधवा थी और उनकी उम्र 38 साल थी लेकिन उनको देखकर लगता था कि वो 28-30 साल से ज़्यादा उम्र की नहीं होगी। वो फिल्म हिरोइन जैसी दिखती थी.. पतली कमर और बड़े बूब्स वाली एकदम सेक्सी हॉट औरत। वो बहुत ही गोरी थी और उनके बूब्स बड़े बड़े थे और बूब्स खड़े ही रहते थे और ब्लाउज के अंदर से टाईट बूब्स को देखकर बहुत जल्दी में हॉट हो गया। आंटी, राजीव और मुझे बहुत प्यार करती थी और अच्छा-अच्छा खाना बनाकर खिलाती थी और रात को राजीव और में एक साथ सोते थे। फिर जब रात को हम दोनों टीवी पर पिक्चर देख रहे थे तो एक हॉट सीन को देखकर हम दोनों ने भी एक दूसरे से सेक्स की बातें करनी शुरू कर दी।

राजीव : वाह यार इसके बूब्स बहुत बड़े हैं।

में : हाँ यार इतने बड़े बूब्स को दबाने में भी बहुत मज़ा आएगा।

राजीव : हाँ यार मुझे तो इसकी मोटी जाँघ और गांड भी पसंद है।

में : लेकिन मुझे इसकी पतली कमर ही पसंद है।

राजीव : हाँ.. लेकिन पतली कमर वाली के ज्यादा बड़े बूब्स नहीं होते हैं।

में : नहीं यार होते हैं जरा ध्यान से सोच।

दोस्तों मेरा इशारा उसकी मम्मी की तरफ था.. आंटी 5.3 इंच की गोरी औरत थी और उनकी कमर 28 इंच की थी और गांड 34 इंच की लगती थी लेकिन उनके बूब्स का साईज़ 36 इंच और वो एकदम बड़े बड़े थे।

राजीव : अच्छा तू बता.. तेरी नजर में ऐसा कौन है?

और कहानिया   अपना चुत देकर नौकरी लेली

में : रेखा.. क्यों आंटी के फिगर भी तो ऐसे ही है?

राजीव : चकित हो गया क्या.. तेरा मतलब मम्मी?

में : हाँ तूने ज्यादा ध्यान नहीं दिया.. इस उम्र में भी उनके बहुत कड़क बूब्स हैं और कमर भी एकदम पतली है और वो भी चुदवाने के लिए हमेशा तड़पती रहती है।

तो राजीव कुछ देर तक खामोश रहा और मुझे लगा कि शायद वो बुरा मान गया.. लेकिन उसने थोड़ी ही देर के बाद कहा कि क्या तुझे लगता है और क्या तूने बड़े गौर से देखा है?

में : हाँ यार मुझे लगता है कि उनको भी चुदवाने की इच्छा तो होती ही होगी.. आख़िर तू भी बोल रहा था कि वो पिछले 16 साल से विधवा हैं।

राजीव : हाँ यार।

में : उन्होंने तेरे पापा के बाद कभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया होगा और अगर में तेरी मम्मी को खुश कर दूँ तो तुझे तो कोई आपत्ति नहीं है ना?

राजीव : मुझे क्या आपत्ति.. तुझे भी मज़ा मिलेगा और उनका भी तो काम होगा और फिर में क्या कहूँगा?

अब में मन ही मन में खुश हो गया.. लेकिन क्या मम्मी राज़ी होगी?

में : यार उनके बूब्स कितने बड़े है और गांड भी बिल्कुल कसी हुई और टाईट लगती है.. उनको भी सेक्स की बहुत इच्छा होगी और तड़पती भी होगी।

राजीव : हाँ.. लेकिन तू यह सब कैसे करेगा?

में : तू मुझे अब कोई आईडिया सोचने दे।

फिर इस बातचीत के बाद अगले दिन से आंटी से मेरी बातें और भी ज़्यादा होने लगी और आंटी ने भी एक दो बार इस बात पर ध्यान दिया कि में उनके बूब्स को घूर रहा हूँ.. लेकिन वो ज्यादा देर ध्यान नहीं देती। एक दिन दोपहर को मैंने राजीव को किसी बहाने से घर से दूर रहने को कहा और वो आंटी से इजाजत लेकर कुछ गावं के लड़को के साथ नदी में तैरने चला गया और मुझे तैरना नहीं आता तो में घर पर ही रुका रहा। तो उस वक्त आंटी ज़मीन पर एक चटाई बिछाकर लेट रही थी और मैंने उनसे कहा कि आंटी आप इतनी मेहनत करती है.. खाना बनाती हैं, घर की साफ सफाई करती हैं, जानवरों की देखभाल, खेत के मजदूरों की झंझट, आप तो यह सब करके बहुत थक जाती होंगी? आंटी ने कहा हाँ में अकेली हूँ तो मुझे ही यह सब करना पड़ेगा.. इसलिए में दिनभर बहुत थक जाती हूँ लेकिन इसका ओर क्या चारा है?

और कहानिया   एक मोठे लुंड की कहानी

Naukar ka 12 inch lund se malkin ki chudai
तो मैंने कहा कि आंटी अगर आपको बुरा ना लगे तो में आपके पैरों की मालिश कर देता हूँ? और थोड़ी देर पैर भी दबा देता हूँ। इससे आपको बहुत आराम मिलेगा.. आंटी ने पहले तो मना किया और फिर मेरे ज़ोर देने पर राज़ी हो गयी। में ट्राऊजर औट टीशर्ट पहने हुए था और मैंने अंदर जानबूझ कर अंडरवियर नहीं पहनी हुई थी। तो आंटी पलटकर ज़मीन की तरफ मुँह करके चटाई पर लेट गयी और में उनके पैर दबाने और मसलने लगा.. उनके पैरों की मसाज से उन्हे बड़ा आराम मिल रहा था और 10 मिनट तक पैरों की मसाज के बाद में उनके पैर और घुटने दबाने लगा और फिर उनकी जांघो को दबाने और मसलने लगा लेकिन उनकी चिकनी गोरी जांघ बहुत ही कमाल की थी और मेरा मन कर रहा था कि में अभी उनके पैरों को चाट लूँ। लेकिन मैंने आपने आप पर काबू करके उनकी जांघो पर हाथ से सहलाने लगा और अब मैंने उनकी साड़ी को जांघो से थोड़ा ऊपर हटा दिया था और उनके पैर और जांघों की मसाज कर रहा था। फिर मैंने उनसे कहा कि आंटी आपको और भी ज्यादा आराम तब मिलेगा.. जब में आपकी कमर की भी मसाज कर दूंगा। तो आंटी ने कहा कि हाँ वो भी कर दो और यह सुनकर में आंटी की पीठ की भी मसाज करने लगा और उनके ब्लाउज के नीचे ब्रा की डोरी को महसूस करने लगा था। तो अब आंटी मेरे हाथों के मसाज का मज़ा ले रही थी और फिर मेरी हिम्मत भी थोड़ी बड़ने लगी थी और में अब उनके दोनों पैरों के ऊपर आकर उनकी जांघो और कमर की मसाज करने लगा था।

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published.