शादीशुदा समीना का अनोखा रिश्ता Part 2

अचानक टॉमी ने एक छलांग लगायी और अपनी दोनों अगली टाँगें समीना की कमर पर रख कर उसके ऊपर चढ़ गया। उसके अगले दोनों पांव समीना की कमर पर थे और पीछे से उसने अपने लंड को समीना की गाँड से टकराना शुरू कर दिया। समीना समझ गयी कि वो अब अपना लंड उसकी चूत में दाखिल करना चाहता है। वो घबरा गयी। ऐसा तो उसने नहीं सोचा था। इस हद तक जाना उसके प्रोग्राम में शामिल नहीं था। वो तो बस अपनी चूत चटवाने तक का मज़ा चाहती थी। मगर अब तो शायद बात उसके कंट्रोल से निकल रही थी। टॉमी उसके ऊपर चढ़ कर उसको चोदने की तैयारी में था। समीना घबरा गयी। उसने जल्दी से उठ कर अपनी जगह से खड़ी होना चाहा मगर टॉमी ने अपना पूरा वज़न समीना की कमर पर डाल दिया और अपने अगले पैरों की गिरफ़्त उसके कंधों पर और मज़बूत कर दी। और पीछे से अपना लंड और भी तेज़ी के साथ उसकी गाँड की दरार में मारने लगा… उसे समीना की चूत में दाखिल करने के लिये। समीना अब काफ़ी खौफ़ज़दा थी मगर कुछ और भी तो अजीब हो रहा था। वो ये कि जब-जब टॉमी का लंड समीना की चूत से टकराता तो उसे अलग ही मज़ा मिलता… उसे अलग ही दुनिया की सैर करवाता।

एक तरफ़ तो समीना को अच्छा लग रहा था। उसका दिल चाह रहा था कि वो खुद टॉमी का लंड अपनी चूत में ले ले… ये सोच कर कि अगर इतना मज़ा सिर्फ़ लंड के बाहर से उसकी चूत से टकराने से मिल रहा है तो अगर ये लंड चूत के अंदर चला जायेगा तो फ़िर उसे कितना मज़ा देगा। मगर दूसरे ही लम्हे उसे कुछ और खयाल आने लगता… अपनी हैसियत का… अपने एक इंसान… एक औरत होने का… और ये कि वो तो एक जानवर है… कुत्ता है… तो वो कैसे एक कुत्ते का लंड अपनी चूत के अंदर डलवा कर खुद को उससे चुदवा सकती है। कैसे एक कुत्ते के सामने कुत्तिया बन कर खड़ी हो सकती है… कैसे एक कुत्ते को खुद को चोदने की इजाज़त दे सकती… कैसे एक कुत्ते को इजाज़त दे सकती है कि वो उसे अपनी कुत्तिया समझ कर चोद डाले! ये सोच कर उसने एक बार फ़िर से खुद को अपनी उस पोज़िशन से… कुत्तिया की पोज़िशन से… खड़ा करने का इरादा किया… एक कोशिश की… मगर… मगर अब तो सब कुछ उसके बस से बाहर था। वो तो अब अपने टॉमी की… एक कुत्ते की गुलामी में थी… उसके नीचे… और वो कुत्ता अपना लंड उसकी चूत के अंदर डालने की कोशिश में था।

और कहानिया   टीचर की चुत मरने का मज़ा ही अलग होता है

जैसे ही टॉमी ने महसूस किया कि समीना एक बार फ़िर से उसके नीचे से निकलने के लिये ज़ोर लगा रही है… उसे अपनी चूत दिये बिना उसके नीचे से निकलना चाहती है… तो उसने अपनी गिरफ़्त उसके जिस्म पर और भी सख्त कर दी और फ़िर अपना आखिरी हरबा भी आज़मा लिया। उसने अपना मुँह खोल कर समीना की गर्दन को अपने नोकीले लंबे-लंबे खौफ़नाक दाँतों के बीच में ले लिया और उसकी गर्दन पर अपने दाँतों का दबाव बढ़ाने लगा। जैसे ही समीना को अपनी गर्दन के गोश्त में टॉमी के दाँत घुसते हुए महसूस हुए तो वो खौफ़ के मारे अपनी जगह पर साकीत हो गयी कि कहीं टॉमी सच में ही उसकी गर्दन को ना काट ले। जैसे ही समीना ने अपनी हरकत बंद की तो ये एक लम्हा टॉमी के लिये काफ़ी था। उसने दोबारा से समीना की चूत पर हमला शुरू कर दिया। उसका लंड अब समीना की चूत के सुराख से टकरा रहा था और आखिर ऐसे ही एक ज़ोरदार धक्के के साथ टॉमी का मोटा लंड समीना की चूत की गहराइयों में उतर गया। और उसके साथ ही कमरे में समीना की एक दर्द भरी… बहोत ही तेज़ चींख गूँज गयी। समीना ने दोबारा से टॉमी की गिरफ़्त से निकलने की कोशिश की मगर फ़ौरन ही उसे अपनी गर्दन में कील से घुसते हुए महसूस हुए और वो मज़ीद नहीं हिल सकी।

इधर पीछे से अब टॉमी का लंड पूरे का पूरा समीना की चूत के अंदर जा रहा था। समीना के कंधों को पकड़े हुए वो दनादन घस्से मार रहा था… समीना की चूत को चोद रहा था। उसका लंबा लंड बहोत गहरायी तक जा रहा था समीना की चूत के अंदर। समीना बिल्कुल बेबस हो चुकी हुई थी। वो चाहते हुए भी हिल नहीं पा रही थी। एक बात जो समीना को अजीब लग रही थी वो ये थी के टॉमी के धक्के मारने का अंदाज़ ऐसा था कि जैसे कोई मशीन चल रही हुई हो। इतनी तेज़ी के साथ टॉमी का लंड समीना की चूत के अंदर बाहर हो रहा था कि समीना को यक़ीन नहीं हो रहा था। मगर उसे अब ये बात भी कबूल करने में कोई शरम महसूस नहीं हो रही थी कि उसे भी टॉमी के लंड से चुदाई में मज़ा आना शुरू हो रहा था। समीना ने अब अपनी मुज़ाहमत बिल्कुल खतम कर दी हुई थी और दोबारा से कार्पेट पर अपने हाथों के ऊपर अपना सिर रख कर अपनी गाँड को और भी हवा में ऊपर को उठाती हुई अपनी गाँड को पीछे को धकेल रही थी। समीना की आँखें बंद हो रही थीं और चूत थी कि बस पानी ही छोड़ती जा रही थी। तेज़ रफ़्तार के साथ धक्के मारते हुए टॉमी का लंड समीना की चूत में से निकल गया। समीना ने फ़ौरन ही अपना हाथ पीछे अपनी रानों के बीच में ले जा कर टॉमी का लंड अपने हाथ में पकड़ा और उसकी नोक को दोबारा से अपनी चूत के सुराख पर टिका दिया और अगले ही लम्हे टॉमी का लंड एक बार फ़िर से समीना की चूत में उतर चुका था… और फ़िर से उसकी चूत की धुनाई शुरू हो चुकी थी!

और कहानिया   बीवी की अनोखी दास्तान part 2

लंड अंदर जाने के बाद से समीना की चूत तीन बार पानी छोड़ चुकी थी मगर टॉमी अभी तक लगा हुआ था। समीना निढाल होती जा रही थी। अचानक ही टॉमी ने एक ज़ोरदार धक्का मारा और फ़िर एकदम से साकीत हो गया मगर इस आखिरी धक्के के साथ ही समीना की एक बार फ़िर से चींख निकल गयी थी। उसे अपनी चूत फटती हुई महसूस हुई… जैसे कोई बहोत बड़ी चीज़ उसकी चूत में किसी ने डाल दी हो… गोल सी… मोटी सी! तभी समीना को खयाल आया के शायद टॉमी ने अपने लंड का आखिरी मोटा गोल हिस्सा भी उसकी चूत के अंदर फ़ंसा दिया है। लेकिन अब टॉमी कोई हरकत नहीं कर रहा था… बस समीना के ऊपर बिल्कुल आराम से खड़ा था… और समीना को अपनी चूत के अंदर टॉमी के लंड से उसकी गरम-गरम मनी गिरते हुई महसूस हो रही थी… और उसकी मनी की गर्मी से समीना की चूत ने एक बार फ़िर से पानी छोड़ दिया और वो सिर नीचे रखे-रखे लंबे-लंबे साँस लेने लगी।

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares