ख़ूबसूरत रिचा के सात सेक्स का अनुभव

हाय मेरा नाम अंकित है मैं दिल्ली से हूँ और मेरी उम्र 25 साल है मैं शादीशुदा हूँ यह मेरी इस साइट पर पहली स्टोरी है मैं अपना अनुभव आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ मैं महिपालपुर मैं एक कंपनी मैं जॉब करता हूँ यहा पर कस्टमर केयर मैं एक गर्ल है जिसका नाम रिचा है उसकी उम्र 22 साल है लम्बाई 5.2 और फिगर 34-28-36 होगा वो ज़्यादातर सलवार सूट और कभी कभी जींस और टी शर्ट पहनती है वो बहुत सुन्दर है ख़ास कर उसके बूब्स बहुत सुन्दर है जब मैने इस कंपनी मैं जाइन किया था तभी से ही मेरी नज़र उस पर थी धीरे धीरे हमारी अच्छी दोस्ती हो गई हम काफ़ी देर तक ऑफीस मैं एम.एस.एन मेसेन्जर जो की ऑफिस के लिये है उस पर चेट किया करते थे इस तरह से हम दोनो काफ़ी बाते भी शेयर करने लगे थे. एक बार मैने उसे बोला की चलो कोई मूवी देखने चलते है किसी दिन तो उसने बोला की घरवाले नहीं जाने देगे इस पर मैं उससे नाराज़ हो गया और मैने उससे बात करना बंद कर दिया इससे वो परेशान हो गई मैने उससे 2 दिन तक किसी भी तरह से कोई बात नही की फिर उसने मुझे उस दिन शाम को करीब 8 बजे कॉल किया की ओके हम मूवी देखने जायेगे लेकिन मैं रविवार को नही जा सकती क्योकी घरवाले नहीं जाने देगे तो हमने एक प्लान बनाया की हम एक दिन ऑफीस से छुट्टी ले कर मूवी देखने जायेगे नेक्स्ट दिन उसने कोई बहाना बना कर छुट्टी ले ली अपने बॉस से और क्योकी मेरी डाइरेक्ट रिपोर्टिंग बॉम्बे थी तो मुझे कोई प्रोब्लम नही हुई और हम लोग लगभग 10 बजे बस स्टॉप पर मिले. उस दिन रिचा ने वाइट कलर का सूट पहना हुआ था जो की बहुत टाइट था और उसकी पिंक ब्रा भी दिखाई दे रही थी पिंक लिप्स वो बहुत सेक्सी लग रही थी मेरा लंड वही पर खड़ा होने लगा फिर मैने उसे बाइक पर बिठाया और हम लोग कनाट प्लेस की तरफ चल पड़े रास्ते मैं जब मैं ब्रेक मारता तो उसके बूब्स मुझे अपनी पीठ पर फील होते फिर मैने फील किया की वो कुछ ज़्यादा की मेरी पीठ पर टच होकर बेठ रही थी शायद उसे भी अच्छा लग रहा था फिर हम मूवी देखने घुस गये उस टाइम कमीने मूवी देखने गये थे हम लेकिन मेरा ध्यान मूवी मैं नही था.

और कहानिया   कही पे निगाहे कही पे निशाना

मैने उससे बाते करते करते अपना एक हाथ उसके कंधे पर रख दिया उसने कोई रेस्पॉन्स नही दिया कुछ देर बाद वो मेरी तरफ सरक कर मेरे कंधे पर अपना सर रख कर मूवी देखने लगी मैने अपना हाथ थोड़ा और अंदर सरका कर उसके बिल्कुल अपने कंधे पर लगा लिया और उसका सर मेरे फेस से थोड़ा नीचे था फिर मैने अपना हाथ थोड़ा नीचे करके उसके बूब्स को टच करने लगा मेरा लंड जीन्स के अंदर बिल्कुल टाइट हो गया था मेरी साँसे गर्म होने लगी और उसकी भी फिर मैंने एकदम से उसके बूब्स पर हाथ फेर दिया तो वो चौक गई और सीधी बेठ गई फिर पूरी मूवी देखने तक कुछ नही हुआ मूवी देखने के बाद हमने खाना खाया तो वो मुझसे नज़र नही मिला रही थी और डर सी रही थी तो मैने बोला की अभी तो 1 ही बजे है तो कही और घूमने चलते है तो हम बाइक पर बुद्धा गार्डन चले गये बुद्धा गार्डन का हाल तो दिल्ली वाले ही जानते है वहा पर काफ़ी कपल आपस मैं चिपके हुये थे और अपने मज़े ले रहे थे.

हम लोग भी एक पेड़ के नीचे बेठ गये एक कॉर्नर मैं काफ़ी देर तक हम में कोई बात नही हुई तो मैने बोला की मैंरे तो बाइक चलाने से पीठ मैं दर्द हो गया है थोड़ा लेट जाता हूँ तो मैं बेंच पर लेट गया और उसके पैरों पर सर रख लिया तो वो बोली की क्या कर रहे तो मैने बोला की अरे इसमें शरमाना क्या है यहा तो सभी ऐसे ही बैठे है तो वो कुछ नही बोली लेकिन घबरा गई थी और मुझसे नज़र नही मिला रही थी उसका फेस पिंक हो गया था वो और भी सेक्सी लग रही थी फिर मैने उसके चहरे को पकड़ कर अपनी तरफ घूमाया और बोला रिचा आइ लव यू वो शॉक हो गई और कुछ नही बोली मैंने अपने दोनो हाथ उसकी गर्दन मैं डाले और उसे नीचे खीच कर उसके पिंक लिप्स पर किस कर दिया ओं गॉड क्या सॉफ्ट लिप्स थे पहले तो उसने कोई रेस्पॉन्स नही दिया लेकिन बाद मैं वो भी मुझे किस करने लगी.

और कहानिया   कविता ने मुझसे अपनी सील तुड़वाई

फिर मैने किस करते करते अपने एक हाथ से उसके बूब्स को सहलाने लगा उसकी सांसे गर्म होने लगी फिर मै उसकी जीभ को अपने मुँह मैं लेकर चूसने लगा वाउ बड़ा मज़ा आ रहा था यार फिर मै सीधा बेठ गया और उसे अपनी गोद मैं बिठा कर उसके बूब्स प्रेस करने लगा और सूट के उपर से ही निपल अपनी उंगलियो से दबाने लगा उसे दर्द हुआ तो उसने बोला प्लीज धीरे करो दर्द हो रहा है फिर मैने अपना हाथ उसके सूट के अंदर डालने लगा लेकिन क्योकी सूट टाइट था तो हाथ नही गया तो मैने गले के साइड से अपना राइट हाथ डाल कर उसकी बूब्स को प्रेस किया.

फिर वहाँ इससे ज़्यादा कुछ नही हो सकता था तो मैने बोला की चलो यहा से चलते है मेरी समझ मैं नही आ रहा था की इसे कहाँ ले जा कर चोदूं मेरा लंड बहुत ज़ोर से खड़ा हुआ था फिर मैने उसे उसके घर पर ड्रॉप कर दिया क्योकी कोई रूम मेरे पास नही था और होटल के लिये उसने मना कर दिया था नेक्स्ट दिन ऑफीस मैं जाने के लिये मैने उसे उसकी कॉलोनी से पिक किया वो जींस और टी शर्ट पहने हुई थी फिर हम साथ मैं ऑफीस गये और मै अब उसके खुल कर मज़े लेना लगा जब हम ऑफीस की लिफ्ट मैं जा रहे थे तो मैने उसे लिफ्ट मैं पकड़ लिया और एक ज़ोर से स्मूच किया वो छुड़ाने की कोशिश करने लगी और बोली पागल हो क्या थोड़ा सब्र करो मैने बोला यार अब रुका नही जाता रिचा तो उसने बोला की नेक्स्ट सन्डे मुझे कुछ जरुरी काम को पूरा करने के लिये आना है तो तुम भी आ जाओ काम तो 1 घंटे मैं ख़त्म हो जायेगा और फिर हम लोग साथ बेठ कर बाते करेगे.

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares