कैसे मैने अपनी टीचर को छोड़ा

हेलो दोस्तो कैसे हो आप सब, मेरा नाम साहिल ख़ान है (नामे चेंज्ड). मेरी आगे 23 यियर्ज़ हा और मैं जिम जाता हूँ. मेरी वेल बिल्ड बॉडी हा 6फ्ट हाइट हा और दिखने में काफ़ी गुड लुकिंग हू. मेरा लंड का साइज़ 7 इंचस.

मई लुक्कणोव का रहने वाला हू (उत्तर प्रदेश). ये कहानी एकद्ूम सच्ची कहानी हा जो मेरे साथ 2014 में हुई. बात तब की हा जब मैं 12त में था उस टाइम मेरी आगे 18 यियर्ज़ थी.

मेरा न्यू स्कूल में अददमीससिओं हुआ था और मेरा क्लास का पहला दिन था. जब मैने इस कहानी की हेरोयिन (सोनी शर्मा) को पहली बार देखा वो मेरी टीचर थी. बुत वो सिर्फ़ जूनियर क्लासस में ही पढ़ती थी.

उनकी आगे उस टाइम 25 थी, जब मैने उन्हे पहली बार देखा मुझे उनसे तभी प्यार हो गया था. क्या सूरत थी क्या फिगर था. मुझे तब ऐसा लगता था की मैने उससे सुंदर लड़की पहले कभी नही देखी.

फिर दिन बाते गये और हमारी कभी बात नही हो पाती थी. पर कभी कभी वो स्पेशली मुझसे बात करती थी. और जब मई आब्सेंट होता तो मेरे बारे में मेरे फ्रेंड्स से पूछती.

एक दिन की बात हा वो मेरी क्लास में आई. उस दिन 2-3 बच्चे ही आए थे. मैं फ्रंट सीट पे बैठा था तो हम दोनो में नॉर्मली बाते हुई.

उन्होने मुझसे मेरा नंबर माँगा तो मैने दे दिया. मैने भी मौके का फयडा उठाया और उनका नंबर लिया. उस दिन मैं घर गया और उन्हे व्हातसपप पे मेसेज किया.

मैने ही लिखा, उनका भी रिप्लाइ आया.

फिर उस दिन हम दोनो की काफ़ी बाते हुई और फिर रोज़ हम दोनो फोन पे और मेसेज पे बात करने लगे.

उन्होने मुझे बताया की मैं उन्हे बहोट अच्छा लगता हू, बहोट हॅंडसम हू, मुझसे स्मार्ट लड़का उन्होने नही देखा. ये ही चीज़ उन्हे मेरी तरफ अट्रॅक्ट करती थी.

मैने भी अपने दिल की बात बोली की मुझे वो कितनी सुंदर लगती हा. उनका फिगर कितना मस्त हा और उन्हे मैने तुरंत अपने दिल की बात बोल दी की मैं उन्हे कितना प्यार करता हू.

और कहानिया   यूनिवर्सिटी की हॉट लड़की को पता के छोड़ा

उनका भी रिप्लाइ आया वो भी मुझसे बहोट प्यार करती हा. मेरी खुशी का ठिकाना नही था.

फिर कुछ दिन हम दोनो की ऐसे ही बात हुई और फिर हम दोनो ने मिलने की प्लॅनिंग की.

हम दोनो स्कूल पह्ोछ गये सुबा बहोट जल्दी किसी के आने से पहले. स्कूल में सिर्फ़ हम दो लोग थे. फिर मैं उनके पास गया उनके ग्लॉसी रेड लिप्स पे अपने होंठ रखे और उन्हे किस करने लगा.

मैने उन्हे दोनो हंतो से हग भी कर रखा था. मैं उनके होंठ चूस्टा जा रहा था, बहोट मज़ा आ रहा था. वो आहें भर रही थी आँखें बंद कर के.

मेरा लंड उस टाइम लोहे की रोड की तरह खड़ा हो गया. मेरा लंड का साइज़ 6:5 इंचस हा. उन्हे मेरा लंड फील होने लगा.

फिर मैने उनकी गर्दन पे किस किया. तभी स्कूल में बच्चे आने लगे और हमे अलग होना पड़ा. फिर स्कूल में आयेज कुछ करने का बन नही पा रहा था और हम दोनो को आग लगी हुई थी.

काई महीने बीते, बीच बीच में हम ऐसे ही मिलते रहते. अब हमे इसके आयेज करना था. तो हुँने बाहर मिलने की प्लॅनिंग की.

एक दिन मैने उससे कहा क्यू ना मैं रात को सबके सम के बाद उसके घर आ जौन? और वो मान गयी क्यूकी वो अलग रूम में सोती थी.

फिर नेक्स्ट दे उसने रात को 10 भजे अपने घर बुला लिया सबसे चुप कर और बच कर. उसने रूम अंदर से बंद किया.

उस दिन वो बहोट सुंदर लग रही थी.

रूम बंद करते ही मैं उसपे टूट पड़ा. मैं उनके होंठ चूसने लगा और उन्हे बेड पे लिटा दिया. 10 मीं किस करने के बाद मैने अपनी शर्ट निकल दी और उनकी टशहिर्त भी.

वो अब ब्लॅक ब्रा में थी, उनके बूब्स बहोट बड़े थे और बिल्कुल वाइट थे और बहोट सुंदर लग रही थी वो ब्लॅक ब्रा में.

फिर मैने उनकी ब्रा उतरी और मेरे एक हाथ से उनके बूब्स दबा रहा था. दूसरे बूब के निपल अपने मूह से चूस रहा था. मुझे बहोट मज़ा आ रहा था.

और कहानिया   एक घर की ब्लू फिल्म | घर में सामूहिक चुदाई की कहानिया

वो आहें भर रही थी और फिर मैं नीचे गया और उनके पेट को चूमा छाता फिर और नीचे गया और उनकी पनटी नीचे की. उनकी छूट एकदम क्लीन शेवन थी, वाइट और अंदर से पिंक.

मैं वहाँ पे किस करने लगा और चाटने लगा. उनकी आहें और तेज़ हो गयी फिर उन्होने मुझे बेड पे पलटा और मेरे उपर आ गयी. मेरे चेस्ट पे किस किया और मेरा अंडरवेर नीचे किया.

तो वो मेरा लंड देखती ही रह गयी. कहने लगी इतना मस्त लंड मैने आज तक नही देखा. मेरा लंड एकद्ूम लाल हो गया था बिल्कुल टाइट खड़ा था.

फिर वो मेरा लंड चूसने लगी, मुझे बहोट माज़ा आ रहा था और मैने आँखें बंद कर ली. मैं तो मानो जैसे जन्नत में था.

कुछ देर लंड चुसवाने के बाद मैने उन्हे लिटाया और उनकी छूट की छुआ, तो वो बिल्कुल गीली हो चुकी थी.

मैने तुरंत अपना लंड उनकी छूट पे सेट किया और धक्का लगाया बहोट ज़ोर से. लंड तोड़ा सा ही अंदर गया था और उन्हे दर्द होने लगा. मैने कुछ देर रुक कर फिर धक्का मारा. 2-4 बार में मेरा लंड उनकी छूट मे पूरा अंदर चला गया.

उनकी छूट एकद्ूम टाइट थी लेकिन वो पहले भी चुड चुकी थी.

फिर मैने धना धन शॉट मारने लगा. उन्हे भी मज़ा आ रहा था और उनके मूह से आहें निकल रही थी.. छोड़ो मुझे…

मैं सोच सोच कर बहोट एग्ज़ाइटेड हो गया था के फाइनली मैं अपनी टीचर को छोड़ रहा हू.

लगभग मैने उन्हे 30 मिन्स फुल स्पीड में छोड़ा और अपना पानी उनकी छूट में निकल दिया.

उस रात हुँने 5 बार चुदाई की फिर मैं बहोट तक गया था और फिर सुबा मैं अपने घर आ गया.

फिर आयेज क्या हुआ वो मेरे साथ अब हा या नही ये सब नेक्स्ट स्टोरी में बतौँगा के मैने और कितनो को छोड़ा तब से.

Leave a Reply

Your email address will not be published.