हवस से जलती औरत की चुदाई करके शांत की

हैलो दोस्तो हर्ष फिर से आप के लिए नई कहानी लेकर आया हूं दोस्तो आप को मेरी कहानी पसंद आती है इसके लिए आप का बहुत धन्यवाद दोस्तो आज की कहानी आप को बहुत पसंद आएगी। दोस्तो एक बार मुझे कंपनी ने किसी काम से दो महीने के लिए पुणे भेजा और में पुणा आगया और कंपनी की ब्रांच में काम करने लगा वहीं पास में मुझे कंपनी ने रूम किराए पर दिलवाया एक दिन सुबह के 8बजे थे कि में बहार निकला तो मेरी नजर के सामने के मकान की बालकनी पर खड़ी  एक खूबसूरत औरत वहा खड़ी थी जो अपने काले सुंदर लंबे बालों को सुखा रही थी।

उसके लंबे बाल उसके खूबसूरत जिस्म की सुंदरता को और बड़ा रहे थे। मैने इससे पहले उसे कभी नहीं देखा था। काम पर जाने के लिए में लेट न हो इसके लिए में तेयार होने चला गया। रात को ऑफिस से आने के बाद खाना खाने के बाद पलंग पर लेटे हुए उसके बारे में सोचने लगा उस हसीन औरत को देखने के बाद मेरी आंखो की नींद ना जाने कहा खो गई थी। करीब रात 11बजे थे तभी किसी ने दरवाजे पर दस्तखत दी तो मैने दरवाजा खोला और देखा कि जिसके ख्यालों में मेरी नींद उड़ा रखी थी वह औरत मेरे सामने खड़ी थी और वह बोली क्या  आप के पास थोड़ा सा दुथ मिलेगा मेरी नजर सीथे उसके कप गई और मन में बोला आप के पास तो शुद्ध दूध है तो फिर दूसरे दूध की क्या जरूरत पड़ गई वो मेरी नजर देखकर हसी और कहा दूध तो मेरे घर पर था मगर उसमें कोई किडा गिर गया है जिसके कारण वो दूध अपनी बेटी को नहीं पिला सकती और इस समय कोई दूध  दुकान भी नहीं खुली है।

मैने उसे हा कहा कि मेरे पास दूध रखा है आप आकर लेलो वो मेरे कमरे में बेखौफ अंदर आगाई और कहने लगी रसोई कहा है। मेरे इशारा करते ही वो रसोई में चली गई और उसके पीछे में भी रसोई में गया तब तक उसने पतीले में से दूध गिलास में डालकर कहा धन्यवाद आप का फिर चली गई उसके बाद मैने उसके बारे में पता करा तो पता चला कि वह औरत अपनी बेटी के साथ यहां किराए पर रह रही है और यही कही प्रायवेट जॉब्स करके अपना गुजारा कर रही है एक दिन में घर पर ऑफिस का काम कर रहा था कि रात के 12 बजे थे तभी किसी ने मेरे घर के दरवाजे पर आकर आवाज लगाई मैने जाकर देखा तो सामने वहीं औरत खड़ी थी तब मैने कहा इतनी रात को यहां क्या कर रही है। तब उसने कहा बहुत देर से नींद नहीं आरही थी।

और कहानिया   विधवा शीला का पंडितजी के सात चक्कर 2

तो सोचा कि क्या किया जाए तो आपके कमरे की लाईट जलते देख मैने सोचा कि चलो आप ही के साथ बैठ कर कुछ बाते कर के टाइम पास किया जाए तब मैने कहा बहुत अच्छा किया और मुझे देखने लगी और फिर मैने कहा कि उस दिन जल्दी में आप का नाम ही नहीं पूछ पाया तब उसने कहा मेरा नाम आयशा है तब मैने अपना नाम बताते हुए कहा मेरा नाम हर्ष है रात की 1बज चुकी थी तब मैने उससे कहा कि चलो में आप के लिए काफी बनाकर लाता हूं फिर में रसोई में काफी बनाने का सामान निकाल ही रहा था कि वह मेरे पीछे रसोई में आग्ई और कहने लगी आप हटिए में आप के लिए काफी बनाकर पिलाती हूं उसने मेरे हाथ से सामान ले लिया उसके थोड़ी देर बाद ही हम काफी की चुस्की लेने लगे उसके बदन पर पिंक कलर की स्कर्ट और शार्ट कमीज़ होने की वजह से वह और भी सुंदर लग रही थी।

काफी पीते पीते उसने अपने कमीज़ के ऊपर के बटन इतनी सर्दी होने के बाद भी यह कह कर खोल दिया कि उफ़ गर्मी लग रही है। उसके ऊपर के दो बटन खुलने की वजह से मेरी नजर उसके आधे दिख रहे बूब्स पर बार बार जा रही थी। यह देख कर वह बोली क्या देख रहे हो तब में कहा आप बहुत सुंदर हो तब उसने इठलाते हुई उठी और मेरा काफी का गिलास उठा कर बड़ी मस्ती भरे अंदाज में बोली बर्तन साफ करने का जुना कहा है मैने कहा रसोई में और वो रसोई में चली गई और बड़ी अनोखे अदा से बोली अजी कहा है जुना मैने कहा ऊपर वाली स्लेप पर रखा है और में रसोई की तरफ चल दिया तब मैने देखा कि दोनों हाथ उठाकर स्लेप पर लटक रही थी।

और कहानिया   ब्रा और पैंटी की शॉपिंग

उसके दोनों हाथ ऊपर उठते ही उसकी शार्ट कमीज़ इतनी ऊपर उठ गई की उसकी मस्त कमर देख कर मेरे कोमल मन में सितार बजने लगे और मेर से रहा नहीं गया तो मैने उसकी कमर पकड़ उस ऊपर उठाने के बहाने से छू लिया मेरे छूते ही वह घूमी और मेरे ऊपर ही गिर पड़ी मेरे सीने पर ही उसका सीना था और मेरे होठों पर उसके होठ थे इससे पहले में कुछ समझ पाता कि हम दोनों की गरम सासो का मिलन होते ही उसने अपने आप को संभाला और उठ कर कमरे में चली गई मैने उससे उस कि जिंदगी के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उसने लव मैरिज की थी मगर एक दिन उसका मुझसे मन भरा गया तो वो दूसरी लेकर आगया।

ये देखकर मेरी जिंदगी में भूचाल आगया साथ ही मैने कल्पना भी नहीं की थी कि वो ऐसा करेगा मेरे साथ मैने उससे कोई बात नहीं की और अपनी बेटी को लेकर घर छोर कर मेहनत करके अपनी बेटी को पालने लगी जिससे उस बेवफ़ा सनम कि कभी याद ही नहीं आई नहीं उसने मेरी कोई खबर ली तब मैने उससे कहा रात बहुत हो चुकी है कई आप कि बेटी उठ न जाए तब आयशा ने कहा मुस्कान सुबह से पहले उठने वाली नहीं है कोई चिंता नहीं उसकी ये सारी बाते सुनकर मैने उससे कहा कि वह बड़ा बदनसीब है जो आप जैसी खूबसूरत वाइफ को छोर कर दूसरी लेकर आगया आयशा जी एक बात कहूं कि आप बहुत सुंदर है।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *