पहले धक्के में गर्लफ्रेंड की सील टूटी

हेलो दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त अंकित आपके लिए एक मस्त कहानी लेकर हाजिर हूँ फ़ैसला आपके हाथो मैं हैं आपको कहानी कैसी लगी जबाब ज़रूर दीजिएगा आज मैं आप लोगो को एक ऐसी घटना सुनाने जा रहा हूँ जिसे सुनकर कई लंड टाइट पड़ जाएँगे और चूते अपना पानी छोड़ देंगी. तो हाँ तो दोस्तो ये कहानी है मेरे 8 इंच लंबे लंड और पूनम की चूत मे हुई लड़ाई यानी की चुदाई की. पूनम की इमॅजिनेशन आप निशा के रूप मे कर सकते है.गोरा रंग गथिला बदन वोही सेक्सी फिगर और स्टॅट्स्ट्ज़्क.अब मैं वापिस असली स्टोरी पे आता हूँ तो मैने अपने बीए के एग्ज़ॅम देकर एक कॉंप सेंटर ज्वाइन कर लिया हालाकी मुझे काम की बेसिक नालेज थी पर मैने टाइम पास के लिए कॉल सेंटर ज्वाइन कर लिया वहाँ पर मेरी मुलाक़ात पूनम से हुई और हम दोनो कुछ ही दीनो मे अच्छे दोस्त बन गये.यूँही एक साल बीत गया और पूनम के बीए के एग्ज़ॅम आ गये.उसने मुझसे कुछ नोट्स माँगे मैं जब नोट्स देने उनके घर गया तो वो बहुत उदास थी उसकी मम्मी ने बताया की उसके एग्ज़ॅम आ गये है और उसका रोल नंबर अभी तक नही आया यूनिवर्सिटी वाले कह रहे है की अहमदाबाद जाकर रोल नंबर लाना पड़ेगा इसके पिताजी घर पर नही वो आउट ऑफ स्टेशन गये हुए है मैं बीमार हू जवान बेटी को अकेली भी नही भेज सकती तो मैने कहा अगर आप इजाज़त दे तो मैं चला जाता हूँ पूनम के साथ तो वो बोली बेटा तुम्हारा बहुत बहुत धन्यवाद और अगले दिन हम दोनो अहमदाबाद के लिए निकल पड़े पर हुमारी बदक़िस्मती की यूनिवर्सिटी. मे छुट्टी थी और हमे रात को वही पर रुकना पड़ना था तो हम दोनो ने अहमदाबाद घूमने का मूड बनाया पर इसी बीच बहुत तेज़ बारिश शुरू हो गयी और हम दोनो पुर भीग गये.हम दोनो ने होटेल मे रूम पूछा पर वहाँ पर सिर्फ़ एक सिंगल बेड रूम खाली था तो पूनम ने कहा वो ही लेलो हम अड्जस्ट कर लेंगे उधर ठंड. और भीगे होने की वजह से हम दोनो का बुराहाल था और रूम मे आते ही सब से पहले हमने कपड़े चेंज किए और गरम गरम चाइ पी.फिर रात को सोने के टाइम मैने पूनम को गुड नाइट कहा और फ्लोर पे सोने लगा तो वो बोली अंकित सर्दी है आओ मेरे साथ रज़ाई मे सो जाओ.पहले तो मैं झिझका पर फिर मैं उसके साथ लेट गया मैने नाइट सूट डाला हुआ था और पूनम सलवार कमीज़ मे थी.अब तक मेरे मन मे कुछ नही था पर उसके साथ लेटते ही उसकी गरम सांसो ने मेरे अंदर के शैतान को जगा दिया और मेरा पहलवान रज़ाई मे लड़ाई लड़ने को बेकरार होने लगा पूनम की आँखे बंद थी और नींद मे उसके दो आम उपर नीचे हो रहे थे मुझे कुछ समझ नही आ रहा था की कैसे उसे चोदा जाए | आप लोग यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |मैने हिम्मत करके अपना एक हाथ उसके बूब्स पे रख दिया और हल्के से दबाने करने लगा जब मैने उसकी तरफ से कोई रेस्पॉन्स नई देखा तो मैं भी सोने की कोशिश करने लगा की अचानक मैने महसूस किया की पूनम का हाथ मेरे लंड पर है मैने हिमत करके अपना उसके हाथ मे पकड़ा दिया उसने आँखे अब भी बंद की हुई थी और वो मेरे लंड पर अपना हाथ फेरने लग गयी मुझे सिग्नल मिल गया और मैने अपने हाथ उसकी कमीज़ मे डालकर उसकी चुची दबाने लग गया उसने नीचे ब्रा और पॅंटी नही पहनी थी क्यूंकी बारिश मे गीली हो गयी थी.थोड़ी देर के बाद मैने अपने होंठ उसके होंठो पर रगड़ दिए और एक लंबा किस किया फिर हम दोनो ने अपने कपड़े उतार दिए फिर हम दोनो 69 पॉज़ मे आ गये और वो मे लंड को और मैं उसकी चूत को पागलो की तरह चाटने लगे हम दोनो एक दूसरे के मुँह मे झाड़ गये और एक दूसरे के कम को मूह मे लेकर फिर से किस करने लगे.अब हम दोनो पूरी तरह गरम हो चुके थे अब मैने पूनम को टाँगे फैलाने को कहा वो बोली की उसने पहले कभी नही लिया है तो मैने कहा एक बार ले लोगि तो फिर हर रोज लॉगी मैने उसकी झांट भरी फुददी के होंठो को खोला और उसे रास्ता बनाने को कहा मैने उसकी गंद के नीचे तकिया भी रख दिया था जिससे वो उपर को उठ जाए और मैने पहला धक्का मारा वो चिल्ला उठी और खून भी निकल आया मैने उसके होंठ अपने होंठो से सील दिए और कुछ देर रुकने के बाद एक और झटके से मैने आधा अंदर कर दिया वो दर्द से मचलने लगी पर थोड़ी देर मे उसका दर्द आनंद मे बदल गया और वो नीचे से उछल कर देने लगी.10 मीं मे हम दोनो झाड़ गये और मेरा सारा वीर्य उसकी चूत मे समा गया और हम दोनो एक दूसरे की बाँहो मे समा गये कुछ समय बाद मैने पूनम को कुतिया बनाकर उसकी गंद मारी और 2 बार और उसकी चूत मे झाड़ा.हुमारी इस लड़ाई का नतीजा ये हुआ की पूनम को बच्चा ठहर जाने का डर सताने लगा पर मैने उससे पूछा की तुम्हारी डेट कब है तो बोली दो दिन बाद मैने कहा फिर डरो मत .हम लोग आज भी खूब मज़े करते है मैने पूनम की कई सहेलिओ को खुद भी चोदा है और अपने कई दोस्तो से भी चुदवाया है मगर पूनम सिर्फ़ मुझसे चुदति है कहानी थोड़ी छोटी है इसलिए मुझे लगता है आप लोगों मज़ा नही आया होगा चलो अगली कहानी मैं पूरे मज़े दिलवाने के वादे के साथ विदा | और आप लोग अपना बिचार लिखना ना भूले |

और कहानिया   दोस्त की माँ के साथ पुणे में मजे

Leave a Reply

Your email address will not be published.