गर्लफ्रेंड चुत का उद्धघाटन

मैं कभी एक बूब तो कभी दूसरा तो कभी उसके बूब्स के निप्पलों के चारों ओर अपनी जीभ फिराता. वो बहुत गर्म हो चुकी थी। फिर मैंने उसकी पैंटी में मैंने जैसे हाथ डाला तो उसने हाथ पकड़ लिया और बोलने लगी- प्लीज मत करो, मर जाऊंगी मैं!
लेकिन मैंने उसकी एक न सुनी और उसकी पैंटी में हाथ डाल दिया. मैंने उसकी चूत को छुआ जो पहले से बहुत सारा पानी छोड़ चुकी थी.

मेरी उंगलियाँ अपना कमाल दिखाने लगी. उसकी चूत को जैसे मैंने छुआ, वो कामुकता के मारे पागल होने लगी और बहुत जोर जोर से आहें भरने लगी, बोली- प्लीज कुछ करो, अब रहा नहीं जा रहा.
लेकिन मैं उसे और तड़पाना चाहता था।

मैंने उसकी पैंटी उतारी और सीधा अपनी जीभ उसकी चूत पे लगा दी. जैसे ही मैंने अपनी जीभ लगाई तो वो मेरा सिर अपनी चूत में दबाने लगी और सी सी सी करने लगी. उसकी चूत बहुत गर्म थी बिल्कुल आग की तरह … अपनी जीभ से उसकी चूत के दाने को छेड़ता रहा और वो पागल होती रही.

मैंने उसकी चूत की पंखुड़ियों को बारी बारी से चूसा और चाटा। उसकी चूत का पानी भी बहुत टेस्टी था. वो बहुत पानी छोड़ रही थी.

वो कहने लगी- प्लीज अब डाल दो! और नहीं रहा जाता!
मैंने भी मौके की नजाकत को समझते हुए लंड चूत में डालना ही सही समझा. मैंने अपनी फ्रेंची उतारी और लंड को चूसने के लिए बोला. उसने मना कर दिया. मैंने भी जोर न देते हुए उसके माथे को चूमा और अपने लंड से उसकी चूत के दाने को सहलाने लगा.

वो बहुत बैचैन होने लगी. मैं कभी उसकी चूत के दाने को सहलाता तो कभी उसकी चूत के आस पास अपने लंड को फिराता.
प्रिया कहने लगी- प्लीज डाल दो … अब मत तड़पाओ.

फिर मैंने उसके होंठों को चूसा और अपना लंड उसकी चूत के छेद पे लगाया और एक धक्का दिया. मेरा लंड उसकी चूत में आधा चला गया. मुझे समझ में आ गया कि ये पहले भी लंड का स्वाद ले चुकी है. मैंने सोचा लो पहले चोद तो लूं. उसके बाद पूछूँगा.

और कहानिया   बहन बानी मेरी लुंड की दीवानी

और फिर मैंने दूसरा धक्का दिया और अपना पूरा लण्ड उसकी चूत में जड़ तक ठोक दिया. उसका मुँह खुला का खुला रह गया. उसकी चीख निकली- उम्म्ह… अहह… हय… याह…
मैंने धक्के लगाने शुरू कर दिए. उसकी चूत काफी टाइट थी.

मैं उसकी चूत चोदता रहा और वो आहें भरती रही- अअह अअअ ह्म्म्म बाबू … बहुत मजा आ रहा है … ऐसे ही करते रहो … बहुत अच्छा लग रहा है. पहली बार इतना मजा आया है.

मुझे भी मजा आ रहा था, मैं उसे चोदता रहा. कभी होंठ, कभी निप्पल चूसता रहा या कभी बूब्स दबाता रहा. वो मेरे लंड से चुदती रही मैं चोदता रहा. वो आहें भरती रही.

करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद वो काँपने लगी और मुझे स्पीड बढ़ाने के लिए बोलने लगी.
मैंने भी अपनी रेलगाडी दौड़ा दी।
वो बोलने लगी- और जोर से!
मैं भी उसको और जोर से चोदने लगा. उसका बदन आनन्द से मरोड़ लेने लगा, उसने अपनी चूत से पानी की बौछार कर दी और शांत हो गयी. उसके थोड़ी देर बाद मैं भी उसकी चूत में झड़ गया.

उस दिन मैंने उसकी दो बार और उसकी चूत मारी। फिर मैंने उससे पूछा- मेरे से पहले कितनों के साथ सेक्स किया है?
तो वो एकदम से चौंक गयी और बताने से मना करने लगी. बोली- मेरे बताने से अपने रिलेशन में दरार आ जायेगी.
मेरे ज्यादा जोर देने से उसने मुझे सबकुछ बता दिया.

जो उसने मुझे बताया … सुनकर मुझे धक्का लगा क्योंकि मैं सच में उससे प्यार करता था।
दोस्तो, बाकी की कहानी में मैं बताऊंगा कि मेरे से पहले मेरी गर्लफ्रैंड के साथ क्या हुआ था।
तब तक के लिए विदा.

मुझे मेल और कमेंट करके जरूर बताइएगा कि मेरी कहानी कैसी लगी.

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published.