गाओं की गोरी चुत भाग 1

आशा अब ज़मीन पर लेट गयी और आनंद को अपने हाथों मे बाँध कर के अपने उपेर खींच लिया. आनद ने आशा का पेटिकोट कमर तक उठा दिया और उसकी झटों भरी चूत पर अपना हाथ फेरने लगा. अनद ने पाया कि आशा की चूत बहुत गीली हो गयी है और उसमे से काम रस छू छू कर बाहर निकल रहा है. आनद ने पहले अपनी एक उंगली और फिर दो उंगली आशा की गरम चूत के अंदर डाल दी. आनंद अपने अंगूठे से आशा की चूत की घुंडी को सहलाने लगा. आशा बहुत गरमा गयी थी. आशा ने अपनी दोनो पैर चिपका लिए और अपनी सुडोल और चिकने जांघों के बीच आनंद का हाथ दबा लिया. आशा ने अपनी दूसरी चूंची को पकड़ कर आनंद से उसको चूसने के लिए कहा और आनंद ने आशा की बात मानते हुए उसकी दूसरी चूंची को अपने हाथों मे लेकर चूसने लगा. हालंकी ये लोग पेड़ के साए के नीचे थे फिर भी जवानी की गर्मी से पसीने निकल रहा था. आनंद ने धीरे से आशा के पेटिकोट का नडा खींच कर खोल दिया और उसको आशा के शरीर से निकाल दिया. आनद को आशा का नगा जिस्म बहुत पसंद आया और वो उस नगे जिस्म को घूर घूर कर देखता रहा. आशा की नगा जिस्म देख कर आनंद को लगा कि उसका बदन भरा भरा है लेकिन उसका बदन बहुत सुडोल और गाथा हुआ है. आनद ने आशा की जाँघो को खोल कर घुटने मोड़ दिए और वो खुद उनके बीच आ गया. आशा ने अपनी जाँघो को पूरा का पूरा फैला दिया जिससे कि आनंद उनके बीच बैठ सके. आशा ने आनंद के खड़े हुए लंड को अपने हाथों मे पकड़ कर अपनी चूत के मुहाने पर लगा दिया. “आनंद भाई शहाब, ज़रा धीरे धीरे करना, मुझे आपका गधे जैसे लंड से डर लग रहा है. मैने आज तक इतना बड़ा लंड अपनी चूत के अंदर नही लिया है.” फिर आशा अपने चूतर उछाल कर आनंद का लंड अपनी चूत लेने की कोशिश करने लगी. थोड़ी देर के बाद आशा को अपनी चूत के दरवाजे पर आनंद का सुपरा का स्पर्श महसूस हुआ. आशा ने तब अपने आप को ज़मीन पर बिछा दिया और आनंद का मोटा ताज़ा लंड अपनी चूत मे घुसने का इन्तिजर करने लगी. आनंद ने अपने चूतर उठा कर एक ज़ोर दार झटका मारा और उसका आधा लंड आशा की चूत मे समा गया. आनंद ने तब दो मिनिट रुक कर एक और झटका मारा और उसका पूरा पूरा 10″ लंबा लंड आशा की चूत की गहराई मे घुस गया. आशा अपनी चूत मे आनंद के लंड की लंबाई और मोटाई महसूस कर रही थी और नरेंद्र और अजीत के छोटे लंड से फ़र्क का अंदाज़ा लगा रही थी. आशा को लग रहा था कि उसकी चूत आनंद का लंड घुसने से दो फांको मे फॅट रही है. उसको आनंद का लंड अपने बच्चेदानि मे घुसने का अहसास हो रहा था और आनंद का हर धक्का उसकी शरीर को मदहोश कर रहा था. आशा को अबतक अपनी चूत की चुदाई मे इतना मज़ा कभी नही मिला था. वो आनंद के हर धक्के के जवाब अपने चूतर उछाल कर दे रही थी. “क्यों आनंद क्या तुम्हारा लंड पूरा का पूरा मेरी चूत मे समा गया?” आनंद आशा किचूत मे अपन लंड पेलता हुआ बोला, “हाँ, तुम्हारी चूत मे लंड पेलने का मज़ा ही कुछ और है. मुँझे तुम्हारी चूत चोदने मे बहुत मज़ा आ रहा है.” आनद ने अपना लंड आशा की चूत मे जड़ तक घुसेड कर आशा को धीरे धीरे चोदने लगा. आनंद को आशा की चूत की गर्मी और रसिल्ला अंदाज बहुत अक्च्छा लग रहा था. आनंद को आशा के चूतर के दोनो तरफ अपने हाथ रख कर उसकी चूत मे अपना लंड को घुसते और निकलते देख कर बहुत अक्च्छा लगा और वो मारे उत्तेजना के आशा की दोनो चूंची को पकड़ मसल्ने लगा. दोनो चुदाई मे मस्गुल थे और दोनो एक दूसरे के लंड और चूत को खनका रहे थे. इस समय दोनो एक दूसरे को कमर चला चला कर धक्का मार रहे थे और आनंद का लंड आशा की चूत को बुरी तरह चोद रहा था. दोनो इस समय पसीने से नहा चुके थे पर फिर भी किसी को होश नही था. आशा ने अपनी चूत उछालते हुए आनद को अपनी बाँहो मे बाँध लिया और बोलने लगी “आनद जी और ज़ोर से चोदो, आज फार दो मेरी छूट अपने मोटे लंड के धक्के से, बहुत मज़ा आ रहा है, और छोड़ो, रुकना मत बस छोड़ते रहो, बस ज़ोर ज़ोर से मेरी छूट मे अपना लंड डालते रहो.” आनंद ने छोड़ने का रफ़्तार बरहा दिया. वो भी इस समय झड़ने के कगार पर था. आनंद ये सोच कर कि वो आशा की गुलाबी रसिल्ले चूत मे अपना लंड पेल रहा है बहुत उत्तेजित हो गया. आनद मारे गर्मी की आशा की चूत मे अपना लंड ज़ोर ज़ोर से पेल रहा था और बॅडबड़ा था, “है, आशा तेरी चूत तो मक्खन के समान चिकना है, तेरी चूत को चोद कर मेरा लंड धन्य हो गया है, अब मैं रोज तेरी चूत मारूँगा, लगता है तुझको भी मेरा लंड पसंद है, क्या तू मुझसे रोज अपनी चूत चुदवायेगी?” आशा भी अपनी कमर चलाते हुए आनद को चूम कर बोली, “हाई मेरे राजा, तुम्हारा लंड तो लाखों मे एक है, तुम्हारा लंड खा कर मेरी चूत के भाग्य खुल गये है, अब मैं रोज तुमसे अपनी चूत मे तुम्हारे प्यारे प्यारे लंड कोपिल्वौन्गी.” थोड़ी देर इस तरह चुदाई करते हुए आनद ने अपना वीर्य आशा की चूत मे छोड़ दिया और आशा के उपरलेट कर हाँफने लगा. थोड़ी देर के बादआनंद हाँफ़ते हुए आशा की बगल मे लेट गया.

और कहानिया   18 बर्थडे पे पापा ने चुदाई का गिफ्ट दिया

Pages: 1 2 3