गांड और चूत का प्यासा मेरा छोटा भाई

Bahan Bhai Sex Kahani, Bahan Ki Chudai Kahani, Bahan ko Nahate huye dekha aur choda : मेरा छोटा भाई दीपक जो मेरी गांड और चूत का प्यासा बन गया और जब तक अपनी वासना की आग को नहीं बुलाया तब तक वह शांत में ही बैठा . आज मैं आपको नॉनवेज story.com पर उसी की कहानी लिखने वाली हूं। आज मैं आपको यह बताने वाली हूं कि मेरा छोटा भाई दीपक की नजर कैसे खराब हुई और कैसे वह मेरे चूत और गांड तक पहुंच गया और चुदाई कर दिया। कई बार ऐसा होता है जवाब जो चीज नहीं भी चाहते हैं वह भी चीज करना पड़ता है। मेरे साथ भी यही हुआ मैं कभी नहीं चाहती थी कि मैं अपने भाई से जिस्मानी रिश्ता बनाऊंगी पर हालात ने ऐसे मोड़ पर लाकर मुझे खड़ा कर दिया कि मुझे भी साथ देना पड़ा उसके इस नाजायज रिश्ते पर।

अब मैं सीधे अपने आप भी थी या यूं कहिए कि मेरी सेक्स कहानी पर आती हूं बिना आपका समय बर्बाद किए क्योंकि मुझे पता है आपके अंदर भी यह जानने की इच्छा हो रही होगी यह सब कैसे हुआ क्यों हुआ और कब हुआ। मेरा नाम पूजा है मैं 28 साल की हूं अभी तक मेरी शादी नहीं हुई है। उम्र ज्यादा हो गया तो मेरा शरीर भी भर गया है। मेरे जिस्म को देखकर लगता है कि हर एक कुछ भरा पूरा है। मेरी चूचियां बड़ी बड़ी है मेरे गांड चौड़े हो गए हैं। मेरी गांड के उधार बाहर के तरफ आ गया है जब जींस पहनते हो तो मेरे दोनों चूतड़ साफ साफ दिखाई देता है। मेरे जांग भी मोटे हो गए हैं। पर मेरी कमर पतली है मेरे बाल लंबे हैं मैं गोरी चिट्टी हूं। हॉट में दिल लाल लाल है और लंबी हूँ। मुझे कोई भी जब घूर के 2 मिनट के लिए देख ले तो रात में बिना मुंह मारे रह नहीं सकता। इतनी खूबसूरत और हॉट लड़की हूं।

और कहानिया   पति के सामने ही चुद रही थी दिवाली के दिन अपने भाई से

अब आप सोच रहे होंगे कि मेरी शादी अभी तक क्यों नहीं हुई तो मेरी शादी इसलिए नहीं हुई कि मैंने अभी तुरंत ही सरकारी जॉब ली है अच्छे पोस्ट पर एक ऑफिसर के पोस्ट पर अब मैं शादी करूंगी। पर घर में गदराया हुआ माल को देखकर, मेरे छोटे भाई के नियत खराब हो गई। मम्मी पापा भी दोनों सरकारी नौकरी में हैं तो वह भी सुबह जाते हैं और रात को आते हैं मेरे जॉइनिंग अभी नहीं हुई है 1 महीने का समय है इस वजह से मेरा भाई मुझे इमोशनल ब्लैकमेल करते रहता है कि दीदी तुम अब यहां नहीं रहोगी। मुझे प्यार कौन करेगा मेरा ध्यान कौन रखेगा मम्मी पापा भी दोनों जॉब पर रहते हैं आप ही तो मेरा ख्याल रखती थी।

आपको भी पता है दोस्तों घर में रहने का तरीका हर एक लड़की का अलग होता है कपड़े अस्त व्यस्त होते ही रहते हैं कुछ लोग तो इग्नोर कर देते हैं कि घर की बहन है बेटी है पर कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अपनी बहन और बेटी को भी नहीं छोड़ते हैं। जब मेरी चूचियां और गांड भाभी हो गया तो दिखना स्वभाविक है चाहे खाना देते हुए काम करते हुए झाड़ू लगाते हुए। यह सब देखकर मेरे छोटे भाई का मन खराब हो गया मैं जब भी झाड़ू लगाती थी वह आगे पीछे घूम रहा होता था ताकि वह मेरी चूचियों को बाहर से देख सके जब झुकती थी तो मेरी चूचियां बाहर कर लटक जाते थे और साफ साफ दिखाई देता था कि कितने बड़ा मेरी चूचियां है।

कई बार नहा कर आती थी तो वैसे ही कपड़े लपेट के आ जाते थे तो लिया लपेट कर आ जाते थे तो मेरी चूतड़ बाहर की तरफ निकले हुए दिखाई देती थी और जब मैं चलती थी तो दाएं बाएं का चलता था उसको देख कर उसके मुंह से सीटियां निकल जाती थी। साफ पता चलता था कि वह मेरे जिस्म का भूखा है। कई बार वह छूने की कोशिश करता था आते जाते मेरी गांड पर हाथ रख देता था कभी मेरे बूब्स पर धक्का लगा देता था।

और कहानिया   सुहाना सफ़र मे मस्ती

1 दिन की बात है मम्मी पापा दोनों हरिद्वार गए हुए थे 3 दिन के लिए मैं और मेरा भाई दीपक घर पर था। जब मैं नहाने गई बाथरूम में और नहा ली एक गलती हो गई मेरे से मैं अपना कोई कपड़ा नहीं ले गई थी। अब मैं बाहर हूं बाहर दीपक बैठा हुआ था वह भी इसी आशा में बैठा था ताकि वह मेरी गांड का और मेरे सूचियों का दीदार कर सके। कपड़ा मेरे पास था नहीं सारे भीग गए थे मैं नहा चुकी थी। अब मैं दीपक को बोलूं क्या कि मेरा ब्रा और पेंटी लाकर दे। फिर भी मैं सोच विचार कर उसको बोल दे कि पलंग पर मेरे कपड़े रखे हुए वह लाकर दे दे।

वह भागकर कमरे में गया पलंग पर मेरा ब्रा और पेंटीरखा हुआ था। मैं थोड़ा दरवाजा खोल कर देख रही थी कि वह लाने गया कि नहीं वह आते-आते मेरी पैंटी को अपनी नाक के पास रख कर सुन रहा था मेरी ब्रा को अपने लंड में सटाकर लग रहा था। उसको लगा कि मैं अंदर हूं पर मैं साफ-साफ देख रही थी वह क्या कर रहा है। उसने जब मेरी पैंटी को सॉन्ग तो आंखें बंद कर लिया और लंड को हिलाने लगा। मैं हैरान हो गई कि आखिर यह करके आ रहा है पेंट सूंघने से उसको क्या मिलेगा। मैंने फिर से आवाज लगाया दीपक जल्दी ला दे।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published.