एक दूर की रिश्तेदार की बेटी की चुदाई की…

प्रेषक : सतीश ,

हैल्लो दोस्तों, में सतीश आज में आज आप सभी को अपनी लाईफ की एक सच्ची घटना बताना जा रहा हूँ, जिसमें में आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी एक दूर की रिश्तेदार की लड़की को चोदा और उसकी चुदाई के बहुत मज़े लिए, लेकिन सबसे पहले में आप लोगों को अपने बारे में भी बता देता हूँ. मेरी बॉडी  फिट पूरा जिम किया हुआ है और देखने में भी ठीक ठाक हु और मेरे घर पर मेरे पापा, मम्मी और मेरी एक बहन है और मेरी मौसी की लड़की मुझसे करीब दस किलोमीटर दूरी पर रहती है, उसकी उम्र अभी 21 की होगी और उसके फिगर का आकार 30-26-32 है, कोई भी उस सेक्सी आईटम को एक बार देखते ही उसे जरुर चोदना चाहेगा, क्योंकि वो दिखने में बहुत मस्त माल है, उसका गदराया हुआ बदन मुझे क्या हर किसी को अपनी तरफ खींचता है और अब में अपनी कहानी पर आता हूँ.

दोस्तों यह बात आज से करीब दो साल पहले की है, जब मेरे सभी घर वाले दशहरे की छुट्टियों में बाहर घूमने गए हुए थे तो मेरी मम्मी ने मेरी मौसी की लड़की को जिसका नाम आरती है, उसे हमारे घर पर बुला लिया, ताकि मुझे खाने पीने में कोई दिक्कत ना हो तो मम्मी के कहने पर आरती हमारे घर पर आ गई और फिर मेरे घर वाले बाहर घूमने चले गये और में पूरा दिन टी.वी. ही देखता रहा, क्योंकि उस दिन रविवार का दिन था और मेरा स्कूल भी बंद था.

फिर कुछ देर बाद वो भी मेरे पास में आकर बैठ गई और अब हम दोनों टी.वी. देखते रहे और कुछ घंटो के बाद शाम हो गई, वो किचन में जाकर मेरे लिए चाय बनाकर ले आई, हमने साथ में बैठकर बातें हंसी मजाक करते हुए चाय के मज़े लिए और फिर उसके बाद वो उठकर किचन में चली गई और उसने हमारे लिए खाना बनाया और रात को हम दोनों खाना खाकर जल्दी ही सो गए, क्योंकि हम टी.वी. देखकर बहुत थक चुके थे, हमे बेड पर पड़ते ही जाने कब नींद आ गई. दोस्तों जैसा कि आप सभी लोगों को पता है कि दशहरे के समय पर हल्की हल्की ठंड होने लगती है तो हम दोनों एक कम्बल लेकर एक ही बेड पर सो गये.

और कहानिया   पार्किंग लोट में हुआ मेरा बलात्कार

फिर कुछ घंटे सोने के बाद मुझे थोड़ी प्यास लगने लगी तो मैंने उठकर पानी पिया और दोबारा उसके पास आकर लेट गया, बहुत देर तक आखें बंद करके पड़े रहने के बाद भी मुझे अब भी नींद नहीं आ रही थी, इसलिए में अपने मोबाईल में सेक्सी वीडियो देखने लगा और देखते ही देखते मेरा लंड खड़ा हो गया. दोस्तों मेरे लंड का साईज़ 6 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है, वो अब तनकर खड़ा हो गया था और पास में लेटी हुई मेरी बहन बहुत देर पहले ही सो चुकी. अब मेरे मन में उसको अपने पास लेटा हुआ कुछ कुछ गलत गलत बातें आने लगी और अब में उसके पेट पर हाथ रखकर सोने का नाटक करने लगा.

कुछ देर जब उसकी तरफ से कोई भी हलचल नहीं हुई तो मैंने थोड़ी हिम्मत करके अब उसके बिल्कुल गोल, बड़े आकर के मुलायम मुलायम बूब्स पर अपना एक हाथ रख दिया और में हल्के हल्के से अपने हाथ को उसके बूब्स पर घुमाने लगा, वाह दोस्तों कितने मुलायम एकदम रुई की तरह उसके बूब्स थे, मेरा तो उन्हें खा जाने का मन कर रहा था. फिर मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोलकर उसे धीरे ढीला कर दिया और फिर में मन ही मन बहुत हिम्मत जुटाकर उसकी चूत में ऊँगली करने लगा. मैंने अपनी एक ऊँगली को उसकी चूत में पूरा अंदर घुसाकर लगातार धीरे धीरे आगे पीछे करता रहा और मैंने महसूस किया कि उसकी चूत बहुत टाईट और अंदर से गरम थी, शायद वो अब तक वर्जिन थी, जिसके कारण वो हल्की हल्की आवाज से मोनिंग करने लगी, लेकिन वो मुझसे कुछ भी नहीं बोली.

अब मेरी हिम्मत बहुत बढ़ गई और अब में उसे अपनी तरफ खींचकर उसे किस करने लगा और इस बीच मैंने अपने सारे कपड़े भी उतार दिए और अब में उसके बाद उसके कपड़ो को थोड़ा ऊपर करके उसके बूब्स को अपने मुहं में लेकर चूसने और दबाने लगा, इतने में वो उठ गई और मुझे देखने लगी और फिर वो मुझसे बोली कि भैया आप यह क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि मुझे बहुत ठंड लग रही है, में अपनी ठंड को दूर भगा रहा हूँ तो वो बोली कि हाँ, लेकिन शायद आप भूल गए हो कि में आपकी बहन हूँ, आपका मेरे साथ यह सब करना बहुत गलत काम है, प्लीज मुझे अब छोड़ दो किसी को अगर पता चल गया तो मेरी इज्जत खराब हो जाएगी, प्लीज अब छोड़ो मुझे.

और कहानिया   विधवा शीला का पंडित जी के सात चक्कर 4

फिर मैंने उससे कहा कि हाँ मुझे सब कुछ पता है, लेकिन तुम शायद यह बात भी भूल चुकी हो कि यहाँ पर हमारे अलावा इस पूरे मकान में कोई भी नहीं है तो यह बात हमारे बीच से बाहर कैसे जाएगी? और में तुम्हें ऐसा कुछ भी नहीं होने दूंगा तुम मुझ पर पूरा विश्वास करो, मैंने उसे बहुत बार समझाया तो वो मान गई और फिर मैंने एक एक करके उसके सारे कपड़े उतार दिए और अब मैंने उसे अपने सामने पूरा नंगा कर दिया, वो एकदम सीधी शरमाती हुई अपने दोनों हाथों से अपने बूब्स की निप्पल को छुपाने की नाकाम कोशिश करने लगी और वो अपने पैरों को एक दूसरे पर रखते हुए अपनी चूत को भी मुझसे छुपा रही थी. उसको बहुत शरम आ रही थी, क्योंकि यह उसका पहला सेक्स अनुभव था और उसकी चूत अभी तक पूरी जवान भी नहीं हुई थी.

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published.