दुकान में हुई मेरी चुदाई

ही.मेरा नाम है प्रीति चौधरी और मई 23 साल की हू.मुझे सेक्स बहुत पसंद है.मुझे हुमेशा मौका चाहिए होता है सेक्स करने का,मुझे अलग अलग मर्दो को सिड्यूस करना और फिर सेक्स करना बहुत पसंद है.मेरा बूब साइज़ है 36 द,जिसकी वजह से मर्द जल्दी सिड्यूस हो जाते हैं.
ये कुछ दिन पहले की बात है. मई उस दिन घर पर बहुत गरम हो रही थी तो मैने सोचा बाहर जाकर किसी पे ट्राइ मार्टी हू.मई घर से बिना ब्रा पहने निकल गयी और एक लूस सा टॉप पहें लिया. दोपहर का त्यम था तो मार्केट मे ज़्यादा क्राउड नही था. मैने एक गारमेंट शॉप देखी जिसपे एक लड़का बैठा था. करीब 27-28 साल का होगा, अक्चा मस्क्युलर बिल्ट का.
मई उस शॉप मे घुस गयी और उस लड़के से बोला की त-शर्ट्स दिखाए. वो मुझे त-शर्ट्स दिखाने लगा. मैने उनमे से 2 त-शर्ट्स चूज़ किए जो काफ़ी ट्रॅन्स्परेंट थे. उन्हे उठाकर मैने उससे पूछा की ट्राइ रूम कहा है. उसने बोला की उस साइड है.मई ट्राइ रूम मे गयी. मैने वो ट्रॅन्स्परेंट टॉप पहें लिया.अब क्या था…!! वो टॉप नेट का था जिस वजह से मेरे माममे पूरी तरह से दिख रहे थे. मई तो यही चाहती थी..उसे पहें कर,मैने ट्राइ रूम मे लगे बल्ब को होल्डर मे तोड़ा सा लूस कर दिया..अब वो बल्ब जलना बंद कर दिया. मैने धीरे से शॉपकीपर को आवाज़ लगाई…”भैया ये बल्ब फ्यूज़ हो गया..”. वो बोला “आप टॉप पहें कर बाहर आ जैइययए,यहाँ बाहर मिरर मे देख लीजिए.” मैने कहा ठीक है. मई वो ट्रॅन्स्परेंट टॉप पहें कर एकदम से बाहर आ गयी.
उसकी नज़र जैसे ही मुझपे पड़ी वो एकदम सहें सा गया और मेरे मम्मो को घूर घूर क देखने लगा. मैने ऐसे रिक्ट किया जैसे मुझे पता ही नही की वो मुझे देख रहा है. मई आई और मिरर क सामने खड़ी हो गयी. वो लगातार मेरे मम्मो को ही देखे जा रहा था. मेरा आधा जिस्म दिख रहा था जिससे उसका चेहरा लाल सा होने लगा. मई उसकी तरफ पलटी और बोली, “ये दूसरा टॉप अंधेरे मे कैसे ट्राइ करू?क्या आप थोड़ी देर शॉप का शटर डाल देंगे?मई बाकी टॉप यहीं ट्राइ कर लूँगी”. वो एकदम से बोला “हन हन ज़रूर.” और फटाफट जाकर शटर डाल दिया. मैने मुस्कुरा कर बोला “थॅंक योउ.पर आप प्लीज़ इधर मत देखना” और एक स्माइल दी. वो बोला “हन हन नही देखूँगा.आप पहें लो.” मुझे मज़ा आने लगा सोचकर ही की मई एक लड़के क सामने नंगी होने वाली हू. मई धीरे धीरे से वो टॉप उतारने लगी.और एक ही पल मे उपर से नंगी हो गयी. मिरर क सामने खड़े होकर मई दूसरा टॉप पहेन्ने लगी.वो डीप नेक का ट्रॅन्स्परेंट टॉप था. मैने उसे पहना और उस लड़के की तरफ देखकर बोली,”कैसा लग रहा है?” वो मेरे माममे और मेरा बदन उपर से नीचे देखते हुए मुस्कुराया और बोला “क्या काहु.ऐसा माल मैने कभी नही देखा.” मुझे हसी आ गयी. मई पलट कर वो टॉप उतारने लगी. तभी वो मेरे पीच्चे आ गया और पीछे से मेरे दोनो माममे पकड़ लिए. उसके हाथ बिल्कुल ठंडे पद गये थे. उसके ठंडे ठंडे हाथ मेरे मम्मो को बुरी तरह से पकड़े हुए थे.मैने अपने हाथो से उसके हाथ पकड़ लिए. वो समझ गया की मई साथ दे रही हू. उसने माममे बहुत ज़ोर से दबा दिए.गरम होने की वजह से निपल बुरी तरह टाइट थे.
उसने ज़ोर से निपल मसल दिए.मेरे मूह से आआआआः निकल गयी और मई पलट कर उसके सीने से लग गयी. उसने मेरे माममे चूसने शुरू कर दिए. बहुत ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा और दूसरे हाथ से मेरी जीन्स खोलने लगा.जेनस खोलते ही मई पनटी मे आ गयी. वो एकदम मेरी पनटी उतारने लगा, मैने उसका हाथ पकड़ लिया. वो बोला “क्या हुआ?” मैने कहा..”ऐसे नही जान…अपने मूह से पकड़ कर उतारो ” वो मुस्कुराया और अपने होतो पे जीभ फेरने लगा. उसने अपने दांतो से पकड़ कर मेरी पनटी उतारनी शुरू की.जब मेरी झाँते दिखने लगी तो उसने अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिए.मेरी हालत तो बहुत खराब होने लगी. धीरे धीरे उसने पूरी पनटी उतार दी,अब मई पूरी नंगी थी.उससे रुका नही गया और उसने एक ही झटके मे अपने सारे कपड़े उतार दिए. उसने मुझे होतो पर चूमना शुरू किया और मेरी गांद पे हाथ फेरने लगा. फिर उसने गांद को बहुत ज़ोर से नोचा और मुझे उठाकर शॉप क स्लॅब पर लिटा दिया. और अपना लंड हिलाने लगा.मैने कहा “क्या हुआ जान?” वो बोला “अब छोड़ूँगा तुझे मेरी जान”. मैने कहा “इतनी जल्दी क्या है?मुझे मूट आ रहा है” उसने मेरी मूतने वाली जगह पे उंगली से नोचा और मसल कर बोला “यहीं से मूट आता है ना?” मैने सिसकार्टे हुए बोला “आआआः..हन मेरे राजा..” वो बोला “आजा मेरे उपर मूट”. मई उसके पेट पर पैर फेला कर बैठ गयी.और मूतना शुरू कर दिया.उसने मेरे मूट मे हाथ गीले किए और मेरे मम्मो पे मसालने लगा..हाअए….जैसे जन्नत मिल गयी..हम दोनो पूरी तरह भीग गये थे.फिर उसने मुझे ज़मीन पे बिताया और बोला “अब मई मूतुंगा तेरे उपर रंडी, पकड़ अपने माममे और ज़ोर ज़ोर से दबा” मैने अपने माममे पकड़ क दबाने शुरू किए.वो मेरे सामने खड़ा होकर मेरे मम्मो पे मूतने लगा और मई उसका पेशाब अपने मम्मो पर माल रही थी. उसने मुझे पूरा गीला कर डाला. फिर वो मेरे उपर चढ़ गया और मेरा मूह चाटने लगा.फिर धीरे धीरे पूरा बदन चाटने लगा.
जैसे ही उसने अपना मूह छूट पे रखा मैने उसे ज़ोर से दबा लिया.वो मेरी छूट को बहुत ज़ोर ज़ोर से चाटने लगा.बीच बीच मे ज़ोर से काट लेता था.फिर उसने अपना लंड हिलाया और मेरी छूट पे रख दिया.मेरे उपर लेट कर वो मेरे माममे दबाने लगा और स्मूच करने लगा.करते करते उसने ज़ोर से छूट मे लंड घुसा दिया और बोला “साली हरमज़ड़ी आज तो तेरी छूट फाड़ कर रख दूँगा.” मैने कहा”आ मेरे राजा..फाड़ दे इस छूट को.ये इसीलिए तो यहा आई है..” उसने बहुत ज़ोर ज़ोर से छोड़ना शुरू किया. मई बोलने लगी “और ज़ोर से छोड़ मदारचोड़.सेयेल कभी रंडी नही छोड़ी क्या?” वो धक्के लगता हुआ बोला “साली रंडी बहें की लौदी तुझे तो ऐसे छोड़ूँगा की चूड़ना भूल जाएगी” और भौत ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा. उसका पानी निकालने वाला था तो वो बोला “पिएगी या अंदर छ्चोड़ डू?” मैने कहा “अंदर ही छ्चोड़ दे मेरे कुत्ते..” उसने अंदर ही छ्चोड़ दिया. और उठकर अपना लंड मेरे मूह मे डाल दिया. लंड चाट कर मैने सॉफ कर दिया.
फिर वो खड़ा हुआ और बोला “और कुछ?” मई हसी और बोली, “बस राजा.आज मज़ा आ गया” वो बोला”अब कब आयगी?” मैने कहा”जब खुजली हुई तो तेरे पास मिटाने आ जौंगी.बस नही चलता वरना हर बार मूतने भी तेरे ही पास अओन!” वो हासणे लगा और मुझे उठाकर ज़ोर से गले लगा लिया.फिर मैने अपने कपड़े पहने और उससे जाते हुए कहा “ट्राइ रूम का बल्ब फ्यूज़ नही है,लूस है” और आँख मार दी. वो ज़ोर से हसा और मुझे गले लगा क गाल पे किस किया.फिर मई चली आई

और कहानिया   चुत और गांड सात में चोदने का मज़ा