ड्राइवर से चुदाई भाग 1

मेरा नाम राम कुमार है लेकिन सब मुझे रामू के नाम से पुकारते हैं. मैं एक सरकारी ऑफीसर के घर 5 साल से ड्राइवर की नौकरी कर रहा हूँ. साहब का नाम अमित मिश्रा है. वो दूसरे ज़िले में ड्यूटी करते हैं और वहीं रहते भी हैं. वो केवल सॅटर्डे को आते हैं और मंडे को वापस चले जाते हैं. घर पर उनकी बीवी और उनकी दो लड़कियाँ रहती हैं. मेम साहब का नाम ज्योति मिश्रा और उनकी लड़कियाँ मिनी और काजोल है. उन सभी का रंग गोरा, बदन एक दम स्लिम, बॉल काले रंग के और कटे हुए हैं. वो सभी दिखने में बहुत ही सेक्सी लगती हैं. मैं जब उनके यहाँ नया नया आया था तो कुच्छ दीनो के बाद एक दिन बाज़ार जाते हुए ज्योति ने मेरे घर परिवार के बारे में पूच्छना शुरू किया. मैने उन्हें सब कुच्छ बता दिया की मैं गाओं का रहने वाला हूँ और मेरे मा और बाप गाओं में ही रहते हैं. मैं शहर के बाहर हाइवे के किनारे एक किराए के रूम में अकेला ही रहता हूँ. मेरी अभी तक शादी नहीं हुई है. ज्योति बीच में कुच्छ उल्टे सीधे सवाल भी पूच्छ लेती थी और मैं शरम के मारे चुप हो जाता था.

एक दिन जॉयटी को कुछ कम से शहर से बाहर जाना था और 2 दिन बाद वापस आना था. मेम साहब ने मुझे बुलाया और कहा, “रामू, तुम गाड़ी तय्यार करो और मेरे साथ चलो. मुझे 2 दिन के लिए बाहर जाना है.” मैने कहा, “ठीक है, मेम साहब.” मैने बाहर जा कर गाड़ी सॉफ की और उनका इंतेज़ार करने लगा. कुच्छ देर बाद वो आकर गाड़ी में बैठ गयी और चलने को कहा. मैने गाड़ी स्टार्ट की और चल दिया. जब हम शहर से बाहर आ गये तो ज्योति मुझसे पूछ्ने लगी की मैने अभी तक शादी क्यों नहीं की. मैने कहा की अभी तक मेरे पास रिश्ते के लिए कोई आया ही नहीं. फिर वो इधर उधर की बातें करने लगी. थोड़ी देर बाद उन्होने अचानक मुझसे पूचछा की तुम्हें बीवी की ज़रूरत नहीं महसूस होती. मैने झिझकते हुए कहा होती क्यों नहीं. वो बोली तब तुम क्या करते हो. मैं चुप रह गया. वो बोली की तुमने सुना नहीं मैने क्या कहा. मैने कहा की मेरे घर के पास ही एक औरत रहती है, उसी से मेरा संबंध है. वो बोली की उसके घर में कोई और नहीं है. तो मैने कहा की उसका पति है और वो एक फॅक्टरी में नाइट ड्यूटी पर चला जाता है. वो बोली की दिखने में वो कैसी है. मैने कहा की वो गाओं की आम औरतों की तरह ही है. शकल सूरत से ठीक-तक है. फिर वो चुप हो गयी.

और कहानिया   चुत में मोमबत्ती

1 घंटे के बाद हम उस शहर में पहुच गये तो में साहब ने एक होटेल का पता बताया और वहाँ चलने को कहा. में साहब के लिए उस होटेल में रूम बुक था.

हम सीधे उस होटेल पर आ गये. रात के 9 बजने वेल थे. मैं उनके साथ रूम में आ गया और बैठ कर टीवी देख रहा था. रात के 10 बजे में साहब ने खाना माँगाया. हम डन ने खाना खाया. खाना खाने के बाद मैं नीचे गाड़ी में सोने के लिए जाने लगा तो में साहब बोली, “रामू, तुम यहीं सोफे पर सो जाओ. मुझे अकेले में दर लगता है.” मैने कहा की मैं आप के रूम में कैसे सो सकता हूँ. वो बोली की मैं कह रही हूँ ना. मैं वहीं रुक गया. में साहब ने कहा की तुम सोफे पर सो जाओ और खुद बेड पर सोने चली गयी. मैं सोफे पर सो गया.
रात के लगभग 12 बजे मौसम खराब हो गया. ज़ोर ज़ोर से आँधी चलने लगी और बिजली भी कडकने लगी. मेम साहब ने उठ कर मुझे जगाया और बोली, “रामू, मुझे बहुत दर लग रहा है.” मैने कहा, “मैं तो यहीं हूँ. आप आराम से सो जाइए.” वो बोली, “नहीं तुम मेरे साथ चल कर बेड पर एक किनारे सो जाओ. मुझे बिजली कडकने से बहुत दर लगता है.” मैं चुप-चाप उठ कर उनके साथ बेड पर आ गया. मैने एक चादर ओढ़ ली और बेड के एक किनारे सो गया. में साहब बेड के दूसरे किनारे पर सोने की कोशिश करने लगी.

कुच्छ देर बाद बहुत ज़ोर से बिजली कदकी तो में साहब ने मुझे पीच्चे से पकड़ लिया और चिपक गयी. मैं घबडा गया. उनके बूब्स को मैं अपने पीठ पर महसूस कर रहा था. मुझे भी जोश आने लगा और मैं चुप रहा. थोड़ी देर बाद वो मेरे सीने के बलों को सहलाने लगी. मैने उनका हाथ पकड़ कर हटा दिया लेकिन वो फिर अपने हाथों से मेरे सीने को सहलाने लगी. मुझे और ज़्यादा जोश आने लगा और मेरा लंड खड़ा हो गया. वो मेरे सीने को सहलाती रही. मुझे मज़ा आ रहा था इसलिए मैं कुच्छ नहीं बोल रहा था. कुच्छ देर तक मेरे सीने को सहलाने के बाद उनका हाथ धीरे धीरे मेरे पेट पर आ गया और वो मेरा पेट सहलाने लगी. थोड़ी ही देर बाद उनका हाथ मेरे लंड पर था. मेरा लंड तो पहले से ही खड़ा था. जैसे ही मेम साहब का हाथ मेरे लंड पर पड़ा तो वो उसे टटोलने लगी और बोली, “रामू, तुम्हारा तो बहुत लंबा चौड़ा लग रहा है. क्या साइज़ होगा इसका.” मैने कहा, “यही कोई 8″ लंबा और 2 1/2″ मोटा.” वो चौक कर बोली मुझे विश्वास नहीं होता. तुम अपना मूह मेरी तरफ करो, मैं इसे अभी देखना चाहती हूँ.

और कहानिया   रानी की असली कहानी भाग 5

मैने करवट बदल ली. उन्होने मेरा नेकर खोला दिया और मेरे लंड को अपने हाथों से पकड़ लिया. मेरी सारे बदन में आग सी लग गयी और मेरा दिल तेज़ी के साथ धड़कने लगा. वो अपने हाथ से मेरे लंड को सहलाने लगी. मेरा लंड तो पहले से ही खड़ा था, उनके सहलाने से एक दम तन गया. वो मुझसे एक दम चिपक गयी. कुच्छ देर तक मेरे लंड को सहलाने के बाद बोली, “तुम्हारे बॉल बहुत बड़े बड़े हैं. तुम सॉफ नहीं करते हो क्या.” मैने कहा, “अभी 15 दिन पहले ही सॉफ किया था.” वो बोली, “मुझे नीचे के बॉल नहीं पसंद हैं.

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares