ड्राइवर से चुदाई भाग 2

मेम साहब की बड़ी लड़की का नाम मिनी था और उसकी उमर लगभग 18 साल की थी. अब मेरी निगाहें उस पर थी. वो भी अपनी मा से ज़्यादा सेक्सी थी. उसकी कमर इतनी पतली थी की मुझे लगता था अगर पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया जाए तो वो उसकी गांद के रास्ते बाहर निकाल आएगा. मैं उसे भी चोदने का कोई मौका खोज रहा था.

एक दिन मेम साहब को साहब के पास जाना था. वो मिनी की छ्होटी बहन काजोल को साथ लेकर साहब के पास चली गयी. जाते समय वो मुझसे बोली, “रामू, घर का ख़याल रखना और मेरे वापस आने तक रात को यहीं सोना.” मैने कहा, “ठीक है, मेम साहब.” रात को खाने के बाद मैं बाहर सोने जाने लगा तो मिनी ने कहा, “रामू, तुम यहीं सो जाओ. मुझे अकेले में डर लगता है.” मुझे तो मन माँगी मुराद मिल रही थी भला मैं क्यों इनकार करने लगा. मैने कहा, “ठीक है, बेबी.”

रात के 12 बजे मिनी ने आकर मुझे जगाया. मैं उठा तो वो बोली, “रामू, उस दिन तुम तो मेरी मम्मी के साथ गये थे और होटेल में रुके थे. उस दिन आँधी भी आई थी और बिजली भी ज़ोर ज़ोर से कड़क रही थी. मम्मी को आँधी और बिजली कडकने की आवाज़ से बहुत डर लगता है और वो अकेले नहीं सो सकती. मुझे एक दम सच सच बताना की उस दिन तुम मम्मी के साथ उनके बेड पर सोए थे या नहीं.” मैं चौक गया और बोला, “तुम्हारी मम्मी बहुत ज़िद करने लगी तो मैं उनके रूम में सोफे पर सो गया था.” मिनी बोली, “तुम अभी भी झूठ बोल रहे हो. मम्मी बिजली कडकने पर बिना किसी से चिपके नहीं सो सकती. मम्मी ज़रूर तुम्हारे साथ चिपक कर सोई होगी. तुम सच सच बताओ” मैने कहा. “हां, सोया था,” मिनी फिर बोली, “उस रात और क्या हुआ था.” मैने कहा, “कुछ भी तो नहीं.”

मिनी फिर बोली, “उस रात मेरी मम्मी ने ज़रूर तुमसे चुडवाया होगा. तुमको आज मुझे भी चोदना पड़ेगा. नहीं तो मैं पापा से बोल दूँगी की तुम मुझसे रात में गंदी गंदी बातें कर रहे थे और मुझे च्छेद रहे थे.” मैं सकपका गया और चुप हो गया. वो बोली, “तुमने सुना नहीं, आज तुमको मुझे चोदना पड़ेगा.” मैने कहा, “तुम्हारी मम्मी शादी शुदा है और वो चुड़वाने की आदि है. मेरा लंड बहुत लंबा और मोटा है. तुम अभी बच्ची हो और कुँवारी हो. तुम्हारी चूत एक दम छ्होटी है. तुम मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर नहीं ले पावगी. तुम्हारी चूत फॅट जाएगी.” मिनी बोली, “तुम अभी मुझे बच्ची समझ रहे हो. मैने तुमसे ऐसे ही थोड़े ना चुड़वाने के लिए कहा है. मैं अपने काई बॉय फ्रेंड से चुडवाया है. मैं 7″ लंबा लंड भी अपने चूत के अंदर ले चुकी हूँ.” मैने कहा, “ठीक है, तुमने अपने काई बॉय फ्रेंड से चुडवाया होगा और 7″ लंबा लंड भी अंदर ले चुकी हो लेकिन तुमने मेरे लंड को देखा नहीं है. अगर देख लॉगी तो अपना इरादा बदल डोगी.” मिनी और ज़्यादा जोश में आ गयी और बोली, “तुम अपना पॅंट खोलो, मैं अभी तुम्हारा लंड देखना चाहती हूँ जिस पर तुमको इतना नाज़ है.”

और कहानिया   घरवाली की ग्रुप चुदाई दो लोगो से

मैं तो मिनी को चोदना चाहता ही था इसलिए मैने तुरंत अपना पॅंट और नेकर दोनो उतार दिया. मिनी मेरे लंड को देख कर बोली, “वा क्या तगड़ा लंड पाया है तुमने, मैं तो इसको ज़रूर अपनी चूत के अंदर लूँगी. मुझे तुम्हारे लंड से चुड़वाने में बहुत मज़ा आएगा. तुम अब मेरे भी कपड़े उतार दो.” मैने मिनी के कपड़े उतरने शुरू कर दिए. मैने पहले उसका ब्लाउस उतरा और फिर ब्रा को खोल दिया. ब्रा के खुलते ही उसकी चुचियाँ बाहर आई तो मैं देखता ही रह गया. उसकी चुचियाँ एक दम गोरी और छ्होटी छ्होटी थी. उसके निपल भूरे थे और बहुत छ्होटे थे. मैने उसके निपल को अपनी उंगलियों से मसलना शुरू कर दिया तो वो सिसकारियाँ भरने लगी. मिनी ने मेरे लंड को सहलाना शुरू कर दिया. मैने अपने होत उसके होठों पर रख दिए. थोड़ी देर बाद मैने मिनी की स्कर्ट भी उतार दी. उसकी चिकनी जंघें देख कर मुझे और जोश आ गया. मैं उसकी जांघों को सहलाने लगा. कुच्छ देर बाद मैने उसकी पेंटी भी उतार दी.

जैसे ही मैने उसकी पनटी उतरी तो मैं आँखें फाडे हुए उसकी चूत को देखता रह गया. उसकी चिकनी और गोरी चूत देखकर मेरा लंड और तन गया. उसकी चूत को देख कर नहीं लग रहा था की वो चुदवा चुकी है. उसकी चूत पर अभी ठीक से बाल भी नहीं उगे थे. मैने उसकी चूत को सहलाना शुरू किया तो वो और जोश में आने लगी और कुछ देर बाद बोली, “ओह रामू, तुम कितने अच्च्चे हो. मुझे अब बर्दस्त नहीं होता. जल्दी चोदो मुझे. मैं तुम्हारा पूरा लंड अपनी चूत की गहराई तक लेना चाहती हूँ. डालो इसे मेरी चूत में और फाड़ दो मेरी चूत को.” वो इतनी जोश में आ गयी थी की तुरंत ही ज़मीन पर डॉगी स्टाइल में हो गयी और बोली, “रामू, अब जल्दी से मेरी चुदाई करो. एक झटके से ही दल दो अपना पूरा लंड मेरी चूत में. मेरे चिल्लाने की तुम कोई परवाह मत करना. मुझे तकलीफ़ देने वाली चुदाई बहुत पसंद है. यहाँ मेरे और तुम्हारे अलावा कोई नहीं है.”
मैं उसके पीच्चे आ गया और बिना देर किए अपने लंड का सूपड़ा उसकी चूत के बीच फसा दिया. वो बोली, “देखते क्या हो, एक ही धक्के में घुसा दो अपना पूरा लंड मेरी चूत के अंदर.” मैने अपने लंड को उसकी चूत में घुसना शुरू किया. मेरा लंड अभी तक उसकी चूत में केवल 2″ ही घुसा था की वो चिल्लाने लगी. मैने कहा, “तुमने तो 7″ लंबा लंड अंदर लिया है. तुमने काई लड़कों से चुडवाया भी है तो फिर इतना चिल्ला क्यों रही हो. मेरा लंड तो अभी तुम्हारी चूत में केवल 2″ ही घुसा है.” वो बोली, “तुम्हारा लंड मोटा बहुत है, इसलिए दर्द हो रहा है. उन सब का लंड इतना मोटा नहीं था.” मैने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाल लिया तो वो बोली, “मैने तुमसे कहा था ना रुकना मत, तुम रुक क्यों गये, डालो अपना पूरा लंड मेरी चूत में.

और कहानिया   विधवा शीला का पंडित जी के सात चक्कर 4

Pages: 1 2 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares