दोस्त ने मेरी मा को बहुत बहरहमी से चोद

मम्मी : उफ्फ्फ्फ़ नहीं नहीं यह मुझसे नहीं होगा, यह तो बहुत लंबा मोटा है, मुझे इससे बहुत दर्द होगा, में इसको नहीं ले सकती, प्लीज छोड़ दो मुझे, में मर जाउंगी..

दोस्तों यह शब्द बोलकर वो तुरंत उठ गई और अपने दोनों नंगे बूब्स को हिला हिलाकर भागने लगी, लेकिन सुनील ने एकदम से उन्हें पकड़कर बेड पर बैठा दिया और फिर उसने अपना लंड मेरी मम्मी के मुहं के पास रख दिया और बोला..

सुनील : साली मादरचोद ले मुहं मे पूरा..

फिर उसने मम्मी की नाक बंद कर दी और मम्मी का मुहं खुलते ही उसने अपना पूरा का पूरा लंड अंदर डाल दिया और ज़ोर ज़ोर से उनका सर पकड़कर हिला रहा था और फिर मेरी तरफ सुनील ने देखा और बोला..

सुनील : देख मादरचोद तेरी मम्मी आज कैसे मज़े से लंड चूस रही है, यह बहुत ज़्यादा समझदारी दिखा रही थी.. आज इसका हाल बहुत बेहाल होगा भड़वे साले..

में : नहीं सुनील ऐसा मत करो, यह सब गलत है प्लीज अब मेरी मम्मी को छोड़ दो..

फिर वो नहीं माना.. फिर लंड मुहं से बाहर निकाला और उसने मम्मी को उठाकर पटक दिया और वो उनके ऊपर चड़ गया, उसने बीच में आकर मम्मी की दोनों जांघो को कसकर पकड़ा और दूर कर दिया और अपने लंड को चूत के मुहं पर रख दिया और एक ही जोरदार धक्का देते हुए उसने चूत में अपना 6 इंच का लंड पूरा ही अंदर डाल दिया.. लंड गीली चूत को फाड़ता हुआ अंदर चला गया.. दोस्तों मेरी मम्मी बहुत दिनों से नहीं चुदी थी, इसलिए वो तो अचानक से हुए उस वार से कराह उठी और अब वो ज़ोर ज़ोर से चीख रही थी और पूरे रूम में उनकी आवाज सुनाई दे रही थी, वो लंड को बाहर निकालने की नाकाम कोशिश कर रही थी..

मम्मी : आह्ह्ह्हह हाए में मर गई प्लीज बाहर निकालो, आअहहहह उईईई मम्मी सुनील नहीं नहीं सुनील आहह्ह्ह में मर जाउंगी, प्लीज अब छोड़ दो मुझे आहहहह हटो दूर मुझसे ऊईईईइ..

और कहानिया   पडोसी आंटी ने दी मेरे लुंड को प्यार

दोस्तों वो अब सुनील का उछल उछलकर विरोध करने लगी थी, लेकिन सुनील बिना कुछ सुने ज़ोर ज़ोर से अपने लंड को उसकी चूत पर धक्के मारे जा रहा था और उन्हें ऐसे ही चुदाई करते हुए पूरा आधा घंटा हो गया था, मम्मी शायद इस बीच झड़ जाने के बाद थोड़ी ढीली पढ़ गई थी और वो अब उसके धक्को का मज़ा लेती हुई अपनी चूत को उससे चुदवा रही थी, मुझे वो बहुत संतुष्ट सी नजर आ रही थी, लेकिन सुनील का लंड अभी भी बिल्कुल टाईट था..

सुनील : आहहह चल भड़वी अब तू जल्दी से पीछे घूम जा..

दोस्तों यह बात कहकर उसने तुरंत मम्मी को उसी जगह पर उल्टा कर दिया और अब वो उनके बड़े बड़े कूल्हों पर लगातार थप्पढ़ मारने लगा था.. फिर मम्मी अब उसकी ऐसी हरकते देखकर समझ गई थी कि अब वो उनकी गांड को मारने वाला है.. अब उनकी गांड भी उस मोटे लंड को लेने के लिए बिल्कुल तैयार उनके चेहरे से वो खुश नजर आ रही थी, लेकिन मेरे सामने वो मुझे दिखाने के लिए विरोध कर रही थी..

मम्मी : उह्ह्ह्ह अब मुझमें इतनी ताक़त नहीं है.. में तुम्हारे इस जानवर जैसे हथियार को दोबारा अपने अंदर नहीं ले सकती, में मर जाउंगी प्लीज ऐसा मत करना, प्लीज मैंने आज तक कभी भी पीछे नहीं लिया है, अब बस करो..

सुनील : मेरी जान, अभी तो तेरी गांड की ठुकाई बाकी है..

फिर ऐसा कहकर उसने सीधा अपने लंड को गांड के मुहं पर रख दिया और एक जोरदार धक्का मार दिया, जिसकी वजह से लंड अंदर चला गया और मम्मी उस दर्द से एक बार फिर से तड़पने लगी और चिल्ला उठी..

मम्मी : उउईईईईइइ मम्मी में मर गई, नहीं प्लीज ऐसा मत करो में तुम्हारे हाथ जोड़ती हूँ, आहह हाआहह ओईईइ मम्मी..

दोस्तों सुनील अब बहुत ज़ोर ज़ोर से मेरी मम्मी की गांड को लगातार धक्के मारे जा रहा था.. उसका लंड मुझे छेद से अंदर बाहर होता हुआ साफ साफ नजर आ रहा था.. तभी कुछ देर बाद मैंने देखा कि लंड के अंदर बाहर होने के साथ साथ अब उनकी गांड से खून भी बाहर निकल रहा था और अब मम्मी बेहोश सी होने लगी थी और वो करीब 20 मिनट तक बिना रुके गांड में लंड को धक्के मारे जा रहा था.. फिर कुछ देर बाद मम्मी धीरे धीरे अपने होश में आई तो उसने अपना लंड बाहर निकाल लिया और अपना वीर्य उसने मेरी मम्मी के चेहरे पर निकाल दिया.. उसके लंड से बहुत सारा लावा निकला और मम्मी चेहरे से पूरी रंडी की तरह लग रही थी, वो बिल्कुल संतुष्ट एकदम निढाल होकर पढ़ी हुई थी, उसने अपना मोबाईल एक कोने में रखकर वो सब कुछ रिकॉर्ड कर लिया था..

और कहानिया   कॉलेज टूर के दौरान लेस्बियन सेक्स सुनीता के सात

सुनील : वाह भडवी मज़ा आ गया, अब तो तेरी वीडियो भी मेरे पास है, अब जब भी में तुम्हें बुलाऊँ तब तुम मुझे खुश करने चुपचाप आ जाना वरना में तुमको बदनाम कर दूँगा..

दोस्तों मम्मी रो रही थी और उनकी आखों से आंसू बाहर आ रहे थे, तभी सुनील उठकर मेरे पास आ गया..

सुनील : साले तेरी मम्मी मेरी रखेल है तू यह बात तेरे बाप को मत बोलना वरना वो तुझे बहुत मारेगा..

फिर उसने मुझे रस्सी खोलकर आजाद कर दिया और फिर मेरी मम्मी ने जल्दी से अपने कपढ़े पहन लिए और सुनील भी कपडे पहनकर अपने घर पर चला गया ….

Pages: 1 2 3