जवान कज़िन की कोमल चुत मारा

डोसतो मेरा नाम श्याम साहनी है,उमर 20 साल का एक मढ़वर्गीय प्रिवार का हू, मियाए गोरखपूरे सिटी के पास रहता हू,यह मेरी और मेरी कजिन अनुराधा साहनी की चुदाई की कहानी है.

अनुराधा मेरे बड़े पापा की लड़के की लड़की यानी मेरी कजिन है, उमर 18 साल की हो गई है. कजिन का घर बिल्कुल मेरेन घर के बगल मे है,उसके दो भाई है, एक छ्होटा और एक बड़ा.वह बहुत ही सुन्दर है.आज से २ साल पहले की बात है.जब वह 1७ साल और मै 1८ साल का था. मेरे घर टीवी ना होने के कारण कजिन के घर टीवी देखने जाता था, कभी कभी देर रात तक देखता रहता और वही पर सो भी जया कराता था.मुझे सेक्स का मज़ा जब से आया तब से मेरे एक दोस्त ने मुझे बाय्फ्रेंड देखना सीखा दिया,मै मोबाले पर बाय्फ्रेंड देखकर मूठ मार लिया कराता था लॅंड को संत कर लेता.कजिन की चुत!

मै कजिन के घर रोज टीवी देखने जया कराता,एक दिन मुझे टीवी देखते-2 12 बाज गये.भीया भाभी चाट पर सोने चले गये, मै बाद पर बैठा था.कजिन,उसके दोनो भाई उसी बाद पर सो रहे थे कजिन मेरे पास सोई थी,मैने देखा की सभी सो रहे है मै मोबाइल निकल कर बाय्फ्रेंड देखने लगा,बाय्फ्रेंड देखते देखते मेरा लॅंड टंकार खड़ा हो गया. मूठ मरने के लिया पेंट से लॅंड को बाहर निकाला और सहलाने लगा तभी मेरी नज़र कजिन की और पड़ी जो सो रही थी,मेरे मन मे आया की कजिन को चोद दो पर मै दर रहा था की कही अपनी मा से कह ना दे,इसके बाद मैने अपने हाथो को उसके हाथ पर रखा और सालने लगा वह नही उठी फिर मैने उसके हाथ को लॅंड पर रख कर उसके हाथो से सहलाने लगा और अप्पर नीचे कराता रहा इसी त्राह 10 मिंट के बाद मेरे लॅंड ज्वाला मुखी फुट पड़ी और लॅंड पानी उसके हाथो मे ही निकल गया.

उसके बाद रुमाल से उसके हाथ और अपने हाथ को साफ करके वही पर सो गया.सुबह मै सवेरे उठ कर पड़ने चला गया.स्कूल मे मेरा मन नही लग रहा बार बार कजिन की याद आ रही और मन कर रहा था की अभी जौ और उसे चोद दो. स्कूल की च्छुतटी होने के बाद.मै स्कूल से 4 बजे वापस आया खाना खाने के बाद उसके घर गया ,कजिन को निहाराता रहा, मैने सोच लिया की आज कुच्छ भी हो जाए मै उसे चोद कर ही दम लंग. कजिन स्कूल्लट और त-शुर्त पहनी थी.त-शुर्त मे से उसके छोटे छोटे चुचि (बूब्स) साफ नज़र आ रहे थे जिसको निहारा रहा, इसी दौरान मेरा लॅंड खड़ा हो गया जो मेरे पैंट मे फरफारा रहा था कजिन ने मेरे पैंट की तरफ देखा पर मै दूसरी ओर घूम गया, रात के 11 बजे सभी पिच्छाले दिन की तरह सो गये मै बाय्फ्रेंड देखने लाया और सोच रहा थी की कजिन जब गहरी नींद मो होगी तो मै उसे चोदुगा.

अब रात के 12 बाज गये,कजिन त-शुर्त और स्कोलट पहनी थी मैने हिम्म्त कर के उसके उसके त-शुर्त के उपर से ुआसके छ्होटे-छ्होटे चुचि (बूब्स) को सहलाने लगा मेरे शेरर मे करनट सी दूर गई मेरा लॅंड खड़ा होने लगा, कजिन गहरी नींद मे सो रही थी.इस लिए उसे पता नही चल रहा था मैने उसके गुलाबी होतो को अपने होतो से चूसने लगा वह क्या मज़ा मिल रहा था मैने ऐसा पहले कभी बही नही किया था.मानो अब सवर्ग मे जराहा हू अपने जीभ को उसके मूह मे डाल कर उसके ज्ववभ को चाट रहा था,और होतो को चूस रहा, 5 मिनट तक होतो को चूसने के बाद उसके त-शुर्त को उपर किया क्या दूध की तरह सफेद छ्होटे चुचि(बूब्स) थे उनको मैने पूरा का पूरा बूस मूह मे लेकर चूसने लगा बड़ा मज़ा आ रहा था मन तो कर रहा था काट कर खा जौ थोड़ी देर दोनो बूस को चासटा रहा इसी बीच कजिन का शेरर टाइट होने लगा कजिन के आख अब भी बंद ही थे कजिन पूरे शेरर को टाइट कर रही थी मै जान गया कजिन जाग गई है.

और कहानिया   भाई ने मुझे रंडी बनके चोदा

कुच्छ बोली नही मै चुचि(बूब्स) को चुसटा रहा होठ को उसके चुत पाएर रख कर स्कुलट के अप्पर से ही दबाने लगा और चुचि (बूब्स) को चूस रहा था,करीब 15 मिंट के बाद मैने उसके स्कुलट को अप्पर किया, वह ब्लॅक कलर की चड्डी(पेंटी) पहनी थी चड्डी के उपर से उसके चुत को सहलाने लगा वह मस्ती मे धीरे धीरे आआआअहह आअहह आआआहााहह हहााआअ अहहाआआआआआ आआआआआआआहह कर रही थी, और कुच्छ नही बोला,कुच्छ देरी के बाद कजिन ने खुद चड्डी (पेंटी) को धोड़ा नीचे कर दिया, मैने चुत को देखते ही मेरी आख फटी की फटी रह गयी देखा की छ्होटी चुत जो गुलाब की फूल की तरह गुलाबी थी, चुत को सहलाने लगा, जो बिल्कुल गुलाबी छोटी सी बिने बालो वाली चुत थी. मैने मन मे क्या वह क्या चुत है उसकी चुत एक दम गीली हो चुकी थी , कजिन की चुत!

मै मशाल रहा था अब कजिन सिसकारिया बड़ाती जा रही थी आआआआआआआअहह आअहहाआहह आहाहहाआआआआआआआअ आआआआआअहह ईईईईईईईईईईईईहह आआआआआआहहााअ आआहह मैने पानेट से लॅंड को बाहर निकल कर जो 5 इंच लंबा 2 इंच मोटा था ,कजिन के हाथो को अपने लॅंड पर रख कर एक दो बार अप्पर नीचे किया फिर छोड़ दिया कजिन लॅंड खुद अप्पर नीचे करने लगी, उसके चुत मे अग लग गई, मैने अपने एक उंगली को उसकी चुत मे 1 इंच डाल वह तिलमिला उठी मेरे लॅंड को ज़ोर से डब दिया मैने सोचा छोटी सी चुत दर्द हो रहो होगा उसने एक हाथ से मारे उंगली को पाकर कर अंदर डालने लगी अंदर भहर करने लगी मैने हाथ को च्छुरा लिया, अभी भी कजिन आख बंद ही किए थी. मैने उसके चुत मे मूह लगा कर चातने लग जैसे बाय्फ्रेंड मे करते है मेरे लॅंड को छ्होर कर मेरे सिर को पाकर कर चुत मे दबाए जा रही थी मै जीभ को चुत के अंदर डाल के खूब चाट रहा त और उसके मूह स्सी आहह आआअहह आआअहह आआआआआआआअहहााआअ अहह आआहह आआआअहह आआआआआआआअहह चााआआआचााहह और अंदर मै 15 मिनट तक चुत को चातने के बाद. बाद पर चड़ कर कजिन के अप्पर चड़ के लॅंड को चुत पे रख दिया उसने लंडो को चुत मे डालंद चाहा लेकिन चुत छ्होटी थी नही छा रही थी हंस रहा था की मेरा ही मन था चोदने की लिए लेकिन वह भी करवाना चाहती थी मियने होठ को छॉमा लॅंड को चुत की मूह पर रख कर डक्का दिया.

और कहानिया   पापा ने मेरी सील तोड़ी

लॅंड अंदर नही गया उसने अपने दोनो हाथो से चुत को फैलाया माने ज़ोर का डक्का मारा 2 इंच लॅंड अंदर गया कजिन चिल्ला उठी आआआआआआआहह
आआआआहह नाहह्ी नाआहियीईई आहह मैने उसके मूह को मून लिया फिर ज़ोर का डक्का मारा मेरा पूरा का पूरा लॅंड अंदर चला गया उसकी छ्होटी चुत फॅट गयी वह रोने लगी मैने मूह को मुने रखहा देखा की चुत से खून निकल रहा है मैने सोचा कही कुच्छ हो ना जाए, पहली बार चुत पाई है कुच्छ होगा तो देख लिया जाएगा, कजिन बोली आअहह छ्चाआआआआचाअ लॅंड को बाअहहार निकााअल दो मिने लॅंड को चुत मे रहने दिया और रुक गया कजिन के चुचि (बूब्स) चातने लगा, थोड़ी देर बाद उसका दर्द कम हुआ वह कमर को हिलने लगी बोली चााचाआआआआ मै समझ गया की दर्द कम हो गया है.

अब लॅंड को चुत मे अंदर बाहर करने लगा अब उसे भी मज़ा आने लगा मैने दीरे से फुच्छा अनुराधा दर्द तो नही हो रहा है उसने सिर को हा मे हिलाया मै चुत का मज़ा ले रहा था मेरा लॅंड अमृत मे डूबा था कजिन धीरे धीरे आआआहह अहह आआहह आआआआआआआआआआहह अहहुहहााअ अहह उूुुुुुुुुुुुउऊहहााअहह आआआआआआअहह आआआअहह आआआअहहहह आआहह्ा आआहहा आहहा चाआचा करने लगी मानो अब सवर्ग मे हू मज़ा आरा था चोदते जा रहा था की मेरा लॅंड संत होने का नाम ही नही ले रहा था कजिन कहने लगी और तेज चाचा और तेज मैने चाड़ना तेज कर दिया, कजिन भी गड़ को उठा उठा कर सटा दे रही थी 25 मिंट की चुदाई के चुत की आग बुझ गयी और पानी निकाने वाली थी वह ज़ोर से दोनो पैरो से चुत को छापने लगी मेरा लॅंड उसकी चुत मे डब रहा त अचानक चुत से पंनी की दार निकार कर बाद पर गिरने लगा मैने अपनी रफतार तेज की और कजिन की चुत मे ही अपनी पानी छोड़ दिया.

मैने कजिन की चुत को रुमाल सा साफ किया और लॅंड को भी मैने साफ किया कजिन को चड्डी (पेंटी) और स्कुलट पहनाई और अपने लॅंड को पेंट के एडर किया मेरे पेंट मे भी चुत का पानी लगा था.कजिन बाद पे से उठी और बोली चाचा बाथरूम जाना है मै उसे बाथरूम ले गया पेशाब कर रही थी मै चुत से निकाने वाले पशा को देख रहा था. कजिन बोली च्चा दर्द हो रहा,मै बोला मज़ा की नही वो धोड़ा सा मै बोला इशके मज़ा ही मज़ा रसटा साफ हो गया है, उसके बाद मैने भी उसके सामने पेशाब किया कजिन लॅंड को द्‍यान से देख रही थी. हम दोनो बाद पर आ गये मैने उसे उसी समी बाय्फ्रेंड दिखाया 15 मिनट के बाद मेरा लॅंड फिर से खड़ा हो गया मैने कजिन को फिर से चोदा और लॅंड को चुत मे रहने दिया,हम दोनो सो गई सुभह उठा तो 5:00 बाज रहा था अपने लॅंड को अंदर किया कजिन की चड्डी को अप्पर किया चला गया …………..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares