बस मे हिना से लंड चुस्वाया

ही, मेरा नामे साज़ है , ई आम 21 य्र ओल्ड , हॅंडसम और गोरा हू,स्लिम आंड वेट 56 क्ग. मेरे लंड का साइज़ बहुत नही बुत आवरेज से 6” इंच और 3” इंच मोटा है.

वेसए से तो मे सारीफ़ लड़का हू कभी भी किसी लड़की को गंदी नज़र से नही देखता था,कॉलेज मे भी लड़किया मुजको लाइन देती थी बुत मई इसको टाइम पास समजता था.

बात 11/3/2016 दिन की है जब इंजिनियरिंग ख़तम करके मे जॉब के लिए इंटरव्यू देने के लिए आमेडबॅड गया था, मेरा इन्टेविएव शाम को 6 बजे ख़तम हो गया था.

इंटेर्विव ख़तम करने के बाद मे घर वापिस जाने के लिए आमेडबॅड बस स्तन पाहौच गया,वाहा पर 1 घंटा वेट करने के बाद मूज़े बस मिली , वेसए मेरे बस का राउट उत्तर गुजरात की और है वेसए वाहा बस बहुत कम मिलती है और बस मे भी ट्रॅफिक ज़्यादा होता है.

उस दिन मे इंटरव्यू के बाद घर वापिस जाने के लिए बस मे चाड गया बुत बहुत भीड़ थी फिर भी धक्के मरके मे चाड गया, बहुत ही ट्रॅफिक था बस मे खड़े रहने के लिए भी मुश्किल हो रही थी.

आहिस्ता आहिस्ता मे खिसकते मे लास्ट खड़ा था, साथ मे वाहा पर कॉलेज करने वाली लड़किया भी उप-डाउन करती थी वो सब भी चाड गयी.

बस मई मेरे आयेज ही दो लड़किया खड़ी थी और पीछे एक बुजुर्ग औरत थी, और बाद मे बस चल पड़ी, और थोड़ी देर के बाद मेरे आगेवली लड़की के पैर मेरे पैर से टच होने लगे.

उस लड़की ने सिंपल सी टाइट सलवार और ड्रेस पहनी थी,टाइट सलवार के साइड मे से उसकी चड्डी की शेप दिख रही थी.

ये सब देखकर मे अपने आपको कंट्रोल कर रहा था, उस वक़्त मैने भी फॉर्मल पेंट-शर्ट पहना हुआ था. मई तोड़ा एक्शिकते था बुत कंट्रोल कर रहा था.

वो दोनो लड़किया बाते करने मे बिज़ी थी, 10 मिनितुए के बाद स्टॅंड आने पर 10-12 लोग और बस मे चड़े और मुश्किल से मेरे आयेज टाइट सलवार वाली लड़की अब मुजको पूरे बॉडी पर तोच हो रही थी,

साम के 7 बाज चुके थे और अंधेरा हो चुका था.

मैं भी मुश्किल से अड्जस्ट कर के खड़ा खड़ा, वो टाइट सलवार वाली लड़की बिल्कुल मुड़कर मेरे आयेज खड़ी थी ई थिंक वो 18 साल की लग रही थी ,और उसके पीछे खड़े होने की वजःसे उसकी मोटी आस मेरे आयेज तोच हो रही थी, क्या बतौ दोस्तो अब मेरे सारीफ़ होने का भूत उतार रहा था और मे भी एग्ज़ाइट होने लगा था.

और कहानिया   पति नहीं रहे लेकिन लुंड चाहिए

उसकी टाइट शेप सलवार की चड्डी की शेप पर मेरे हाथ की उंगलिया तोच हो रही थी , शायद उसका एहसास उस लड़की को भी हो रहा था पर क्या करते बस मे भीड़ ज़्यादा थी.

कुछ देर बाद वो लड़की अपनी आस को मेरे लंड के आयेज भी तोच करती थी, ये सब देखकर मूज़े इतना तो एहसास हो गया की ये भी अब एग्ज़ाइट हो रही है.

ये सब देखकर अब मेरा 6′ इंच का लंड टाइट हो गया,अब उसको भी एहसास हो गया था की मेरा लंड खड़ा हो चुका है..

अब मूज़े लगा की इसको तोड़ा ज्यदा एग्ज़ाइट करना छाईए और ई थिंक उसको भी अक्चा लग रहा,,थोड़ी देर के बाद उसकी आस पर चड्डी की शेप थी उसको मेने पकड़ली और तोड़ा मेरे पीछे मुड़कर मुस्कुराने लगी.

अब तो जबही रास्ते पर कोई बंप आता तो मेभी उसके पीछे से उसकी गंद कोने मे अपने टाइट लंड से जटके मरता और वो भी मुजसे ज़्यादा चिपकने लगती ,अब ज़्ीडा एग्ज़ाइट होने पर मैं उसको यूही ज़टके मरता था.

बस मे अंधेरा होने की वजह किसी को भी पता नही चलता था की हम क्या कर रहे हैं.

अब मुजसे रहा नही जा रहा था और वोह्भी गरम हो चुकी थी…अब मेने आहिस्ता से उसकी गंद की और हाथ की उंगली तोच कर रहा था.

धीरे धीरे मे उसकी ज़ाँघके उपारसे उसकी छूट को सहेला रहा था और वो बहुत मज़े से एंजाय कर रही रही थी ,
मुजसे भी कंट्रोल नही हो रहा था अब मैने डायरिंग काके उसको चिपक के उसकी चड्डी से पे हाथ डाल दिया और छूट को सहलाने लगा , करीब 5 मिनितुए के बाद उसकी छूट से चिप छिपसा पानी निकल रहा था.

अब मेने थोड़ी हिम्मत करके उसकी छूट मे बड़ी वाली उंगली डाल दी और पीछे से मेने उसकी गंद पर मेरे लंड का ज़टका दिया,,और उसकी एकद्ूम से सांस तेज हो गई..मेने पीछे से उसको धीमी आवाज़ से उसको पूछा …तुम कहा तक जा रही है.

उसने तोड़ा मुस्कुरकर कहा की अभी तो मेरा स्टॅंड 2 घंटे दूर है…तब पीछे से एक कपल खड़ा हुआ नीचे उतरने के लिए..और 2 सीट लेफ्ट सीडेवाली खाली गयी.. मेने उसको इशारा किया और हम दोनो वाहा पर बैठ गये.

बस मे हम दोनो को लोग कपल ही समाज रहे थे.

जैसे ही बूम दोनो सीट पे बेते मेने उसको कहा की मई वर्जिन हू और मेने कभी एंजाय नही किया और वो भी बोली की मे भी वर्जिन हू और जब भी मे एग्ज़ाइट हो जाती हू तो मे अपनी उंगली से सटसफी हो जाती हू और उसने अपना नामे हिना बताया.

और कहानिया   निशा भाभी के चुत पे मेरे लुंड का निशाना

थोड़ी देर बाते करने के बाद जब अगला स्टॅंड आया तो पीछे से 3 सीट पर लोग थे वो बस से उतार गये.

अब पीछे की सीट पर हम दोनो को कोई नही देह रहा था, तब मेने अपना बेल्ट निकल कर आधी पेन निकल मेने हिना का हाथ मेरे लंड पर रख दिया.

हिना; ये तो बाहौत गर्म और बड़ा हो चुका है

मे; नही जान ये तो तुम्हारे हाथ का जादू है

हिना;तुमने तो मेरा खड़े खड़े ही पानी निकल दिया…अब मे भी इसको सहला कर पानी नकालूंगी.

मे; जान एसए धीरे से सहलाने से पानी नही निकलेगा ….ज़रा और तेज़ सहलाओ..जान

हिना.; वेसए तुम्हारे लंड की पिंक टोपी आक्ची लग रही है ..क्यूट सी..

मे; तुम इस क्यूट सी टोपी का टेस्ट करना चाहोगी?

हिना; पहली बार एसए क्यूट लंड की टोपी नसीब हुई है …एसए केसे जाने डू..

मे; तो जान प्ल्ज़ अपने होतो से रागडो ना..

अब उसने धीरे से मेरे लंड की टोपी चूसना सुर्सू करदी ….

हिना; टेस्ट तोड़ा स्वीट है और गरम भी है.
मे; इसको पूरा मूह से गले तक लेजाओ…मज़ा आएगा..

अब वो मेरा पूरा लंड उसके गले तक लेजा रही थी और मई उसके हेर को सहला कर प्यार कर रहा…मई उसके मूह से अपना लंड अंदर बाहर कर रहा था…

और वो भी मज़े से लोलीपोप की तरह चूस रही थी.. 10 मिनिट के बाद

मे; मेरा स्पर्म निकालने वाला है..

हिना; नही मूह मे नही बाहर निकलती हू …गंदा टेस्ट होगा..

मे; नही इससे कुछ नही होता…प्ल्ज़ यार मज़ा खराब हो जाएगा..

हिना मान गयी …अब मे ज़ोर ज़ोर से उसके मूह को छूट की तरह छोड़ने लगा …वो मेरा पूरा लंड गले तक लेजा रही थी…3-4 मिनितुए के बाद मेरा बहुत ज़्यादा स्पर्म उसके मूह मे निकल गया..

हिना; ज़्यादा गंदा टेस्ट नही है..

मे; कैसा लगा? उसने मुस्कुरकर कहा

हिना; लस्सी जैसा…

अब मैने अपने लंड को हाथ रूमाल से सॉफ करके …बेल्ट पहनकर ..पेंट पहनली..

बहुत टाइम गुज़र चुका था और उसका स्टॅंड भी अब नज़दीक आ गया था…

मेने उससे उसका फोन नूं. लिया…

और वो मुजसे थॅंक्स कहकर स्टॅंड पर उतार गयी…

कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट सेक्षन मे ज़रूर लिखे, ताकि डेसिखहनि पर कहानियों का ये डोर आपके लिए यूँ ही चलता र्हे.

(ये मेरा रियल इन्सिडेंट केसा लगा दोस्तो?