बाय्फ्रेंड के दोस्त के साथ चुदाई

ही बहेनचोड़ो मेरा नाम जेनिशा है. आपने मेरी पिछली कहानी तो पड़ी होगी की कैसे मैने अपने ब्फ के सामने दूसरो लुंडो ले गंगबांग चुदाई करवाई. और कैसे हर रोज लंड लेती हूँ.

मैं एक बहुत बड़ी रंडी हूँ और मेरी सबसे बड़ा शौक ही चुदाई करना हैं और वो भी जबरदस्त. जब मुझे छुड़वाने का मॅन करता हैं तो मैं किसी से भी चुदवलेटी हूँ. मुझे बस लंड चाहिए और वो भी बड़े बड़े. और चुदाई एकदम गंदी होनी चाहिए पूरा गलियों वाला.

यह बहुत साल पहले की बात हैं जब मैं 19 साल की थी. अभी मैं 25 साल की हूँ. उस वक्त भी मैं एक रंडी ही थी. वो टाइम पे भी मेरी गांद गोल और बड़े थे बूब्स मीडियम और गोल थे और चहेरे पे सिर्फ़ चुदाई का भूक और हवस था.

तब मेरा एक ब्फ था. वो रूम रेंट मैं लेके रहता था. और मैं उसके रूम पे जाके अपनी भूक शांत करती थी. पर मुझे अपने ब्फ के साथ चुदाई मैं उतना मज़ा नही आता था जितना मुझे चाहिए था क्यूंकी वो बहेनचोड़ जल्दी ही झाड़ जाता था और एक बार से ज़्यादा छोड़ भी नही सकता था.

मुझे बहुत घुस्सा आता था लेकिन फिर भी मैने उसको नही छोड़ी क्यूँ वो एक पालतू कुत्ते की तरह था. मैं जो बोलती वोही करता था. मेरी पनटी भी धोता था. और चुदाई करते वक्त मेरी पेर भी छत्ता था और मैं उसका मूह पे मूत देती थी और बहुत गालिया देती थी.

एक बार मेरा ब्फ एक मंत के लिए बाहर चला गया था. मेरी कुछ समान उसके रूम पे ही छूट गयी थी और वो समान मुझे चाहिए थी. इसी लिए मैने उसको कॉल किया और रूम का कीस कहा हैं पुःची. तो उसने बोला मिलन के पास हैं. मिलन उसका जिगरी यार हैं.

मिलन का नाम सुनते ही मैं बहुत गरम होने लगी क्यूँ की मुझे मेरे ब्फ ने कहा था की उसका लंड बड़ा हैं. मुझसे अब रहा नही जेया रहा था मैं बहुत गरम हो चुकी थी इसलिए मैं मिलन को कॉल किया और मुझे मेरी समान लेना हैं इसलिए मुझे कीस चाहिए बोली. तो उसने कहा की वो रूम पे ही हैं और आके लेजाओ.

और कहानिया   मेरी माँ को मेरे चाचा ने घर में दौड़ा दौड़ा कर चोदा

मैं बहुत खुस हो गयी. पहले तो मुझे तोड़ा ऑक्वर्ड लगा पर फिर जो होगा घंटा होगा सोचके वाहा जाने के लिए रेडी हो गयी. अब शाम के 8 बजा था और आधेरा हो चुका था और गर्मी का मौसम था. तो मैने बस एक टॉप और बहुत छोटी सी शॉर्ट पहनी और चली गयी. राषते मैं सब मुझे गंदी नज़र से देखराहे थे और मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

कुछ देर बाद मैं रूम पहुच गयी तो देखा मिलन अकेला था और दारू पी रहा था. वो हमेशा दारू पिता था. मेरी कपड़े देखकर वो मुझे देखता ही रह गया. मैं कुछ नही सोच सकी क्यूँ की चुदाई की भूक बहुत चाड चुकी था इसलिए मैं सीधा जाके उसको किस करने लगी. तो वो बोला

मिलन :ये क्या कर रही हो तुम मेरे दोस्त की गफ़ हो. उसे पता चलेगा तो क्या होगा?

मैं: क्या हिजड़ा जैसे बात कर रहा हैं, मुझे छोड़. मुझे तेरा लंड चाहिए सला मदारचोड़ बहेनचोड़. तेरा दोस्त कोई काम का नही वो मेरी भूक कभी शांत नही कर पता. तो दिखा तेरा दूं और छोड़ मुझे या तू भी तेरा दोस्त जैसा है??!

इतना सुनते ही वो गुस्सा हो गया और थप्पड़ मारके मुझे घुटने पे ला दिया. मुझे यही तो चाहिए था और चुदाई वक्त लड़का मुझे डोमिमते करे तो बहुत अच्छा लगता है. मैने उसका पंत खोला. आहह उसका लंड सच मैं बहुत बड़ा था और पूरा खड़ा.

मैं टूट पड़ी. उसका बड़ा लंड चूसने मैं बहुत मज़ा आ रहा था. उसने बहुत देर मेरे मूह को छोड़ा और मेरी बूब्स के बीच मैं भी छोड़ा.
और कुछ देर बाद मेरी छूट और गांद चाटने लगा अया बहेनचोड़ बहुत मज़ा आ रहा था.

कुछ देर बाद उसने मुझे छोड़ना स्टार्ट किया. आ उसका बड़ा लंड एक झटके मैं ही पूरा अंदर घुसा दिया.

मैं:आ आ अयाया अयाया छोड़ एस एस एस छोड़ छोड़ मुझे मदारचोड़ छोड़ बहें छोड़ मेरी छूट का भोसड़ी बना दे मेरी गांद का बोसड़ी बना दे छोड़. तूह मेरा ब्फ से बहुत बेटर हैं. छोड़ और ज़ोर से और से हार्डर हार्डर. फक मे हार्ड.

और कहानिया   भाभी की वासना को पानी डाला

मिलन :आ रंडी साली कुट्टिया क्या रंडी हैं. साली जस्ति ले ले मैने तुझ जैसा रंडी नही देखा हैं साली कुट्टिया रंडी की औलाद साली.

मैं :हन कुत्ते मैं रंडी कुट्टिया गस्ति हूँ. तुझे मुझ जैसी रंडी कही नही मिलेगी. छोड़ छोड़ मुझे

उसने मुझे बहुत छोड़ा. एक दूं वाइल्ड तरीके से. मुझे हर पोज़िशन मैं छोड़ा. गांद मैं भी. और बहुत देर बाद वो झड़गाया और मैं उसका सारा माल पी गयी. कुछ देर बाद उसने फिर छोड़ा और माल मैं छूट के अंदर ही छोड़दिया.

ऐसे पूरा रात उसने मुझे छोड़ा. और 15 दिन तक मैं घर नही गयी और उसके साथ चुदाई करती रही.

यहा से कहानी आयेज बादेगी. सो स्टे ट्यूंड. अयाया फ़फफुऊऊऊउक्कककककक. मेरे पास्स एसए और भी बहुत कहानी हैं. मिलन से ही नही मैने मेरा ब्फ और भी बहुत दोस्तों के साथ चुदाई करवाई हैं. जैसे की काला आशीष, मुनराज, रखड़ रातोरे.

मैने अपने कज़िन नीरज के साथ भी चुदाई की हैं. कज़िन के दोस्त सन्राइज़ के साथी और मेरी दोस्त का ब्फ अनूप के साथ. मेरा ब्फ के सारे दोस्तों ने मुझे छोड़ा हैं और बहुत बार गंगबांग भी हुवा हैं.

लेकिन हासणे की बात क्या हैं की इतना साल हो गया मेरे बाय्फ्रेंड को अभी तक इश्स सबके बारे मे कुछ भी पता नही है. वो सोचता हैं की मैं सिर्फ़ उसके साथ ही चुदाई करती हूँ.

मेरा बाय्फ्रेंड के दोस्त लोग उसके शामने चुदाई बात करते हैं और बोलते है की इश्स रंडी को ऐसे छोड़ा, वैसे छोड़ा बोलते हैं जबकि वो लोग बात मेरी कर रहे होते है मेरे बाय्फ्रेंड के आयेज और आपस मे हास रहे होते है. क्यूकी उन्न लोगो को आपस मे पता होता की वो लोग मेरी बात कर रहे है. और मेरा बाय्फ्रेंड भी हस्ता हैं उनके साथ, पर उससे क्या पता की वाहा बात मेरी चुदाई की हो रही है और वो रंडी मैं हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.