बीवी की बुर के सात पति का गांड भी चुदाई

मैं एक बार लिफ्ट लेने के लिए खड़ा था, मैंने कई लोगों से लिफ्ट माँगी, पर मिली नहीं। तो मैं एक गाना गुनगुनाते हुए आगे बढ़ चला, तभी थोड़ी देर में एक स्कूटी से एक बेहद स्मार्ट लड़के ने मुझे लिफ्ट दी। मैं बैठ गया, दोनों में बातें होने लगीं।

उसने पूछा कहाँ जाना है, मैंने कहा कि मुझे किसी शराब की दुकान तक जाना है, उसने पूछा कि आप कौन सी ब्राँड पीते हैं? और फिर ब्राँड को लेकर हमारे बीच बातें होने लगीं। तभी मैंने देखा कि वो एक हाथ से स्कूटी चला रहा है, मैंने सोचा, कि उसका एक हाथ किधर है?

कुछ देर बाद मैंने महसूस किया कि उसका दूसरा हाथ मेरे लण्ड को पकड़ने की कोशिश कर रहा था, जब वो छू नहीं पाया तो वो बोला- ठंड लग रही है, थोड़ा और आगे हो जाओ। मैं उसके इरादे समझ चुका था, मैं उसके बेहद नज़दीक सटकर बैठ गया, तभी वो मेरे पैन्ट की चेन खोलने की कोशिश करने लगा, थोड़ी ही देर में वह कामयाब भी हो गया। उसने मेरा लण्ड पकड़ लिया और उत्तेजित करने वाली बातें करने लगा।

उसने पूछा- तुमने कभी किसी को चोदा है या नहीं।

मैंने उत्तर दिया- अभी तक तो नहीं किया।
‘क्या तुम चोदना चाहोगे?’
‘क्यों नहीं!’
‘मेरी गाण्ड मारना पसन्द करोगे?’ उसने प्रश्न किया।

‘आज तक तो नहीं मारी!’ मैंने उत्तर दिया।

‘कोई बात नहीं!’ कहकर उसने मेरा लौड़ा पकड़ लिया

मैंने कहा- यहाँ बहुत से लोग आ-जा रहे हैं, कहीं दूर चलते हैं!

तो उसने एक सुनसान इलाके में ले जाकर गाड़ी रोकी, मैंने कहा- मैं पेशाब करूँगा!
और मैं गाड़ी से उतरकर ज्यों ही पेशाब करने लगा, तब तक वो भी आ गया और मेरा लौड़ा देखकर वो बोला- कितना लम्बा है!
मैं आपको बताना भूल गया कि मेरा लण्ड 9 इन्च लंबा और 3 इन्च मोटा है।

और कहानिया   गेम ऑफ़ सेक्स की वह रात

तभी उसने पूछा- क्या तुम अकेले रहते हो?
मैंने उत्तर दिया- हाँ!
‘अगर तुम चाहो तो हम वहीं चलें?’ उसने योजना बताई।
‘अच्छा विचार है!’ मैंने भी हामी भर दी.

हम दोनों दारू लेकर कमरे में चले आए, और दारू पीने लगे। उसने दारू पीते-पीते ही मेरी पैन्ट की ज़िप खोल दी और लण्ड पकड़ लिया और दारू पीना छोड़कर मेरा लौड़ा चूसने लगा।
थोड़ी देर में मैं भी जोश में आ गया। मेरे मन की बात समझते हुए उसने अपनी पैन्ट उतार दी।
उसकी गाण्ड देखकर मेरा लण्ड उसकी गाण्ड में जाने के लिए बेक़रार हो गया।
मैं उसे किस करते हुए, उसकी गाण्ड में ऊँगली करने लगा। उसके बाद मैं उसकी गाण्ड मारने लगा। मैंने 20-25 मिनट तक उसकी गाण्ड मारी।

जब मैं उसकी गाण्ड मार रहा था तो वह बहुत आवाज़ें कर रहा था और आआहहहह सीसीसस्स्स्सी की आवाज़ें उसके मुँह से आ रहीं थीं। उस दिन बहुत मज़ा आया।
मैंने पूछा कि ‘चूत का इन्तज़ाम नहीं कर सकते हो?’ तो उसने कहा कि ‘इन्तज़ाम हो सकता है। मेरी बीवी है जो मुझसे खुश नहीं रहती है, मैं उसे खुश नहीं रख सकता हूँ। तुम दोनों का काम कर सकते हो। मेरी गाण्ड और बीवी की चूत चोदते रहना।’

उस दिन के बाद कई बार उसके घर गया, पहले उसे खुश करता था, तब वो मुझे उसकी बीवी के पास जाने देता था। मैंने उसकी बीवी को कई बार चोदा, उसका भी दिल खुश हो गया। तो बाद में वह भी बहुतों बार मेरे कमरे पर आई और मैंने उसकी जमकर ठुकाई की।

कुछ महीनों के बाद मैं भोपाल चला गया, वो दोनों भी कहीं चले गए, वैसे मैं कई बार पहले सेक्स कर चुका हूँ, पर गाण्ड मारने में मुझे बहुत मज़ा आता है।