फॅमिली सेक्स – बीवी और सगी बहन

लड़का ने मेरे और देखा और कहा – “कैसा लग रहा है अंकल… घर जा के आंटी को संभाल के छोड़ना… वो तो बुद्धि है.. कहीं उसकी जान ना चली जाए…” और वो दोनो लकड़ा लड़की हम पर हासने लागे.. मेने कुछ नही कहा.. सिर्फ़ मन में सोचा ” बाकचू तू बस देख ता जा ” आब रिक्ट करने की बारी थी लड़की की वो मेरे अटेन्षन से बहुत खुश हुई..

लड़की बोली – “डार्लिंग हमे अंकल को एक छोटा सा शो दिखना चायए.. कम से कम वो मूठ तो मार पाएँगे…आंटी तो बारफ़ जैसी ठंडी माल है…” इसपर लड़की ने ब्रा उत्तर दी.. उसके दोनो कसे हुए बूबे नंगे हो गये और लड़का उसे चूसने लगा…सीमी के लिए आब ये साहब बहुत हुआ था… वो पागल होगआई थी.. किसीने उसे सेक्स के मामले में चॅलेंज देकर उसकी सब से कंज़ूर नास पे हाथ रख दिया था… सीमी ने एक शेयर की पिक्चर प्रिंट वाला वाइट कलर का टशहिर्त पहना था और नीचे ब्लू डेनिम जीन्स थी..

आब सीमी का रिक्षन-

सीमी उठी.. उसने खड़े हो कर अपना टशहिर्त और ब्रा एकसाथ उतार दी और सीट पे रख दी… जैसे की आप सब जानते हैं.. सीमी की ब्रेस्ट बहुत बादे है.. और लाल कलर के निपल्स करीब एक इंच जीतने लंबे हैं… सीमी के बूब्स देखकर उस लड़के के मूह से अपनी वाइफ का बूबा एक पल में चूत गया.. उसकी वाइफ का बूबा सीमी के मुक़ाबले शयाद आधा ही था… उसके बूब्स के दर्शन कर वो लड़का पागल हो गयेा… उसकी वाइफ को लगा मेरा पाती अभी इसी वक़्त मुझे डाइवोर्स ना देदे….

फिर उसकी वाइफ ने कहा – ” आंटी बादे बूब्स से कुछ नही होता.. हिम्मत चायए .. देखो में अपने हज़्बंद को इस सिनिमा में सब के बीच बैठ कर के उसका लंड चूसोंगी… क्या तुम ऐसा कुछ सोच भी सकती हो…” यह कह कर वो अपने घुतनो पर बैठ गयी… और लकड़े की जीन्स खोलने लगी… सीमी काहदी हुई… और सीमी ने कहा — ” साली रांड़ मुझे चॅलेंज देती है…आब में क्या कराती हुआन तो सिर्फ़ देख फिर कुछ बोलना … ओक” वो लड़की एक सेकेंड के लिए रुक गयी… सीमी ने ऑलरीडी टशहिर्त और ब्रा तो निकल ही दिए थे… उस चलते हुए सिनिमा मैं.. आब सीमी ने अपना पेंट उतरा..और उसके बाद सीमी ने अपनी पेंटी भी उतार दी.. और सीट पे कपड़े फेक दिया… आब सीमी बिल्कुल नंगी थी… एक भी कपड़ा उसपर नही था… लड़की का हज़्बंद तो मानो सीमी का देववाणा हो गया था… उसकी वाइफ का हाथ लंड पर था.. उसकी वाइफ आधी नंगी थी.. उसकी वाइफ के बूब्स खुले हुए थे.. पार वो लड़का सिर्फ़ सीमी को देख रहा था.. कभी उसके बूब्स को.. तो कभी सीमी की सुडोल और वाले शेप्ड नंगे बदन को.. वो चूत की और बार बार देख रहा था.. पर अंधेरे में कुछ ठीक से दिखाई नही दिया..

और कहानिया   शबनम की आग बहुजन मुश्किल ही नहीं नामुनकिन है

फिर सीमी ने कहा – ” ईय लड़की … तुम कुछ हिम्मत की बात कर रही थी… आब जो में करूँगी उससे करने की हिम्मत तो क्या.. तुम उसे सोच भी नही सकती…” सीमी मेरी और झुकी.. मेरे लंड को पेंट मेंसे बाहर निकाला… अपनी जीभ से चातने लगी… एक मिनिट के अंदर मेरे लंड फंफंने लगा…&नबस्प;&नबस्प; फिर सीमी डॉगी स्टाइल में बैठ गयी.. उसका मूह बिल्कुल उस लड़के सामने था.. और पीछे की साइड से मेने उसे छोड़ना स्टार्ट काइया… क्या आप विश्वास कर सकते है…. लाइव सिनिमा में बूब्स दबाना, बूब्स चूसना, वाइफ के हाथ से मूठ मारना, वाइफ का लंड मूह में ले कर चूसना… यह साहब तो सुना था… पर वाइफ को पूरी तरह से नंगी करना.. और डॉगी स्टलये में छोड़ना… यह सिर्फ़ सीमी ही करसकती थी… लड़के की वाइफ ने सीमी के बादे बादे बूब्स को गौर से देखा… और फिर अपने आधी साइज़ के बूब्स माने उसे अनार के दाने जैसे लग्रा थे… उसका हुस्नंद तो सिर्फ़ सीमी को ही देख रहा था..हिम्मत के मामले में भी..लड़के की वाइफ ने सीमी के सामने अपनी हार मन ली… वो मुस्किल से टशहिर्त उतार पाई थी.. और सीमी की हिम्मत पूरी नंगी हो कर चूड़ने रही थी… आब वो लड़का सिर्फ़ सीमी के माँो को घूर रहा था…इसपर उसकी वाइफ ने गुस्सा होकर उसके लंड पे से हाथ निकल दिया.. और अपना टशहिर्त भी वापस पहन लिया.. वो सिनिमा देखने की सिर्फ़ आक्टिंग कर रही थी…

पर असलियत में उसका पूरा ध्यान सीमी पार्ता..लड़का ने सोचा आब मेरे खुले लंड का क्या होगा.. उसने सीमी से इशारे में सीमी की पेंटी और ब्रा देनो को कहा… सीमी ने चुदाई जारी रखते हुए अपनी ब्रा और पेंटी उस लड़के तो दिया… लड़के की वाइफ तो जाल कर संजो खाक बन गयी थी… मेने अपनी बढ़ता बड़ाई.. में जनता हूँ सीमी को तेज़ी से छोड़ने पर वो ज़ोर ज़ोर से मूह से अव्वाज निकलती है.. सीमी ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी – आ… उऊहह… आअहह… मुझे और छोड़ो…. एस… एस… एसस्स्स्सस्स ! इतना कह कर सिमिरन ने कम कर दिया… उसकी चूत मेंसे बहुत सारा पानी निकला ( ऐसे तब होता है लड़की कम कराती है)… . और एक हारी हुई औरात की तरह वा लड़के की वाइफ वहाँ से उठ कर चली गयी.. लेकिन सीमी आब तक शांत नही हुई थी.. सेकेंड रौंद अभी ताक बाकी था..उसने मुझे सीट पर बिठाया.. मेरे लंड को पूरा मूह मे लेकर कुछ मिनट तक छाता..फिर तकरेबान 2-3 मीं में मेरे लंड फिरसे कह दिया हो गया.. आब सीमी से उस लड़के ने कहा – तुम तो गाज़ाब की औरात हो… क्या में तुम्हे छू सकता हूँ.. सीमी के कहा – ठीक है.. तुम सिर्फ़ और सिर्फ़ मेरे पैर चूम सकते हो.. लड़के ने कहा – तुम्हारे पैर को अगर चूमने मिले तो शयाद में दूसरी बार कम कर ज़ाओंगा.. सीमी अपनी खूबसोर्ठी की तारीफ़ सुन कर खुश होते हुए… सीमी ने अपना मूह मेरी और रखा.. और अपनी चूत को अड्जस्ट करके मेरे लंड पर उपर नीचे चूड़ने लगी… उसने अपने मम्मे को मेरे मूह मे डाल दिया.. और मेने भी उनको खूब चूसा.. कुच्देर बाद वो लड़का फिर बोला..

और कहानिया   आई लव यू पापा

Pages: 1 2 3 4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *