भाई ने मारी चूत

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी लोग आशा करता हूँ की आप सभी लोग अच्छे ही होंगे।  आज की कहानी मेरे और मेर भाई के ऊपर हैं।  जानिए सोते हुए भाई ने मारी चूत कैसे मारी।  इस कहानी को केवल मनोरंजन के लिए पढ़े।

तो चलिए कहानी शुरू करते हैं।

मेरा नाम पिंकी हैं।  मेरे परिवार में हम कुल 4 जाने रहते हैं।  जिसमे मेरा भाई पापा और माँ रहते हैं।  हमारे घर में 2 कमरे हैं और छत हैं।

मेरी माँ और पापा दोनों साथ ही सोते हैं और मेरा भाई छत पर ही सोता हैं।  पर कुछ दिन पहले भाई की तबियत खराब हो रही थी तो पापा ने भाई को छत पे सोने के लिए मन किया था।

पर भाई नहीं मान रहा था वो जिद करके छत पर ही सो जाता था। रोज की तरह  भाई छत पर सोने के लिए गया पर उस दिन रात में बारिश होने लगी।

तो भाई अद्धी रात में निचे मेरे कमरे में सोने आ गया।  मैं आधी नींद में थी पर भाई के आने के बाद मेरी आँखे खुल गई।  मैंने हलके से अपनी आँखे खोली तो मैंने देखा भाई मुझे देख रहा है।

मैंने भाई को जताया नहीं की मैं उठ चुकी हूँ।  वो थोड़ी पास आया और देखने लगा मैं थोड़ा डर  गई थी।  फिर वो आराम से लेट गया पर इस बार वो मेरे काफी करीब लेट हुआ था।

उसने अपना हाथ मेरे पेट के ऊपर रख दिया।  मैं उठी और मैंने भाई को बोला ये क्या कर रहे हो तुम भाई।  तो भाई ने बोला की नींद में रख दिया होगा बहन मैंने।  फिर मैंने  भाई को बोला ठीक हैं।

पर करीब आधे घंटे बाद उसने फिर से मेरे ऊपर अपना हाथ रखा पर मैंने सोचा की क्या पता सोये हुए में रखा होगा पर इस बार मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे कोई मेरे पीछे से चीज महसूस रहा हो।

और कहानिया   जिस रात की कोई सुबह नहीं था

फिर भाई धीरे धीरे अपने हाथ  मेरे पेट के ऊपर से मेरे चुचो की तरफ बढ़ने लगा।  फिर हाथ फेरते फेरते मेरी चूत की और बढ़ने लगा जैसे ही उसने मेरी चूत के अंदर अपनीं ऊँगली डाली तो मेरी सुरसुरी छूट गई।

मैं सोने का नाटक  कर रही थी मेरी चूत गिल्ली हो गई थी।  और मैं गर्म भी हो गई थी।  भाई ने धीरे धीरे मेरी पजामी उतरनी सूरी की और में भी भाई का पूरा साथ दे रही थी मेने भी अपनी गांड हलकी सी ऊपर उठा दी थी ताकि भाई आसानी से पजामी उतार ले।

और उसे शक भी न हो की मुझे महसूस हो गया हैं। उसने मेरी पजामी तो निचे कर दी थी पर अब  वो मेरी पैंटी को निचे करके मेरी चूत को चाटने लगा।  उसकी गरम जीभ मुझे मेरी चूत पर महसूस हो रही थी।

वो बोला सॉरी बहन तुम इतनी हॉट हो की मेरसे रहा नहीं गया। अब मैं खुद को कंट्रोल नहीं कर पा रही थी।  भाई ने अब मेरी चूत के अंदर अपनी जीभ दे दी और मेरी आह निकल गई।

मैं उठी और चौंक कर भाई को बोली  ये क्या कर रहे हो तुम। मैंने नाटक करते हुए कहा मैं ये सब माँ पापा को बता दूंगी।   भाई बुरी तरह से डर गया और मेरे सामने गिड़गिड़ाने लगा प्लीज़ज़ बहन माँ पापा को कुछ मत बताना मैंने भाई को कहा ठीक हैं पर तुम मेरा एक काम करोगे।  तो भाई ने झट से हाँ  कर दी।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published.