उदास मर्द को कुश किया भाभी ने

मेरी शादीशुदा जिंदगी अच्छे से चल रही थी मैं अपनी शादीशुदा जिंदगी से बहुत ही ज्यादा खुश था लेकिन मेरी जिंदगी में उस वक्त बदलाव आया जब मैंने अपनी कंपनी से रिजाइन दे दिया। कंपनी से रिजाइन देने के बाद मेरे परिवार पर आर्थिक रूप से दबाव बनने लगा और मैं काफी ज्यादा परेशान रहने लगा था। मेरे पास अब पैसे भी खत्म होने लगे थे मेरे पास जितने भी जमा पैसे थे वह सब खत्म हो चुके थे और मैं बहुत परेशान होने लगा था लेकिन उस वक्त मेरे दोस्त सुरेश ने मेरी बहुत मदद की। मैं उसके एहसान को कभी जिंदगी भर भूल नहीं सकता यदि वह मेरी मदद नहीं करता तो शायद कभी भी मैं दोबारा से अपनी जिंदगी को अच्छे से जी नहीं पाता। मेरी नौकरी छोड़ने की वजह से मेरे परिवार पर कई समस्याएं आन पड़ी थी मैंने अपनी नौकरी छोड़ने के बाद अपना बिजनेस शुरू किया लेकिन मेरा बिजनेस ज्यादा समय तक चल ही नहीं पाया और मुझे बहुत बड़ा नुकसान झेलना पड़ा। मेरे नुकसान की वजह से मेरे परिवार पर आर्थिक रूप से बोझ बढ़ गया था जिससे कि मैं बहुत ज्यादा परेशान हो गया था लेकिन धीरे धीरे सब कुछ ठीक होने लगा और मेरे परिवार में अब सब कुछ ठीक था।

मैं अपनी शादीशुदा जिंदगी को अच्छे से जी पा रहा था। एक दिन कविता मुझे कहती है कि राजेश हम लोगों को आज मौसी के घर जाना है मैंने कविता से कहा मुझे तो याद ही नहीं था मैं उसी वक्त अपने काम से घर लौटा था। मैंने सुरेश की मदद से अपना एक नया काम शुरू कर लिया था जो कि अच्छा चलने लगा था। मैंने कविता को कहा बस मैं अभी तैयार हो जाता हूं मुझे बिल्कुल भी याद नहीं रहा कि आज हम लोगों को मौसी के घर जाना है। कविता कहने लगी कोई बात नहीं आप जल्दी से तैयार हो जाइए। मैं जल्दी से तैयार हो गया और जब मैं तैयार हुआ तो उसके बाद मैं और कविता हम दोनों मौसी के घर चले गए हमारे साथ बच्चे भी थे। हम लोग जब मौसी के घर गए तो मौसी कहने लगी राजेश बेटा तुम बहुत देर से आ रहे हो तो मैंने उन्हें कहा कि हां मौसी मुझे आने में देर हो गई क्योंकि मैं अपने काम से देर से घर लौटा था।

और कहानिया   कुंवारी भाभी से मेरा पहली चुदाई

मैंने मौसी को कहा मौसी आज अंकिता कहीं नजर नहीं आ रही तो मौसी कहने लगी कि वह अपने दोस्तों के साथ आज घूमने के लिए गई है वह देर रात से घर लौटेगी। मैंने मौसी को कहा कि मौसी अब आप अंकिता पर ध्यान दीजिए वह बड़ी होने लगी है मौसी कहने लगी कि राजेश बेटा मैं तो उसे कितना समझा चुकी हूं लेकिन एक वह है कि कुछ समझने को तैयार ही नहीं है। मेरे पापा मम्मी के देहांत के बाद मौसी ने हीं मेरी देखभाल की थी और यदि वह मेरी देखभाल नहीं करती तो शायद मेरी जिंदगी में कुछ भी ठीक नहीं होता। हम लोगों उस दिन मौसी के घर पर ही रुकने वाले थे और हम लोग देर रात तक उठे हुए थे लेकिन अंकिता अभी तक नहीं आई थी। मौसा जी का ट्रांसफर तो कोलकाता हो चुका था इसलिए वह बच्चों पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे पा रहे थे अंकिता उनकी इकलौती लड़की है और वह अंकिता का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रख पा रहे थे। मौसी के ऊपर भी ना जाने कितने ही प्रकार के दबाव थे क्योंकि घर की जिम्मेदारी उनके ऊपर ही थी। जब उस रात अंकिता घर पहुंची तो वह मुझे कहने लगी कि राजेश भैया आप कब आए। मैंने उसे बताया कि हम लोगों को आए हुए तो काफी समय हो गया है लेकिन तुम घर पर नहीं थी तो वह कहने लगी कि मैं अपने दोस्तों के साथ आज घूमने के लिए चली गई थी इसलिए मुझे आने में देर हो गई। उसके बाद अंकिता ने खाना खाया और वह सोने के लिए चली गई। अंकिता मुझसे उम्र में छोटी है अगले दिन हम लोग अपने घर लौट आए थे जब हम लोग अपने घर लौटे तो कविता मुझे कहने लगी कि राजेश आज आप घर पर ही रुक जाइए। मैंने कविता को कहा नहीं आज मैं घर पर नहीं रुक पाऊंगा क्योंकि मुझे जरूरी काम है तो कविता कहने लगी कि फिर भी राजेश आप देख लीजिए यदि आप घर पर रुक पाए तो मेरे लिए बहुत ही अच्छा होगा। मैंने उसे कहा ठीक है मैं कोशिश करता हूं कि मैं आज घर पर ही रुक जाऊं लेकिन मैं घर पर रुक नहीं पाया था मुझे कुछ जरूरी काम था इसलिए मुझे उस दिन जाना पड़ा।

और कहानिया   फूफी फरहीन के साथ कमुक्त भाग 2

मैं अपने काम से घर जल्दी लौट आया था जब मैं घर लौटा तो कविता मेरा इंतजार कर रही थी मैंने कविता को कहा कि क्या तुम मेरा इंतजार कर रही थी तो वह कहने लगी हां राजेश। मैंने उससे कहा कि चलो आज हम लोग कहीं बाहर चलते हैं हम लोग अपने घर के पास ही एक मॉल में चले गए। हमारे घर के पास ही एक मॉल है हम लोग जब वहां पर पहुंचे तो मैं और कविता एक दूसरे से बात कर रहे थे मुझे कविता से बात करना बहुत ही अच्छा लग रहा था। काफी समय बाद हम दोनों साथ में थे मैंने कविता को कहा कितना समय हो गया हैं हम लोगों ने साथ में समय भी नहीं बिताया था। हमारे साथ बच्चे भी थे मैंने बच्चों के लिए आइसक्रीम ली और फिर बच्चे आइसक्रीम खाने लगे मैं और कविता एक दूसरे से अपने कुछ पुराने दिनों की बातों को ताजा कर रहे थे। मुझे कविता से बात कर के बहुत ही अच्छा लग रहा था थोड़ी देर बात करने के बाद हम लोग अपने घर लौट आए थे।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares