बहनो की सात में सील खोली

आंटी ने फोन रख दिया और दीदी को बोला – शाम को फिर से चुदने को तैयार हो जाओ… मैं शाम को यहाँ नहीं रह सकती… उनके दफ्तर के कुछ दोस्त आ रहे हैं, तुम्हें चोदने… कोई प्राब्लम तो नहीं है…

दीदी ने बोला – इसमें प्राब्लम जैसी कोई बात ही नहीं है… आप जाओ और ईशा को भी अपने साथ लेते जाना नहीं तो पता चला की वो लोग, मेरे साथ साथ इसकी भी बजा देंगे… अभी छोटी है, बेचारी…

आंटी ने मेरी तरफ देखते हुए कहा – ओह हाँ… बिल्कुल… मैं तो ईशा के बारे में भूल ही गई थी…

ये बोल कर, आंटी ने मुझे अपने सीने से लगा लिया.

उसके बाद, हम सब एक मूवी देखने लगे और शाम का वेट करने लगे.

6.30 पी एम पर रुपाली आंटी, मुझे अपने घर लेकर चली आई और दीदी ने हम लोगों के जाने के बाद, पीछे से बंद कर लिया.

मैं रुपाली आंटी के यहाँ पहुँची तो दीदी को लेकर थोड़ा वरीड थी.

आंटी ने पूछा – क्या हुआ, ईशा… ??

मैंने बोला – कहीं वो लोग, दीदी को मार तो नहीं देंगे ना… ??

आंटी ने बोला – ऐसा कुछ नहीं होगा, देखना… तुम्हारी दीदी आज की रात काफ़ी एंजाय करेगी…

मैं संतुष्ट नहीं हो सकी की आंटी की बात पर यकीन करूँ की नहीं, पर मैं उस टाइम कर भी क्या सकती थी और मुझे भी ये सब ठीक नहीं लग रहा था.

वेट करते करते 8:30 हो गये और मुझे लगा की आज की रात का तो दीदी का प्रोग्राम कैंसिल हो जाएगा पर ऐसा हुआ नहीं.

ठीक 8:30 बजे पर, हमारे घर पर एक टाटा सफ़ारी आई और उसमें से राजन अंकल के साथ उनके 3 दोस्त भी उतरे.

सफ़ारी लॉक करने के बाद, राजन अंकल उन तीनों को लेकर मेरे घर के डोर पर पहुँचे और डोर नॉक किया.

और कहानिया   कॉलेज टूर के दौरान लेस्बियन सेक्स सुनीता के सात

दीदी ने डोर ओपन किया.

(कॉलोनी के सभी लोग ये देख रहे थे और यहीं से हमारी बदनामी की शुरूवात हुई थी.)

राजन और रुपाली ने हमारे परिवार को पूरा बदनाम कर दिया, कुछ ही दिनों में.

खास तौर पर दीदी को.

राजन अंकल ने अपने तीनों दोस्तों से दीदी को 5 मिनट में ही इंट्रोड्यूस करवा दिया और यहाँ अपने घर, अपनी वाइफ रुपाली के पास चले आए.

उस दिन कॉलोनी वाले अपने अपने छत से, ये सब तमाशा देख रहे थे.

अब अंदर दीदी थी और वो 3 अजनबी, अंकल के दोस्त.

किसी के लिए भी ये तो सॉफ समझ वाली बात थी की वो तीनों अजनबी, रात भर दीदी को राखी तो नहीं बांधेंगे ना !!!

वैसे, मम्मी कॉलोनी में किसी से ज़्यादा रिलेशन्स नहीं रखती थी की कोई मम्मी को उस टाइम फोन करके बता भी सके.

मैं रात भर, दीदी के बारे में सोचती रही.

क्या हो रहा होगा.. ??

दीदी को कुछ प्राब्लम तो नहीं होगी ना.

वो लोग, कहीं दीदी को जान से तो नहीं मार देंगे.

वगेरह वगेरह.

मैं अलग रूम में थी और राजन और रुपाली, अलग रूम में.

मैं उस रात, दीदी की चिंता में सो भी ना सकी.

करीब 4 बजने पर, किसी ने अंकल के डोर पर नॉक किया.

राजन अंकल ने डोर ओपन किया.

उस आदमी ने कहा की वो अब जा रहे हैं… साली, एकदम छीनाल है… कितना भी पैसा ले लो पर एक हफ्ते के लिए भेज दो… लाइफ बना देंगें, तुम्हारी…

अंकल ने बोला – वो सब, बाद में देखेंगे…

उन लोगों के जाने के बाद, अंकल ने रुपाली आंटी को उठाया और बोला – जाओ, कामिनी को देख लो… मर गई या जिंदा है छीनाल… वो सब लोग, अब चले गये हैं…

आंटी ने कुल्ला किया और जाने लगी तो मैं बाहर आ कर उनसे लिपट गई.

और कहानिया   जावान लॅड्कीयो की लेज़्बीयन सेक्स कहानी

मैंने बोला – आंटी, मुझे भी साथ ले चलो…

आंटी ने बोला – ठीक है…

आंटी मुझे लेकर, मेरे ही घर पहुँची.

मैं जब पहुँची तो फ्रंट डोर ओपन ही था.

अंदर गये तो, अंदर का नज़ारा देख कर मैं तो शॉक्ड ही रह गई.

अंदर दीदी, बे-सुध की हालत में थीं.

साँसें चल रही थीं पर उन्हें किसी चीज़ का ‘होश’नहीं था.

पीठ के बल, लेटी हुई थी.

दोनों टाँगें, उल्टी तरफ में फैली हुई थी.

चूत सूज कर, लाल हो गई थी.

गाण्ड और चूत दोनों में से, खून रिस रहा था.

बेडशीट पर दीदी का खून लगा हुआ था.

दीदी के बाल, बिखरे हुए थे.

चेहरा सूजा हुआ था.

ऐसा लग रहा था की रात में काफ़ी थपाड़े खाये हैं.

जब मैंने पास जाकर देखा तो दीदी की जाँघ पर, लेदर बेल्ट्स से मार खाने के निशान भी थे.

उनके बदन से बाथरूम (सू सू) की बहुत तेज़ बदबू आ रही थी.

मुँह का एक किनारा, थोड़ा सा फट गया था.

(शायद किसी का लण्ड काफ़ी मोटा रहा होगा.)

मैं दीदी की हालत देखकर रोने लगी तो आंटी मेरे पास आकर मुझे चुप कराने लगी.

तभी दीदी को थोड़ा होश आया.

उसने मेरे को अपने चेहरे के पास बुलाया और बोला – मत रो, मेरी ईशा… सच में मुझे काफ़ी मज़ा आया… तू चिंता मत कर, आज की रात मेरी लाइफ की बेस्ट नाइट थी… मत रो, मेरी बहना…

मैं शॉक्ड रह गई की ये क्या है.

मुझे विश्वास ही नहीं हुआ की मेरे कान क्या सुन रहे हैं और मैं सोचने लगी – क्या सेक्स ने दीदी का दिमाग़ खराब दिया है… या मुझे सिर्फ़ समझाने के लिए, वो ऐसा बोल रही हैं…

Pages: 1 2 3 4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares