बेडरूम में अंजान लड़का ता लेकिन मुझे सिर्फ़ चुदाई से मतलब

अब हम दोनों नंगे एक दूसरे की बाँहों में पड़े हुए थे. मैं हाथ से अभी भी उसका लंड सहला रही थी.
थोड़ी देर बाद वो बोला- चलो अब असली गेम खेलते हैं.
मैंने कहा- चलो, रोका किसने है?

अब हम 69 की अवस्था में आ गए थे. मेरे मुख में उसका लंड था और वो मेरी चूत चाट रहा था. थोड़ी देर ऐसा करने के बाद उसका लंड खड़ा हो गया और मेरी चूत में खुजली होनी शुरू हो गयी. तो मैंने उसको बोला- अब करो!
वो सीधा हो गया और मेरे ऊपर आकर मुझे किस करने लगा.

और फिर मैंने उसका लंड पकड़कर मेरी चूत में लगाया तो उसने एक झटके में पूरा लंड अंदर डाल दिया. जिससे मेरी ‘आआह्ह्ह ह्ह्ह्ह’ चीख निकल गयी क्यूंकि मैं बहुत दिनों बाद चूत चुदवा रही थी.

तभी मुझे होश आया तो मैंने तुरंत उसका लंड मेरी चूत से बाहर निकाल दिया.
तो वो बोला- जानू क्या हुआ?
मैंने उसको बोला- पहले कंडोम पहनो, फिर करना!
तो उसने बोला- एक बार बिना कंडोम के करते हैं ना … मैं पक्का पानी बाहर निकालूंगा.

मैंने मना कर दिया और अंत में हारकर उसे मेरी बात माननी पड़ी. उसने कंडोम पहन लिया और फिर से मेरी चूत में लंड डाल दिया. अब वो जोर जोर से मेरी चूत में झटके दिए जा रहा था.

मुझे भी मज़ा आ रहा था, मैं भी मस्ती में आआह्ह्ह ह्ह्ह्ह जानू ज़ोर से चोद मुझे आआह्ह्ह ह्ह्ह्ह करने लगी.
वो भी ‘मेरी जान … आज तेरी चूत फाड़ दूंगा साली … आआह्ह मेरी जान … मुझे अपना बना ले मेरी जान!’ और पता नहीं क्या क्या बके जा रहा था.

फिर थोड़ी देर बाद उसने मुझे घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी चूत मारने लगा. वो बीच बीच में मेरे चूतड़ों पर थप्पड़ भी मार रहा था जिससे मुझे मज़ा आ रहा था.

10 मिनट तक चुदाई के बाद वो बोला- चलो अब तुम्हारी गांड की बारी है.
मैंने उसे इतरा कर बोला- पहली मुलाक़ात में इतना सब कुछ नहीं मिलेगा.
वो विनती करने लगा तो मैं पिघल गयी और घोड़ी बने बने हाथ पीछे ले जाकर अपने चूतड़ फैला दिये और उसे मेरी गांड मारने का न्यौता दे दिया.

और कहानिया   अंकल के मोठे लुंड से चुद गयी

इससे वो खुश हो गया और मेरी गांड के छेद पर पप्पी कर दी. फिर उसने मेरी गांड के छेद में थूक लगाकर गीला कर दिया और अपने लंड को मेरी गांड में डालने लगा. लंड थोड़ी मुश्किल के बाद गांड में घुस चुका था जिससे मुझे अब तकलीफ होने लगी थी.

मेरी तकलीफ वो पहचान गया इसलिए वो रुक गया लेकिन लंड गांड में से नहीं निकाला.
फिर दो मिनट तक मुझे किस करने और मेरे बूब्स दबाने के बाद जब उसे उसे अहसास हुआ कि मेरा दर्द अब थोड़ा कम है तो उसने लंड अंदर धकेलना शुरू कर दिया.

थोड़ी देर बाद ही वो जोर जोर से झटके मेरी गांड में देने लगा. फिर अचानक उसने कंडोम निकाल दिया और मेरी गांड मारनी चालू रखी जिसका मुझे पता ही नहीं चला.
यह बात उसने बाद में बतायी थी जिसके बाद मैं उस पर गुस्सा भी हुई थी मगर उसने मुझे मना लिया.

कुछ देर बाद मैंने उसे सामने से चूत मारने को कहा. उसने नया कंडोम चढ़ाया और मेरे ऊपर आकर मेरी गीली चूत में अपना लंड घुसा दिया.
लगभग 10 मिनट की घमासान चुदाई के बाद वो कंडोम पहने पहने ही मेरी चूत में झड़ गया.

इस बीच में मैं एक बार झड़ी थी. फिर वो ऐसे ही मेरे ऊपर आकर लेट गया. उस रात हमने चार बजे तक तीन बार चुदाई करके अपना नया साल मनाया।

अगली सुबह वो उठा तो उसने उठते ही मेरी गांड पर किस किया और मेरी गांड को फैला कर लंड मेरी गांड में डाल दिया और चुदाई शुरू कर दी. गांड में लंड जाते ही मेरी आंख भी खुल गयी.
फिर मैं भी उसका साथ देने लगी. फिर हम दोनों साथ में नहाये तो वहाँ भी चुदाई का एक दौर चला.

फिर सारा दिन हम दोनों साथ में घूमे. वो मुझे एक पार्क में लेकर गया, वहां उसने मुझे प्रोपोज़ किया जिसे मैंने स्वीकार कर लिया क्यूंकि मुझे वो लड़का बहुत शरीफ लगा था.
उसके बाद हम घर आ गए. पूरी रात चुदाई का दौर चला.

और कहानिया   आश्रम में गुरूजी के सात कामवासना

मैं अभी भी उसके साथ रिलेशनशिप में हूँ और हमने मेरे घर का कोई हिस्सा नहीं छोड़ा है जहाँ हमने चुदाई न की हो।
हमने उसकी कार में भी चुदाई की थी. और एक बार हम लोग एक मॉल में घूम रहे थे. वहां नील की पुरानी गर्लफ्रेंड दिखी तो नील ने मुझे भी दिखाया- इस साली ने धोखा दिया था.

तो मैंने भी मज़े लेने की सोची और नील को पकड़कर उसके पास ले गयी.
नील जाना नहीं चाहता था मगर मैं उसे जबरदस्ती ले गयी. वहां जाकर वो लड़की नील को पहचान गयी.
वो लड़की अपने बॉयफ्रेंड के साथ थी तो मैंने उस लड़की से हाथ मिलाया और अपना परिचय देते हुए बोली- मैं नील की गर्लफ्रेंड हूँ.
और बोली- मुझे तुम्हे थैंक यू बोलना था कि तुमने नील को छोड़ दिया और नील जैसा लड़का मुझे मिल गया जो मुझे इतना प्यार करता है, मेरी इतने केयर करता है.

फिर मैंने उन लोगों के सामने ही नील को किस किया जिससे उस लड़की की झांटें सुलग गयी और वो दोनों वहां से चले गये.
हम दोनों भी हंसने लगे.

नील बोला- यार, तुम्हें भी बिना वजह गांड पंगे लेने की आदत है.
इस बात मैं ज़ोर से हंस दी और फिर हम अपने घर आ गए।

दोस्तो, आप लड़का हो या लड़की … सभी से विनती है कि किसी की फीलिंग्स के साथ कभी मत खेलना. बाकी आप सब समझदार हैं ही!
धन्यवाद।

Pages: 1 2 3

Comments 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *