अनजान आंटी की चुत धुलाई

हैलो दोस्तो कैसे हो आप मुझे भूले तो नहीं न फिर से आप के सामने एक नई दास्तान लेकर हाजिर हूं। दोस्तो ये कहानी ज्यादा पुरानी तो नहीं है मगर नई भी नहीं है। दोस्तो मैने नए साल पर एक संकल्प लिया कि रोज सुबह मॉर्निंग वॉक करने पास ही पार्क में जाने लगा ऐसे ही कुछ दिन बाद 37 साल की एक आंटी को पार्क में टहलते हुए देखा उसका फिगर 34-36-36 का था और थोड़ी मोटी थी। मगर उसके बूब्स और गांड अपने सही आकार में थे।

वह आंटी का गोरा रंग और सेक्सी थी मैने रोज उसके आने जाने का टाइम नोट किया और जब वो आती तो में भी उसी टाइम पार्क में आने लगा और उसका पीछा करता एक दिन जॉगिंग करते हुए उसे पानी की प्यास लगी में हमेशा जॉगिंग करते समय अपने पास पानी कि बाटल रखता हूं उसे पानी देने के बहाने मैने उससे बातचीत शुरू की और उससे पूछा वह कहा रहती है। पहले तो कभी आप को देखा नहीं यहां उसने कहा वह पास ही कालोनी में रहती है। अभी ही जॉगिंग शुरू किया है फिर वो मुझे थैंक्स बोलकर चली गई हम जब भी पार्क में आते थोड़ी देर एक दूसरे से बात करते थोड़े ही दिनों में हम दोस्त बन गए एक दूसरे का मोबाइल नंबर भी ले लिया में अब उससे whatapp पर चेट करता मुझे पता चला कि उसका पति एक कंपनी में मार्केटिंग करता था।

जो अपने काम के कारण अधिकतर समय  दूसरे शहर में रहता था। उसने मुझे बताया कि वह आमतौर पर यहां अकेली ही रहती थी। उस एक अच्छे दोस्त की जरूरत थी वह दोस्त उस मुझ में दिखा वह मेरे साथ बहुत सहज महसूस करती थी एक दिन में अपने किसी दोस्त को नॉनवेज जोक्स भेज रहा था कि गलती से वो जोक्स मैने उसको भी सेंड कर दिया उसका कॉल आया क्या लिखा तुमने मैने हिम्मत करके कहा वो तो गलती से आप को सेंड हो गया वो तो में अपने दोस्त को भेज रहा था मेरी ये बोलते हुए डर भी लग रहा था कि कहीं वो मुझ से दोस्ती न दौर ले मगर वो फोन पर हसी तब मेरी जान में जान आई बस फिर क्या था अब हम सेक्स के ऊपर भी बात करने लगे हम दोनों ही चुदाई की आग में जल रहे थे।

और कहानिया   मेरी बहेन को गंडो ने रंडी बनदी

एक दूसरे में समा जाना चाहते थे और लंबा इंतजार नहीं कर सकते थे। एक दिन रविवार को मॉर्निंग वॉक करते हुए उसने मुझे बताया कि उसका पति 3दिन के लिए बहार जा रहा है वह घर में अकेली होगी उसका ये इशारा समझ कर मैने कहा ये 3दिन आप को में जी भर के प्यार करुगा मैने उससे कहा सुबह 9बजे आप के घर आउगा अगले दिन में 8:55 पर उसके घर पहुंचा और दरवाजा खटखटाया उसने दरवाजा खोला और में उसकी सुंदरता से मंत्रमुग्ध हो गया वह स्लीव्स ब्लैक बलौज के साथ उसने पारदर्शी लाल साड़ी पहनी थी बाकी क्या खूबसूरत लग रही थी वो उसकी पतली कमर फिर उसने मेरा वेलकम किया हम दोनों सोफे पर बैठ गए मैने आंटी को अपनी और खींच कर अपनी गोदी में बैठा लिया और उसके होठों पर किस्स करने लगा आंटी ने मुझसे कहा शाम को हमारे पास 8 बजे तक का ही समय है मैने पूछा क्यों तुम तो कह रही थी कि तुम्हारा पति 3दिन के लिए बहार जा रहा है।

उसने मुझसे कहा हम पूरे दिन मजे करे इसलिए नौकरानी को रात में बोला काम पर आने को फिर उसने कहा मेरे लिए कुछ खास बनाया है वह रसोई में गई हाथ में चाकलेट आइस्क्रीम से भरा कटोरा लाई और मुझे खाने को बोला मैने एक चम्मच में आइस्क्रीम ली और खाई तो उसने पूछा कैसी लगी मैने फिर से एक चम्मच आइस्क्रीम मुंह में रखी और उसे अपने पास खीज कर किस्स करने लगा हम दोनों 10मिनिट एक दूसरे को किस्स करने लगे चाकलेट की खुशबू एक अलग ही एहसास करा रही थी उसके बाद आंटी मुझे बेडरूम में ले गई और बिस्तर पर बिठा दिया और कहा मुझे आज ऐसा चोदो की में अपने पति की चुदाई को भी भूल जाऊ बस इतना सुनते ही मैंने आंटी को अपनी ओर खींच लिया और उसके लबों को चूमने लगा। उसने अपनी आँखें बन्द कर लीं और मेरा साथ देने लगी। हम दोनों लगभग दस मिनट तक एक-दूसरे को चूमते रहे, फिर मैंने अपने हाथों को उसके पूरे शरीर पर घुमाना शुरू कर दिया।

और कहानिया   गांव में घाटी ख़ूबसूरत यादें

पहले तो मैंने उसके 34 साइज़ के मम्मों को अपने हाथो में लिया और उनसे खेलने लगा। वो और ज़ोर से मुझे चूमने लगी। फिर मैं अपना हाथ उसकी बलौज के अन्दर डाल कर उसकी पीठ को सहलाने लगा। वो भी मेरी टी-शर्ट के अन्दर हाथ डाल कर मेरी छाती पर हाथ फेरने लगी। मैं अपने हाथ को उसकी बलौज़ में आगे करके ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को मसलने लगा। इतनी देर में वो बहुत गरमा गई और कहने लगी- आज तू मुझे अपनी बना ले, आज मैं तुम्हारे अन्दर समा जाना चाहती हूँ। मैंने आंटी साड़ी खोली अब वो काली ब्रा में मेरे पास बैठी थी और मेरे शरीर से चिपक रही थी।

आंटी मुझे बार-बार बोल रही थी- मुझे किसी मर्द का टच मिले कितना समय हो गया है, आज मैं तुम्हें छोड़ने वाली नहीं हूँ फिर मैंने उसे बिस्तर पर धकेल दिया और खुद उसके पैरों के पास बैठ गया। फिर मैं धीरे-धीरे आंटी के पैरों और जाँघों को सहलाने और चूमने लगा। वो पागलों की तरह बस ‘उम्म उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह.. उम्म..’ ही कर रही थी। मैं धीरे-धीरे आगे की ओर बढ़ते हुए आंटी की पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा। वो मदहोशी में बस ‘उफ्फ़ आहह..’ ही कर रही थी। मैं आंटी के पेट को चूमने लगा और वहाँ पर भी बहुत सारे किस किए। अब ऊपर की ओर बढ़ते हुए मैं आंटी मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही चूमने लगा। आंटी कामुक सिसकारियाँ ले रही थी और मेरी पीठ पर अपने नाख़ून गड़ा रही थी।

मैंने अपना शॉर्ट और टी-शर्ट भी उतार फेंकी और सिर्फ़ अपनी अंडरवियर में था.. जो कि अब तक तो टेंट बन चुका था। मेरा लंड बाहर आने को बेकरार हो रहा था। फिर मैंने आंटी भी ब्रा और पेंटी को उसके खूबसूरत बदन से अलग कर दिया। अह.. मैं तो आंटी के नंगे मम्मों को देख कर जैसे पागल सा हो गया। उसके चूचुक एकदम कड़क हो गए थे। मैंने उसके एक चूचे को अपने मुँह में लिया और दूसरे को अपने हाथों से मसलने लगा।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *